Inspiring Thoughts: डिप्रेशन और फ़्रस्ट्रेशन पर काबू पाने के लिए पाएं नेगेटिव माइंडसेट से छुटकारा

Inspiring Thoughts How To Control Frustration And Depression

Inspiring Thoughts:
मानसिक अवसाद और मेन्टल तनाव को हम हमेशा से जीवन का सामान्य घटना समझने की भूल करते हैं. अक्सर हम इसे अपने दैनिक जीवन और आधुनिक भागदौड़ वाले जीवन की रेस का परिणति मानने की गलती करते हैं. लेकिन सच्चाई यह नहीं है दोस्तों. मानसिक अवसाद और मेन्टल टेंशन का अगर समय रहते समुचित इलाज नहीं किया गया तो यह जानलेवा भी हो सकता हैं.

सफलता के लिए संघर्ष और मिलने वाले बाधाओं से निबटने के लिए  खुद के अंदर  सकारात्मकता ऊर्जाओं  को बढ़ाना बहुत ही जरुरी है. इस दौरान केवल आपकी पॉजिटिव मानसिकता और स्वय के अंदर सकारात्मक  विचारों का सृजन करें. बाहरी दुनिया से लगभग कर जाने और सोशल डिस्टेंस के दौर में यह जरुरी है कि  आप अपने आपको हमेशा सक्रिय रखें और इस  अवधि के दौरान आने वाली कठिनाइयों का सामना करने के लिए खुद्द को मानसिक  रूप से मजबूत बनाये  रखें. 

सच तो यह है कि यह आपके सकारात्मक विचार और मजबूत मानसिकता है जो सीधे आपके व्यक्तित्व और दृढ़ संकल्प शक्ति को तय करनेमें प्रमुख भूमिका निभाते हैं.  दोस्तों आप हमेशा याद रखें कि प्रकृति ने हम सभी के व्यक्तित्व  को एक आइरन मैन की तरह स्ट्रांग क्वालिटी से नवाजकर धरती पर भेजा है.
अब यह हम पर निर्भर करता है कि  हम  अपने आपको अपने   पॉजिटिव विचारों और स्वस्थ मानसिकता को किस हद तक खुद को स्ट्रांग और शक्तिशाली बनाकर रख पाते हैं. 

यह आश्चर्यजनक है कि उन तथ्यों के बावजूद कि हमारे पास अपने विचारों को निर्देशित करने की शक्ति है, हमने अपने दिमाग में सभी नकारात्मक विचारों को उकेरा है. हम मानव ब्रह्मांड के सबसे बुद्धिमान प्राणी होने का दावा करते हैं, लेकिन आश्चर्यजनक रूप से  सच्चाई यह है कि-We Know the Right but do the Wrong .

हम में से हर कोई इस तथ्य को जानता है कि यह हमारी मानसिकता हीं  जो हमारे कार्यों पर हावी है और हमारे कर्मों के परिणाम में परिलक्षित होती है. 

प्रसिद्ध व्यक्तित्व रतन टाटा का उद्धरण  यहां उल्लेख करना उपयुक्त होगा कि-कोई भी लोहे को नष्ट नहीं कर सकता है,बल्कि यह जंग हीं है जो इसे खा सकता है और बर्बाद कर सकता है.  इसी तरह, एक व्यक्ति को अगर कोई नष्ट कर सकता है तो सिर्फ और सिर्फ उसकी सोच और नकारात्मक मानसिकता हो सकती है.

आपके आसपास के नकारात्मक विचार और कुछ नहीं बल्कि आपकी खुद के अंदर उत्पन्न नकारात्मक मानसिकता की देन  है. आप इस तरह के विचारों के निर्माता आप खुद होते हैं और आपने अपने मन में जिस प्रकार के सोच और मानसिकता को पालते हैं, भविष्य में वही आपकी व्यक्तित्व बन जाती है. 

याद रखें, आप अपनी परिस्थितियों के निर्माता हैं और निश्चित रूप से आपकी सहमति के बिना, नकारात्मक विचार आपकी मानसिकता को भला कैसे बदल सकते हैं ...यदि आप केवल सकारात्मक विचारों और प्रेरक मानसिकता से लैस हैं, तो आपके स्पर्श में आया ऐसा निराशावादी व्यक्ति आशावादी व्यक्ति में बदल जाएगा ...निश्चित रूप से, शुरू में इसे लागू करना मुश्किल होगा, लेकिन याद रखें, यह असंभव नहीं है.

याद रखें, एक बार ऐसा समय आएगा जब लोग आपके सकारात्मक दृष्टिकोण और आपकी मानसिकता को लोग अनुसारण करेंगे और अपनी खुद की नकारात्मक मानसिकता को भूल जाएं साथ ही आप आयरन मैन के साथ स्ट्रांग माइंडसेट के लिए रोल मॉडल बन जाएंगे.

भारत गौरव पर्यटक ट्रेन श्री जगन्नाथ यात्रा के साथ घूमें कोणार्क, भुवनेश्वर, काशी, बैद्यनाथ और गया: जाने किराया और अन्य जानकारी

Bharat Gaurav Train Jagannath Yatra Know Fair and Others

भारत गौरव पर्यटक ट्रेन "श्री जगन्नाथ यात्रा" के माध्यम से आप 8 दिनों के अंदर भारत के चार धामों में से एक यानी पुरी के जगन्नाथ मंदिर के दर्शन साथ ही आप  वाराणसी, बैद्यनाथ धाम, कोणार्क और गया यात्रा का आनंद उठा सकते हैं।

भारत गौरव पर्यटक ट्रेन "श्री जगन्नाथ यात्रा" को दिल्ली सफदरजंग रेलवे स्टेशन से इसके शुभ दौरे पर रेल और संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव और पर्यटन, संस्‍कृति एवं  पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास मंत्री श्री जी किशन रेड्डी के साथ शिक्षा, कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान द्वारा झंडी दिखाकर रवाना किया । 


8 दिवसीय भारत गौरव पर्यटक ट्रेन यात्रा का पहला पड़ाव प्राचीन पवित्र शहर वाराणसी में है, जहां पर्यटक गंगा घाट के साथ काशी विश्वनाथ मंदिर और गलियारे का भ्रमण करेंगे। 

वाराणसी के बाद ट्रेन झारखंड के जसीडीह रेलवे स्टेशन पहुंचेगी और पर्यटक बैद्यनाथ धाम ज्योतिर्लिंग मंदिर के दर्शन करेंगे। आगे ट्रेन जसीडीह से पुरी के लिए रवाना होगी जहां होटलों में उनके लिए दो रात ठहरने की व्यवस्था की गई है। 

इस दौरान पुरी में पर्यटक जगन्नाथ मंदिर, गोल्डन पुरी समुद्र तट, कोणार्क में सूर्य मंदिर और भुवनेश्वर के मंदिरों की यात्रा करेंगे। पुरी के बाद गया आखिरी गंतव्य होगा जहां विष्णुपद मंदिर के दर्शन यात्रा में शामिल होंगे। ट्रेन 1 फरवरी 2023 को वापस दिल्ली लौटेगी।

अत्याधुनिक एसी डिब्बों वाली इस टूरिस्ट ट्रेन में यात्रा के दौरान गाजियाबाद, अलीगढ़, टूंडला, इटावा, कानपुर और लखनऊ स्टेशनों पर ट्रेन में चढ़ने/उतरने का विकल्प है।

भली भांति सुसज्जित आधुनिक पेंट्री कार से मेहमानों को ताजा पका हुआ शाकाहारी भोजन परोसा जाएगा। ट्रेन में यात्रियों के मनोरंजन के साथ-साथ सार्वजनिक घोषणाओं के लिए इंफोटेनमेंट सिस्टम भी लगाया गया है। प्रत्येक कोच में स्वच्छ शौचालय से लेकर उन्नत सुरक्षा सुविधाओं के लिए सीसीटीवी कैमरे और सुरक्षा गार्ड भी प्रदान किए गए हैं।

भारत गौरव पर्यटक ट्रेन की शुरुआत घरेलू पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार की पहल "देखो अपना देश" के अनुरूप है। 17,655 रुपये प्रति व्यक्ति से शुरू होने किराए के साथ पर्यटक ट्रेन एक ऑल इनक्लूसिव टूर पैकेज है जिसमें  थर्ड एसी में ट्रेन यात्रा, होटलों में रात का ठहराव, सभी भोजन (केवल शाकाहारी), बसों से आना जाना और दर्शनीय स्थलों का भ्रमण, यात्रा बीमा और गाइड की सेवाएं शामिल हैं। स्वास्थ्य से जुड़े सभी एहतियाती उपायों का ध्यान रखा जा रहा है।

केंद्रीय बजट 2023-24 और हलवा समारोह: जानें खास बातें

Union Budget 2023-24 commences with Halwa Ceremony

केंद्रीय बजट और  हलवा समारोह का पुराना नाता  रहा है और सच्चाई तो यह है कि यह केंद्रीय बजट को तैयार करने की प्रक्रिया का एक प्रमुख हिस्सा होता है. आज अर्थात 26  जनवरी 2023 को केंद्रीय बजट 2023-24 तैयार करने की प्रक्रिया के अंतिम चरण को रेखांकित करने वाला हलवा समारोह आज दोपहर नॉर्थ ब्लॉक में; केंद्रीय वित्त और कॉर्पोरेट कार्य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण तथा केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री श्री पंकज चौधरी और डॉ. भागवत किसनराव कराड की उपस्थिति में आयोजित किया गया।

उल्लेखनीय है कि बजट तैयार करने की "लॉक-इन" प्रक्रिया शुरू होने से पहले हर साल प्रथा के तौर पर हलवा समारोह आयोजित किया जाता है।

पिछले दो केंद्रीय बजटों के समान, केंद्रीय बजट 2023-24 भी कागज रहित रूप में प्रस्तुत किया जाएगा। केंद्रीय बजट 2023-24; 1 फरवरी, 2023 को पेश किया जाना है।

संविधान के निर्देशों के तहत वार्षिक वित्तीय विवरण (आमतौर पर बजट के रूप में जाना जाता है), अनुदान मांग (डीजी), वित्त विधेयक समेत सभी 14 केंद्रीय बजट दस्तावेज "केन्द्रीय बजट मोबाइल ऐप" पर उपलब्ध होंगे, ताकि डिजिटल सुविधा के सरलतम रूप का उपयोग करके संसद सदस्य (सांसद) और आम जनता आसानी से बजट दस्तावेजों तक पहुंच सकें। यह दो भाषाओँ (अंग्रेजी और हिंदी) में है तथा एंड्रॉइड और आईओएस दोनों प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध होगा। ऐप को केंद्रीय बजट वेब पोर्टल (www.indiabudget.gov.in) से भी डाउनलोड किया जा सकता है।

वित्त मंत्री द्वारा 1 फरवरी, 2023 को संसद में बजट भाषण पूरा करने के बाद, बजट दस्तावेज मोबाइल ऐप पर उपलब्ध होंगे।

हलवा समारोह में, केंद्रीय वित्त मंत्री के साथ डॉ. टी.वी. सोमनाथन, वित्त सचिव और व्यय सचिव; श्री अजय सेठ, सचिव, आर्थिक कार्य; श्री तुहिन कांता पाण्डेय, सचिव, दीपम; श्री संजय मल्होत्रा, सचिव, राजस्व; डॉ. अनंत वी. नागेश्वरन, मुख्य आर्थिक सलाहकार; श्री नितिन गुप्ता, अध्यक्ष, केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी); श्री विवेक जौहरी, अध्यक्ष, केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी); और श्री आशीष वछानी, अपर सचिव (बजट) तथा बजट तैयार करने और संकलन प्रक्रिया में शामिल वित्त मंत्रालय के अन्य अधिकारी और कर्मचारी भी उपस्थित थे।

समारोह के हिस्से के रूप में, वित्त मंत्री ने बजट प्रेस का भी दौरा किया और तैयारियों की समीक्षा करने के अलावा संबंधित अधिकारियों को अपनी शुभकामनाएं दीं।