Showing posts with label Tourist Places. Show all posts
Showing posts with label Tourist Places. Show all posts

शालबुग वेटलैंड कंजर्वेशन रिजर्व (जम्मू कश्मीर) जहाँ है चार लाख से अधिक पक्षियों का आश्रय : Facts in Brief

Shallbugh Wetland Conservation Reserve Facts in Brief

Shallbugh Wetland Conservation Reserve: शालबुग वन्यजीव संरक्षण/वेटलैंड रिजर्व, झेलम नदी बेसिन के भीतर आने वाले बहुत महत्वपूर्ण वेटलैंड संरक्षण रिजर्व में से एक है। शल्लाबुग वेटलैंड संरक्षण रिजर्व जम्मू-कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेश श्रीनगर जिले में स्थित है। यह कश्मीर हिमालय का एक महत्वपूर्ण जलीय पारिस्थितिकी तंत्र है और 1675 हेक्टेयर क्षेत्र को कवर करता है।

क्या होता है वेटलैंड या आर्द्रभूमि?

वेटलैंड या आर्द्रभूमि वास्तव में ऐसे क्षेत्र होते हैं जहाँ पर्यावरण और संबंधित पौधे व पशु जीवन को नियंत्रित करने वाला प्राथमिक कारक क्षेत्र में उपलब्ध जल को माना जाता है। दूसरे शब्दों में हम कह सकते हैं कि वेटलैंड या आर्द्रभूमि ऐसे क्षेत्र होते हैं जहाँ पानी की मात्रा इतनी अधिक होती है कि यह मिट्टी को संतृप्त कर देती है या इसे उथले पानी से ढक देती है.आर्द्रभूमि स्थलीय और जलीय पारिस्थितिकी प्रणालियों के बीच संक्रमणकालीन भूमि होती है जहाँ जल आमतौर पर सतह पर होता है या भूमि उथले पानी से ढकी होती है।

इसी के अंतर्गत आता है जो शालबुग वेटलैंड कंजर्वेशन रिजर्व केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर के श्रीनगर  जिले में स्थित है। आर्द्रभूमि के बड़े क्षेत्र सितंबर और मार्च के बीच सूख जाते हैं। इस क्षेत्र में फ्राग्माइट्स कम्युनिस और टायफा अंगुस्ताता के बड़े स्‍तर पर रीडबेड हैं, और खुले पानी पर निम्फिया कैंडिडा और एन स्टेलाटा की समृद्ध वृद्धि है। 

  • यह कम से कम 21 प्रजातियों के चार लाख से अधिक स्‍थानिक और प्रवासी पक्षियों के आश्रय के रूप में कार्य करता है। 
  • वेटलैंड की औसत ऊंचाई 1580 मीटर एएमएसएल है।
  • यह कम से कम 21 प्रजातियों के चार लाख से अधिक निवासी और प्रवासी पक्षियों के निवास स्थान के रूप में कार्य करता है।
  •   यह कश्मीर हिमालय का एक महत्वपूर्ण जलीय पारिस्थितिकी तंत्र है और 1675 हेक्टेयर क्षेत्र को कवर करता है।

वर्ल्ड वेटलैंड्स डे: महत्व, रामसर साइटों की संख्या और जाने अन्य खास बातें

शालबुग वेटलैंड प्राकृतिक नियंत्रण, सुधार या बाढ़ की रोकथाम में एक प्रमुख भूमिका निभाता है, यह आर्द्रभूमि या डाउनस्ट्रीम संरक्षण महत्व के अन्य क्षेत्रों के लिए मौसमी जल प्रतिधारण के लिए भी महत्वपूर्ण है।

75 वेटलैंड बर्ड्स सैंक्चुअरी :  रामसर स्‍थलों की सूची में 11 और आर्द्रभूमि जुड़ीं, पाएं विस्तृत जानकारी 

आर्द्रभूमि जलाशयों के फिर से भरने के लिए महत्वपूर्ण है। यह एक प्रमुख प्राकृतिक बाढ़ क्षेत्र प्रणाली के रूप में भी कार्य करती है। 

शालबुग वेटलैंड अत्‍याधिक पारिस्थितिकी तंत्र सेवाएं प्रदान करती है, इनमें मछली और फाइबर, जल आपूर्ति, जल शोधन, जलवायु विनियमन, बाढ़ विनियमन, मनोरंजन के अवसर शामिल हैं। 

मन की बात: मिलिए इन हीरो से जिनका चर्चा प्रधानमंत्री ने किया ऐतिहासिक प्रस्तुति में

आर्द्रभूमि जलपक्षियों की कई प्रजातियों के लिए एक महत्वपूर्ण प्रजनन स्थल के रूप में भी कार्य करती है।

वेटलैंड्स से होने वाले लाभ क्या हैं? 
जल संरक्षण: वेटलैंड्स पानी को अवशोषित और संग्रहीत करते हैं, जिससे बाढ़ और सूखे को कम करने में मदद मिलती है.
जल शोधन:वेटलैंड्स पानी को प्रदूषण से मुक्त करते हैं, जिससे पीने के पानी की गुणवत्ता में सुधार होता है.
जैव विविधता का संरक्षण: वेटलैंड्स कई प्रजातियों के पौधों और जानवरों का घर हैं, जिनमें कुछ प्रजातियां विलुप्त होने के खतरे में हैं.

मनोरंजन: वेटलैंड्स लोगों के लिए मनोरंजन और शिक्षा के लिए एक लोकप्रिय स्थान हैं.

लक्ष्य द्वीप: जानें इतिहास, पर्यटन स्थल, कैसे जाएँ, जाने का अनुकूल महीना और भी बहुत कुछ


लक्षद्वीप भारत का एक केंद्र शासित प्रदेश है जो अरब सागर में स्थित है। यह 36 द्वीपों से बना है, जिनमें से 11 द्वीपों पर रहने वाले लोग हैं। मलयालम और संस्कृत में लक्षद्वीप का अर्थ है ‘एक सौ हजार द्वीप।  लक्ष्द्वीप का इतिहास प्राचीन काल से चला आ रहा है। लक्ष्यदीप के ऐतिहासिक महत्त्व पर नजर डालें तो ऐसी प्रमाण है है कि इस क्षेत्र पर कई सभ्यताओं ने शासन किया है, जिनमें चोल, चोल और पुर्तगाली शामिल हैं। 

लक्षद्वीप क्यों प्रसिद्ध है?
भारत वन राज्य रिपोर्ट 2021 के अनुसार, लक्षद्वीप में वन क्षेत्र 27.10 वर्ग किमी है। जो कि इसके भौगोलिक क्षेत्रफल का 90.33 प्रतिशत है। लगभग 82 प्रतिशत भूभाग निजी स्वामित्व वाले नारियल के बागानों से आच्छादित है लक्षद्वीप का पिट्टी द्वीप भारतीय वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम 1972 के तहत पक्षी अभयारण्य लिए प्रसिद्ध है।

यह एक यूनियन संघ शाषित राज्य क्षेत्र है और इसमें 12 एटोल, तीन रीफ, पांच जलमग्न बैंक और दस बसे हुए द्वीप हैं। द्वीपों में 32 वर्ग किमी शामिल हैं राजधानी कवरत्ती है और यह यूटी के प्रमुख शहर भी है।


लक्षद्वीप के पर्यटन स्थल

अगाती द्वीप: अगाती द्वीप लक्ष्द्वीप का सबसे बड़ा द्वीप है। यह अपनी सुंदर समुद्र तटों, पारंपरिक संस्कृति और समृद्ध इतिहास के लिए जाना जाता है। अगाती द्वीप पर कई पर्यटन आकर्षण हैं, जिनमें शामिल हैं:

बंगारम

बांगरम एक छोटे टिड्ड्रॉप आकार का द्वीप है, जो अग्टाटी और कवड़ती के करीब है।  थिन्नकरा और परली के दो छोटे द्वीप भी वही लैगून द्वारा संलग्न बांगरम के करीब स्थित हैं। इस रिजॉर्ट के मेहमान अग्टाटी से नाव हस्तांतरण या हेलीकाप्टर ट्रांसफर का लाभ ले सकते हैं। लक्षद्वीप में एकमात्र निर्जन द्वीप सहारा होने के कारण इसे अपना आकर्षण मिला है। विख्यात विशेष पर्यटकों के लिए एक आदर्श गंतव्य, बांगरम ने अंतरराष्ट्रीय पर्यटक मानचित्र में अपनी उपस्थिति बना ली है।

मंजेरी बीच: यह लक्ष्द्वीप का सबसे लोकप्रिय समुद्र तट है। यह अपनी सफेद रेत, नीले पानी और शांत वातावरण के लिए जाना जाता है।

अगाती लाइटहाउस: यह द्वीप का सबसे पुराना लाइटहाउस है। यह 1889 में बनाया गया था।

अगाती मस्जिद: यह द्वीप की सबसे बड़ी मस्जिद है। यह 17 वीं शताब्दी में बनाया गया था।

मिनिकॉय द्वीप: मिनिकॉय द्वीप लक्ष्द्वीप का सबसे दक्षिणी द्वीप है। यह अपनी समृद्ध संस्कृति और विदेशी वातावरण के लिए जाना जाता है। यह 10.6 किमी लंबा है और एंड्रट के बाद दूसरा सबसे बड़ा द्वीप है. ब्रिटिश द्वारा 1885 में बनाया गया एक 300 फुट लंबा लाइटहाउस एक शानदार मील का पत्थर है। 

मिनिकॉय द्वीप पर कई पर्यटन आकर्षण हैं, जिनमें शामिल हैं:

चार्ली बीच: यह द्वीप का सबसे लोकप्रिय समुद्र तट है। यह अपनी सफेद रेत, नीले पानी और शांत वातावरण के लिए जाना जाता है।

मिनिकॉय लाइटहाउस: यह द्वीप का सबसे ऊँचा लाइटहाउस है। यह 1885 में बनाया गया था।

मिनिकॉय बाजार: यह द्वीप का सबसे बड़ा बाजार है। यह अपने पारंपरिक हस्तशिल्प, व्यंजनों और संस्कृति के लिए जाना जाता है।

कवारात्टी द्वीप: कवात्ती प्रशासन का मुख्यालय और सबसे विकसित द्वीप है द्वीप पर 52 मस्जिद फैले हुए हैं, उज्रा मस्जिद सबसे सुंदर है।

 कवारात्टी द्वीप लक्ष्द्वीप का दूसरा सबसे बड़ा द्वीप है। यह अपनी प्राचीन संस्कृति और समृद्ध इतिहास के लिए जाना जाता है। कवारात्टी द्वीप पर कई पर्यटन आकर्षण हैं, जिनमें शामिल हैं: 

कवारात्टी बीच: यह द्वीप का दूसरा सबसे लोकप्रिय समुद्र तट है। यह अपनी सफेद रेत, नीले पानी और शांत वातावरण के लिए जाना जाता है।

कवारात्टी किला: यह 17 वीं शताब्दी में बनाया गया एक पुर्तगाली किला है।

कवारात्टी मस्जिद: यह द्वीप की दूसरी सबसे बड़ी मस्जिद है। यह 16 वीं शताब्दी में बनाया गया था।

लक्षद्वीप कैसे जाएँ

लक्षद्वीप भारत के दक्षिणी तट से लगभग 300 किलोमीटर दूर स्थित है। आप लक्ष्द्वीप के लिए सीधी उड़ान या जहाज से यात्रा कर सकते हैं।

लक्षद्वीप जाने का अनुकूल महीना

लक्षद्वीप जाने का सबसे अच्छा समय नवंबर से मार्च के बीच है। इस दौरान मौसम सुहावना रहता है और बारिश कम होती है।


भारत की समृद्ध विरासत का संरक्षण: अयोध्या में राम मंदिर, सोमनाथ, काशी विश्वनाथ,चारधाम और अन्य

Indian Heritage Somnath Mahakal Kedarnath Ram Temple Kartar Sahib

भारत अपने समृद्ध इतिहास और सांस्कृतिक विविधता से परिपूर्ण देश है। देश में अनेक अत्यधिक महत्वपूर्ण प्राचीन स्थल और विरासत स्मारक मौजूद हैं। भारत सरकार ने देश की कालातीत और समृद्ध सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण के महत्व को स्वीकार किया है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सरकार ने 'विकास भी विरासत भी' के नारे के तहत यह प्रयास किया है। प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारतीय ज्ञान प्रणालियों, परंपराओं और सांस्कृतिक लोकाचार को संरक्षित करने और बढ़ावा देने के कार्य को अत्यधिक महत्व दिया है।

सभ्यतागत महत्व के उपेक्षित स्थलों का पुनर्विकास करना सरकार की महत्वपूर्ण उपलब्धियों में से एक है। मई 2023 तक, सरकार द्वारा भारत की प्राचीन सभ्यता की विरासत को संरक्षित करने के लिए अपनी अटूट प्रतिबद्धता दर्शाते हुए देश भर में तीर्थ स्थलों को कवर करने वाली 1584.42 करोड़ रुपये की लागत वाली कुल 45 परियोजनाओं को प्रसाद (पीआरएएसएडी) यानी (तीर्थयात्रा कायाकल्प और आध्यात्मिक संवर्धन अभियान) योजना के तहत अनुमोदित किया गया है।

काशी विश्वनाथ कॉरिडोर 

कई दशकों की उपेक्षा के बाद, भारत के लंबे सभ्यतागत इतिहास वाले विभिन्न स्थलों को संरक्षण, पुनरुद्धार और विकास परियोजनाओं के माध्यम से पुनर्जीवित किया गया है। काशी विश्वनाथ कॉरिडोर और वाराणसी में कई अन्य परियोजनाओं ने शहर की गलियों, घाटों और मंदिर परिसरों को बदल दिया है। 

महाकाल परियोजना

इसी तरह, उज्जैन में महाकाल लोक परियोजना और गुवाहाटी में मां कामाख्या कॉरिडोर जैसी परियोजनाओं से मंदिर आने वाले तीर्थयात्रियों के अनुभव को समृद्ध करने, उन्हें विश्व स्तरीय सुविधाएं प्रदान करने के साथ-साथ पर्यटन और स्थानीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है।

अयोध्या में राम मंदिर

एक ऐतिहासिक क्षण में, अगस्त 2020 में अयोध्या में राम मंदिर के लिए भूमिपूजन हुआ और एक भव्य मंदिर का निर्माण जोरों पर है।

चारधाम सड़क परियोजना

एक अन्य उल्लेखनीय प्रयास के तहत 825 किमी लंबी चारधाम सड़क परियोजना है, जो चार पवित्र धामों को निर्बाध बारहमासी सड़क संपर्क प्रदान करती है। प्रधानमंत्री ने इससे पहले 2017 में केदारनाथ में पुनर्निर्माण और विकास परियोजनाओं की आधारशिला रखी थी, जिसमें श्री आदि शंकराचार्य की समाधि भी शामिल थी, जो 2013 की विनाशकारी बाढ़ में तबाह हो गई थी। नवंबर 2021 में, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने केदारनाथ में श्री आदि शंकराचार्य की समाधि पर उनकी मूर्ति का अनावरण किया था। इसके अतिरिक्त, गौरीकुंड को केदारनाथ और गोविंदघाट को हेमकुंड साहिब से जोड़ने वाली दो रोपवे परियोजनाएं पहुंच को और बढ़ाने और भक्तों की आध्यात्मिक यात्रा को सुविधाजनक बनाने के लिए तैयार हैं।

सोमनाथ में कई परियोजनाओं का उद्घाटन

सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित करने के लिए सरकार के समर्पण के एक और उदाहरण में, प्रधानमंत्री ने गुजरात के सोमनाथ में कई परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया, जिसमें सोमनाथ प्रोमेनेड, सोमनाथ प्रदर्शनी केंद्र और पुराने (जूना) सोमनाथ के पुनर्निर्मित मंदिर परिसर शामिल हैं। 

करतारपुर कॉरिडोर 

इसी तरह, करतारपुर कॉरिडोर और एकीकृत चेक पोस्ट का उद्घाटन एक महत्वपूर्ण अवसर था, जिससे श्रद्धालुओं के लिए पाकिस्तान में पवित्र गुरुद्वारा करतारपुर साहिब में मत्था टेकना आसान हो गया।

बौद्ध सांस्कृतिक विरासत का संरक्षण: बौद्ध सर्किट

हिमालयी और बौद्ध सांस्कृतिक विरासत का संरक्षण करना भी सरकार के प्रयासों में विशेष रूप से शामिल है। स्वदेश दर्शन योजना के हिस्से के रूप में, सरकार ने भारत की विविध सांस्कृतिक विरासत को दर्शाने वाले विषयगत सर्किट विकसित करने के उद्देश्य से 76 परियोजनाएं शुरू की हैं। बौद्ध सर्किट के लिए विश्वस्तरीय इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास पर ध्यान केंद्रित किया गया है, जिससे भक्तों के लिए बेहतर आध्यात्मिक अनुभव सुनिश्चित हुआ है। 2021 में, कुशीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे का उद्घाटन किया गया, जिससे महापरिनिर्वाण मंदिर तक आसानी से पहुंचा जा सके। पर्यटन मंत्रालय उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, गुजरात और आंध्र प्रदेश सहित विभिन्न राज्यों में बौद्ध सर्किट के तहत सक्रिय रूप से स्थलों का विकास कर रहा है। 

इसके अलावा, श्री नरेंद्र मोदी ने मई 2022 में नेपाल के लुंबिनी में तकनीकी रूप से उन्नत भारत अंतरराष्ट्रीय बौद्ध संस्कृति और विरासत केंद्र की आधारशिला रखी थी, जो बौद्ध विरासत और भारत की सांस्कृतिक विविधता के संरक्षण और संवर्धन के लिए सरकार की प्रतिबद्धता को उजागर करता है।

पुरावशेषों  की वापसी 

पुरावशेषों की वापसी के माध्यम से भारत की सांस्कृतिक विरासत को भी महत्वपूर्ण बढ़ावा मिला। 24 अप्रैल, 2023 तक, भारतीय मूल के 251 अमूल्य पुरावशेषों को विभिन्न देशों से वापस प्राप्त किया गया है, जिनमें से 238 को 2014 के बाद से वापस लाया गया है। भारत के अमूल्य पुरावशेषों की वापसी देश के सांस्कृतिक खजाने की सुरक्षा और पुनः प्राप्ति के लिए सरकार की प्रतिबद्धता का एक सशक्त प्रमाण है।

हृदय (हेरिटेज सिटी डेवलपमेंट एंड ऑग्मेंटेशन योजना) योजना

हृदय (हेरिटेज सिटी डेवलपमेंट एंड ऑग्मेंटेशन योजना) योजना के तहत 12 विरासत शहरों का विकास एक असाधारण विरासत के संरक्षक के रूप में खुद को स्थापित करने की सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। भारत प्रभावशाली 40 विश्व विरासत स्थलों का दावा करता है, जिनमें से 32 सांस्कृतिक हैं, 7 प्राकृतिक हैं, और 1 मिश्रित श्रेणी के अंतर्गत है, जो भारत की विरासत की विविधता और समृद्धि को प्रदर्शित करता है। पिछले नौ वर्षों में ही विश्व विरासत स्थलों की सूची में 10 नए स्थलों को जोड़ा गया है। इसके अतिरिक्त, भारत की अस्थायी सूची 2014 में शामिल 15 साइटों से बढ़कर 2022 में 52 हो गई है, जो भारत की सांस्कृतिक विरासत की वैश्विक मान्यता और बड़ी संख्या में विदेशी यात्रियों को आकर्षित करने की क्षमता का संकेत है।

'काशी तमिल संगमम'

भारत की सांस्कृतिक समृद्धि को महीने भर चलने वाले 'काशी तमिल संगमम' के माध्यम से भी प्रदर्शित किया गया - जो कि उत्तर प्रदेश के वाराणसी में आयोजित किया गया था, जिसका उद्देश्य तमिलनाडु और काशी के बीच सदियों पुराने संबंधों का जश्न मनाना, देश के शिक्षण के 2 सबसे महत्वपूर्ण स्थानों फिर से पुष्टि करना और उन्हें खोजना है। ऐसे कार्यक्रमों के माध्यम से, सरकार एक भारत श्रेष्ठ भारत के विचार को सशक्त रूप से बढ़ावा देती है, जिसका उद्देश्य देश की संस्कृति का जश्न मनाना है। हाल ही में, देश भर के सभी राज्यों के सभी राजभवनों द्वारा राज्य दिवस मनाने का निर्णय भी एक भारत श्रेष्ठ भारत की भावना को उजागर करता है।

इन सभी महत्वाकांक्षी परियोजनाओं और पहलों के माध्यम से, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के दृष्टिकोण से निर्देशित भारत सरकार ने देश की सांस्कृतिक विरासत को बढ़ावा देने और संरक्षित करने के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। वे देश की समृद्ध संस्कृति के प्रति गहरी जागरूकता और इसकी विरासत को संरक्षित करने की दृढ़ प्रतिबद्धता को दर्शाते हैं। सरकार का उद्देश्य भारत के सांस्कृतिक और आध्यात्मिक खजाने की रक्षा और प्रचार करके, भारतीय इतिहास और संस्कृति की वर्तमान और भावी पीढ़ियों की समझ को समृद्ध करना है। अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों की बढ़ती संख्या को आकर्षित करने की क्षमता और विरासत स्थलों को पुनर्जीवित करने के चल रहे प्रयासों के साथ, भारत की प्राचीन सभ्यता और सांस्कृतिक परंपराएं वैश्विक मंच पर चमकती रहेंगी।

(लेखक: नानू भसीन, अपर महानिदेशक; ऋतु कटारिया, सहायक निदेशक, पत्र सूचना कार्यालय; और अपूर्वा महिवाल, यंग प्रोफेशनल, अनुसंधान इकाई, PIB)

(Source: PIB)

तंपारा झील ओडिशा: पक्षियों की 60, मछलियों की 46 और फाइटोप्लांकटन की 48 प्रजातियों से पूर्ण, जाने क्या है खासियत और कैसे पहुंचे ?

Tampara Lake freshwater lakes Odisha Facts In Brief

तंपारा झील भारत के ओडिशा राज्य के गंजम जिले में स्थित एक मीठे पानी की झील है जो लगभग 300 हेक्टेयर क्षेत्र में फैली हुई है. यह रुशिकुल्या नदी के दाहिने किनारे पर स्थित है जो एक प्राकृतिक स्थल होने के साथ ही यह महत्वपूर्ण पक्षी विहार और एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल हैतंपारा झील एक महत्वपूर्ण पक्षी विहार है और यहां पर कई प्रजातियों के पक्षी पाए जाते हैं. यह झील एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल भी है और यहां पर लोग तैराकी, बोटिंग और मछली पकड़ने का आनंद लेते हैं. झील के किनारे पर कई होटल और रेस्तरां हैं, जहां पर लोग भोजन और आराम कर सकते हैं.

तंपारा झील: भारत में स्वतंत्रता के 75वें वर्ष में देश में 13,26,677 हेक्टेयर क्षेत्र को कवर करते हुए कुल 75 रामसर स्थलों को बनाने के लिए रामसर स्‍थलों की सूची में 11 और आर्द्रभूमि शामिल हो गई हैं। रामसर स्थलों के रूप में नामित 11 आर्द्रभूमियों में से  ओडिशा स्थित तंपारा झील भी शामिल है. 

तंपारा झील: Facts in Brief 

तंपारा झील गंजम जिले में स्थित ओडिशा राज्य की सबसे प्रमुख मीठे पानी की झीलों में से एक है। यहां की भूमि का क्षेत्र धीरे-धीरे वर्षा जल के प्रवाह से भर गया और इसे अंग्रेजों द्वारा "टैम्प" कहा गया और बाद में स्थानीय लोगों द्वारा इसे "तंपारा" कहा गया।

आर्द्रभूमि पक्षियों की कम से कम 60 प्रजातियों, मछलियों की 46 प्रजातियों, फाइटोप्लांकटन की कम से कम 48 प्रजातियों और स्थलीय पौधों और मैक्रोफाइट्स की सात से अधिक प्रजातियों का पालन करती है। 

तंपारा झील एक महत्वपूर्ण पक्षी विहार है. यहां पर कई प्रजातियों के पक्षी पाए जाते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • सारस
  • बगुला
  • हंस
  • कबूतर
  • तोता
  • मैना
  • कोयल
  • मोर
  • चकवा
  • बतख

आर्द्रभूमि दुर्लभ प्रजातियों जैसे कि साइप्रिनस कार्पियो, कॉमन पोचार्ड (अथ्या फेरिना), और रिवर टर्न (स्टर्ना औरंतिया) के लिए एक महत्वपूर्ण निवास स्थान है। प्रति वर्ष 12 टन की अनुमानित औसत मछली उपज के साथ, आर्द्रभूमि स्थानीय समुदायों के लिए आजीविका का एक महत्वपूर्ण स्रोत है।

 यह आर्द्रभूमि मछलियों के साथ-साथ कृषि और घरेलू उपयोग के लिए पानी जैसे प्रावधान की सेवाएं भी उपलब्‍ध कराती है और यह एक प्रसिद्ध पर्यटन और मनोरंजन स्थल भी है।

तम्पारा  झील: जाने क्या है खासियत? 

तम्पारा  एक मीठे पानी की झील है जो राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या  5 के निकट (छत्रपुर से) सुंदर में स्थित है. तंपारा झील की सबसे बड़ी खासियत है कि इसके  किनारे पर हल्की लहरें उठती हैं और या वाटर सम्बंधित गतिविधियों के लिए शानदार डेस्टिनेशन है,तट के किनारे स्थित काजू के बागानों से होकर बंगाल की खाड़ी के अविर्जिन समुद्र तट तक जाने वाली रोमांचक यात्रा का आनंद भी आप उठा सकते हैं. 

FAQ

पर्यटकों के लिए तम्पारा पहुँचने के लिए किस प्रकार के मार्ग उपलब्ध है?

हवाईजहाज

अगर आप हवाईजहाज से जाना चाहते हैं तो निकटतम हवाई अड्डा भुवनेश्वर है.

 ट्रेन से

अगर आप ट्रेन से तम्पारा पहुंचना चाहते हैं तो निकटतम रेलवे स्टेशन छत्रपुर है.

सड़क द्वारा 

अगर आप सड़क द्वारा जाना चाहते हैं तो सड़क मार्ग से यह छत्रपुर से 4 किमी दूर है.

G-20 की मेजबानी के लिए सजी दिल्ली: देखें खूबसूरती की झलकियां

 जी-20 समिट के लिए दिल्ली पूरी तरह से सजकर तैयार है। केजरीवाल सरकार और एमसीडी ने राष्ट्रीय राजधानी में आने वाले विदेशी मेहमानों का दिल जीतने के लिए अपनी तैयारियों में कोई कसर नहीं छोड़ी है।



केजरीवाल सरकार और दिल्ली नगर निगम की तरफ से जी-20 की तैयारियों को अंतिम रूप देने के बाद बुधवार को पीडब्ल्यूडी मंत्री आतिशी और शहरी विकास मंत्री ने दिल्ली सचिवालय में प्रेसवार्ता कर यह जानकारी साझा की।



 दिल्ली को खूबसूरत और आकर्षक बनाने के लिए सरकार ने यूरोपियन स्टैंडर्ड की कई नई सड़कें बनाई है और प्रमुख सड़कों को रीडिजाइन कर उनका सौंदर्यीकरण किया है।



 विभिन्न सड़कों पर आकर्षक विशाल मूर्तियां और फब्बारे लगवाए गए हैं।



 साथ ही, विभिन्न प्रकार के डेढ़ लाख से अधिक खूबसूरत पौधों से सड़कों को सजा दिया है और अब दिल वालों की दिल्ली’ आने वाले अपने विदेशी मेहमानों का स्वागत करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। 





दिल्ली की पीडब्ल्यूडी मंत्री आतिशी ने बताया कि दिल्ली जी-20 के लिए पूरी तरह से तैयार है। दिल्ली सरकार द्वारा जी-20 के डेलीगेट्स को रिसीव करने के लिए सारी तैयारियां कर ली गई हैं। 



दिल्ली और देशवासियों के लिए यह बहुत ही खुशी का मौका है। क्योंकि हमारे देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में दुनिया भर के बड़े-बड़े देशों के प्रतिनिधि आ रहे हैं। 




आज दिल्ली उन सभी का स्वागत करने के लिए तैयार है।  इस बात का पूरा भरोसा है कि दिल्ली जी-20 के सभी डेलीगेट्स का दिल जीत लेगी।


हाइगम आर्द्रभूमि संरक्षण रिजर्व-जम्मू-कश्मीर: Facts in Brief

Hygam Wetland Conservation Reserve Facts in Brief

Hygam Wetland Conservation Reserve:
 हाइगम वेटलैंड (आर्द्रभूमि) झेलम नदी बेसिन के भीतर आता है  जो संघ शासित प्रदेश की ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर से 40 किमी दूर स्थित है. यह जम्मू-कश्मीर के जिला बारामूला  में 1580 मीटर asl की ऊंचाई पर झेलम नदी के बाढ़ के मैदान में स्थित है। वास्तव में कई प्रवासी पक्षी प्रजातियों के निवास के रूप में स्थापित होने के कारण इसे एक महत्वपूर्ण पक्षी क्षेत्र (आईबीए) के रूप में भी मान्यता प्राप्त है।

हाइगम वेटलैंड झेलम नदी बेसिन के भीतर आता है और स्थानीय समुदायों के लिए बाढ़ अवशोषण बेसिन, जैव विविधता संरक्षण स्थल, पर्यावरण-पर्यटन स्थल और आजीविका सुरक्षा के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आर्द्रभूमि बारामुला जिले में स्थित है।
मन की बात: मिलिए इन हीरो से जिनका चर्चा प्रधानमंत्री ने किया ऐतिहासिक प्रस्तुति में

 यह कई निवासियों और प्रवासी पक्षी प्रजातियों के निवास के रूप में कार्य करता है। इसे एक महत्वपूर्ण पक्षी क्षेत्र (आईबीए) के रूप में भी मान्यता प्राप्त है। अत्‍यधिक गाद के कारण हाइगम वेटलैंड ने अपनी आर्द्रभूमि विशेषताओं को काफी हद तक खो दिया है और कई जगहों पर इसकी रूपरेखा को एक भूभाग में बदल दिया है। 

इसके परिणामस्वरूप प्रवासी पक्षियों (शीतकालीन/ग्रीष्मकालीन प्रवासी) और स्‍थानीय पक्षियों के लिए भी उपयुक्त आश्रय स्थल की स्थिति के मामले में यहां नुकसान हुआ है। 

हाइगम वेटलैंड पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं की अधिकता प्रदान करता है, इनमें मछली और फाइबर, जल आपूर्ति, जल शोधन, जलवायु विनियमन, बाढ़ विनियमन और मनोरंजक अवसर शामिल हैं। 

आर्द्रभूमियों के किनारे और आसपास रहने वाले लोगों की आजीविका आंशिक रूप से या पूरी तरह से आर्द्रभूमि पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं पर निर्भर करती है।


दारा शिकोह लाइब्रेरी: 1947 के विभाजन की यादों से जुड़ा लोक संग्रहालय-Facts in Brief

Dara Shikoh Library Delhi

भारत के इतिहास के इन खूबसूरत प्रतीकों में से एक कश्मीरी गेट स्थित "दारा शिकोह लाइब्रेरी" है जिसे अब "विभाजन संग्रहालय" और कल्चरल हब में परिवर्तित किया जा रहा है। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शुक्रवार को यहाँ का दौरा कर साइट पर चल रहे कार्यों की प्रगति का जायजा लिया। उपमुख्यमंत्री ने कहा, “दिल्ली में ऐतिहासिक इमारतें समय के साथ देश के विकास का प्रतीक हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली सरकार ने देश को बेहतर ढंग से समझने में मदद करने के लिए ऐतिहासिक इमारतों के जीर्णोद्धार को प्राथमिकता दी है

श्री सिसोदिया ने कहा कि विभाजन के संग्रहालय को स्थापित करने के लिए दारा शिकोह लाइब्रेरी की बिल्डिंग से बेहतर कोई जगह नहीं हो सकती थी। यह 1947 के विभाजन की यादों से जुड़ा लोक संग्रहालय होगा, जिसने दिल्ली को भी नाटकीय रूप से बदल दिया था।और इसके बाद राजधानी में कई कालोनियाँ स्थापित हुई जिसमें लाजपत नगर, सीआर पार्क, और पंजाबी बाग आदि जैसे क्षेत्र शामिल हैं। यह भारत में विभाजन पर बनाया जाने वाला दूसरा और दिल्ली में पहला ऐसा संग्रहालय है।

उल्लेखनीय है कि संग्रहालय में  रेल कोच (जैसा कि वे आजादी के दौरान थे), प्राचीन हवेलियों और शरणार्थी शिविरों की प्रतिकृतियों को भी बनाया गया है। विज़िटर्स को उस समय का अनुभव प्रदान करने के लिए विभाजन से जूझने वाले लोगों ने संग्रहालय को कपड़े, शरणार्थी शिविरों से सामान, किताबें, पत्र, बर्तन, ट्राफियां आदि जैसे विभिन्न सामान दान किए हैं। इसमें सिंध को समर्पित एक विशेष गैलरी भी होगी। संग्रहालय में वर्चुअल रियलिटी द्वारा भी विज़िटर्स विभाजन से जुड़े पहलुओं भी वाक़िफ़ हो सकेंगे।

उपमुख्यमंत्री ने कहा, "आमतौर पर संग्रहालय केवल ऐतिहासिक महत्व के क्षणों को प्रदर्शित करते हैं, लेकिन इस संग्रहालय में, हमने एक" गैलरी ऑफ होप "जोड़ी है, जो दशकों बाद पाकिस्तान में अपनी प्राचीन संपत्तियों को फिर से देखने वाले लोगों की तस्वीरों और अनुभवों को प्रदर्शित करेगी। ये तस्वीरें खुद विभाजन की विभीषिका झेलने वाले लोगों द्वारा संग्रहालय को दान की गई हैं।”

दारा शिकोह लाइब्रेरी के सांस्कृतिक और ऐतिहासिक महत्व को श्रद्धांजलि देने वाले संग्रहालय के साथ-साथ इस इमारत को इमारत को क्यूरेटेड कल्चरल हब के रूप में भी परिवर्तित किया जाएगा। यह शहर और इससे जुड़े व्यक्तियों के विभिन्न पहलुओं पर कथाओं और प्रदर्शनियों को प्रदर्शित करेगा। संग्रहालय में एक कैफेटेरिया, एक स्मारिका दुकान जिसमें एक छोटा पुस्तकालय और एक रीडिंग एरिया जैसी सुविधाएं भी शामिल होंगी।

संग्रहालय में मौजूद होंगी 7 गैलरी

1. विभाजन और स्वतंत्रता की ओर

2. माइग्रेशन

3. रिफ़्यूजी

4. रिबिल्डिंग होम

5. इन दा माइंड ऑफ़ आर्टिस्ट

6. रिबिल्डिंग रिलेशन

7. गैलरी ऑफ़ होप एंड करेज

भारत गौरव पर्यटक ट्रेन श्री जगन्नाथ यात्रा के साथ घूमें कोणार्क, भुवनेश्वर, काशी, बैद्यनाथ और गया: जाने किराया और अन्य जानकारी

Bharat Gaurav Train Jagannath Yatra Know Fair and Others

भारत गौरव पर्यटक ट्रेन "श्री जगन्नाथ यात्रा" के माध्यम से आप 8 दिनों के अंदर भारत के चार धामों में से एक यानी पुरी के जगन्नाथ मंदिर के दर्शन साथ ही आप  वाराणसी, बैद्यनाथ धाम, कोणार्क और गया यात्रा का आनंद उठा सकते हैं।

भारत गौरव पर्यटक ट्रेन "श्री जगन्नाथ यात्रा" को दिल्ली सफदरजंग रेलवे स्टेशन से इसके शुभ दौरे पर रेल और संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव और पर्यटन, संस्‍कृति एवं  पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास मंत्री श्री जी किशन रेड्डी के साथ शिक्षा, कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान द्वारा झंडी दिखाकर रवाना किया । 


8 दिवसीय भारत गौरव पर्यटक ट्रेन यात्रा का पहला पड़ाव प्राचीन पवित्र शहर वाराणसी में है, जहां पर्यटक गंगा घाट के साथ काशी विश्वनाथ मंदिर और गलियारे का भ्रमण करेंगे। 

वाराणसी के बाद ट्रेन झारखंड के जसीडीह रेलवे स्टेशन पहुंचेगी और पर्यटक बैद्यनाथ धाम ज्योतिर्लिंग मंदिर के दर्शन करेंगे। आगे ट्रेन जसीडीह से पुरी के लिए रवाना होगी जहां होटलों में उनके लिए दो रात ठहरने की व्यवस्था की गई है। 

इस दौरान पुरी में पर्यटक जगन्नाथ मंदिर, गोल्डन पुरी समुद्र तट, कोणार्क में सूर्य मंदिर और भुवनेश्वर के मंदिरों की यात्रा करेंगे। पुरी के बाद गया आखिरी गंतव्य होगा जहां विष्णुपद मंदिर के दर्शन यात्रा में शामिल होंगे। ट्रेन 1 फरवरी 2023 को वापस दिल्ली लौटेगी।

अत्याधुनिक एसी डिब्बों वाली इस टूरिस्ट ट्रेन में यात्रा के दौरान गाजियाबाद, अलीगढ़, टूंडला, इटावा, कानपुर और लखनऊ स्टेशनों पर ट्रेन में चढ़ने/उतरने का विकल्प है।

भली भांति सुसज्जित आधुनिक पेंट्री कार से मेहमानों को ताजा पका हुआ शाकाहारी भोजन परोसा जाएगा। ट्रेन में यात्रियों के मनोरंजन के साथ-साथ सार्वजनिक घोषणाओं के लिए इंफोटेनमेंट सिस्टम भी लगाया गया है। प्रत्येक कोच में स्वच्छ शौचालय से लेकर उन्नत सुरक्षा सुविधाओं के लिए सीसीटीवी कैमरे और सुरक्षा गार्ड भी प्रदान किए गए हैं।

भारत गौरव पर्यटक ट्रेन की शुरुआत घरेलू पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार की पहल "देखो अपना देश" के अनुरूप है। 17,655 रुपये प्रति व्यक्ति से शुरू होने किराए के साथ पर्यटक ट्रेन एक ऑल इनक्लूसिव टूर पैकेज है जिसमें  थर्ड एसी में ट्रेन यात्रा, होटलों में रात का ठहराव, सभी भोजन (केवल शाकाहारी), बसों से आना जाना और दर्शनीय स्थलों का भ्रमण, यात्रा बीमा और गाइड की सेवाएं शामिल हैं। स्वास्थ्य से जुड़े सभी एहतियाती उपायों का ध्यान रखा जा रहा है।

ठाणे क्रीक महाराष्ट्र : Facts in Brief

Thane Creek Facts in Brief

 Thane Creek: ठाणे क्रीक भारत के महाराष्ट्र राज्य में स्थित है। इस क्रीक में ताजे पानी के कई स्रोत हैं, जिनमें उल्हास नदी सबसे बड़ी है, इसके बाद मुंबई, नवी मुंबई और ठाणे के विभिन्न उपनगरीय क्षेत्रों से कई जल निकासी साधन हैं। इसे ठाणे क्रीक फ्लेमिंगो अभयारण्य घोषित किया गया है। 

ठाणे क्रीक दोनों किनारों पर मैंग्रोव से घिरा हुआ है और इसमें कुल भारतीय मैंग्रोव प्रजातियों का लगभग 20 प्रतिशत शामिल है। मैंग्रोव वन एक प्राकृतिक आश्रय क्षेत्र के रूप में कार्य करता है और भूमि को चक्रवातों, ज्वार-भाटा, समुद्री जल के रिसाव और बाढ़ से बचाता है। 

मैंग्रोव कई मछलियों के लिए नर्सरी का काम करता है और स्थानीय मत्स्य पालन को बनाए रखता है। यह क्षेत्र पक्षियों के मध्य एशियाई फ्लाईवे के आर्द्रभूमि परिसर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और इसे एक महत्वपूर्ण पक्षी क्षेत्र (आईबीए) के रूप में वर्गीकृत किया गया है। 

202 पक्षी प्रजातियों के अलावा, क्रीक में मछलियों की 18 प्रजातियां, क्रस्टेशियंस और मोलस्क, तितलियों की 59 प्रजातियां, कीटों की 67 प्रजातियां, और फाइटोप्लांकटन की 35 प्रजातियां, और ज़ोप्लांकटन की 24 प्रजातियां और बेंथोस की 23 प्रजातियां भी हैं।

कांजीरकुलम पक्षी अभयारण्य तमिलनाडु: Facts in Brief


Kanjirankulam Bird Sanctuary:
भारत के तमिलनाडु के मुदुकुलथुर रामनाथपुरम जिले के पास कांजीरकुलम पक्षी अभयारण्य 1989 में घोषित एक संरक्षित क्षेत्र है। यह कई प्रवासी बगुले प्रजातियों के लिए घोंसले बनाने के स्‍थल के रूप में प्रसिद्ध है यहां बगुले बबूल के पेड़ों पर प्रवास करते हैं। 

प्रवासी जलपक्षियों की प्रजनन आबादी अक्टूबर और फरवरी के बीच यहां आती है और इसमें चित्रित सारस, सफेद आइबिस, ब्लैक आइबिस, लिटिल एग्रेट, ग्रेट एग्रेट शामिल हैं। यह स्‍थल आईबीए के रूप में जाना जाता है क्योंकि यहां स्पॉट-बिल पेलिकन पेलेकैनस फिलिपेन्सिस नस्लों उपस्थिति दर्ज की गई है। 

आर्द्रभूमि समृद्ध जैव विविधता प्रदर्शित करती है जिसमें स्पॉट-बिल पेलिकन, ओरिएंटल डार्टर, ओरिएंटल व्हाइट आईबिस और पेंटेड स्टॉर्क जैसी कई विश्व स्तर पर निकट-खतरे वाली प्रजातियां शामिल हैं और आमतौर पर किनारे और पानी के भीतर रहने वाले पक्षी जैसे ग्रीनशंक, प्लोवर, स्टिल्ट और मधुमक्खी खाने वाली बुलबुल, कोयल, स्टारलिंग, बारबेट्स जैसे वन पक्षी भी शामिल हैं। 

ये स्‍थल पक्षियों के प्रजनन, घोंसले के शिकार, आश्रय, चारागाह और ठहरने के स्‍थलों के रूप में कार्य करते हैं। यह आर्द्रभूमि आईयूसीएन रेडलिस्ट विलुप्‍त होने की कगार पर एवियन प्रजातियों जैसे स्टर्ना ऑरेंटिया (रिवर टर्न) का पालन करती है।

वडुवूर पक्षी अभयारण्य: Facts in Brief

Vaduvur

Vaduvur Bird Sanctuar:
वडुवूर पक्षी अभयारण्य 112.638 हेक्टेयर के क्षेत्र में फैला हुआ है, यह एक बड़ा मानव निर्मित सिंचाई जलाशय और प्रवासी पक्षियों के लिए आश्रय है क्योंकि यह भोजन, आश्रय और प्रजनन के लिए उपयुक्त वातावरण प्रदान करता है। जबकि इन सिंचाई जलाशयों का सामाजिक-आर्थिक और सांस्कृतिक महत्व है, उनके पारिस्थितिक महत्व के बारे में बहुत कम जानकारी है। 

इन जलाशयों में निवासी और सर्दियों के पानी के पक्षियों की अच्छी आबादी को शरण देने की क्षमता है लेकिन इसकी पुष्टि के लिए कोई अध्ययन नहीं किया गया है। 

सर्वेक्षण किए गए अधिकांश जलाशयों में भारतीय जलाशय बगुला अर्देओला ग्रेई पाया गया। यूरेशियन विजोन अनस पेनेलोप, नॉर्दर्न पिंटेल अनस एक्यूटा, गार्गनी अनस क्वेरक्वेडुला जैसे सर्दियों के जलपक्षी की बड़ी उपस्थिति जलाशयों में दर्ज की गई थी। 

वडुवूर पक्षी अभ्यारण्य में विविध निवास स्थान हैं जिनमें कई इनलेट और आसपास के सिंचित कृषि क्षेत्र शामिल हैं जो पक्षियों के लिए अच्छा घोंसला बनाने और चारागाह प्रदान करते हैं। इस प्रकार, यह स्‍थल उपर्युक्‍त सूचीबद्ध प्रजातियों को उनके जीवन-चक्र के महत्वपूर्ण चरणों के दौरान सहायता प्रदान करती है।

सुचिन्द्रम थेरूर वेटलैंड कॉम्प्लेक्स: Facts In Brief

Suchindram Theroor Wetland Facts In Brief

Suchindram Theroor Wetland:
सुचिन्द्रम थेरूर वेटलैंड कॉम्प्लेक्स, सुचिन्द्रम-थेरूर मनाकुडी कंजर्वेशन रिजर्व का हिस्सा है। इसे एक महत्वपूर्ण पक्षी क्षेत्र घोषित किया गया है और यह प्रवासी पक्षियों के मध्य एशियाई फ्लाईवे के दक्षिणी सिरे पर स्थित है।

 इसे पक्षियों के घोंसले के लिए बनाया गया था और यह हर साल हजारों पक्षियों को आकर्षित करता है। थेरूर पर निर्भर कुल जनसंख्या लगभग 10,500 है और इस जनसंख्या की 75 प्रतिशत आजीविका कृषि पर टिकी है जो बदले में थेरूर जलाशय से निकलने वाले पानी पर निर्भर है।

यह एक मानव निर्मित, अंतर्देशीय जलाशय है और बारहमासी है। 9वीं शताब्दी के तांबे की प्लेट के शिलालेखों में पसुमकुलम, वेंचिकुलम, नेदुमर्थुकुलम, पेरुमकुलम, एलेमचिकुलम और कोनाडुनकुलम का उल्लेख है। 

इस क्षेत्र में पक्षियों की लगभग 250 प्रजातियां दर्ज की गई हैं, जिनमें से 53 प्रवासी, 12 स्थानिक और 4 विलुप्‍त होने की कगार पर हैं।

चित्रांगुडी पक्षी अभ्यारण्य तमिलनाडु: Facts In Brief

Chitrangudi Bird Sanctuary Facts in Brief

चित्रांगुडी पक्षी अभ्‍यारण्य, जिसे स्थानीय रूप से "चित्रांगुडी कनमोली" के नाम से जाना जाता है, तमिलनाडु के रामनाथपुरम जिले में स्थित है। यह आर्द्रभूमि 1989 से एक संरक्षित क्षेत्र है और इसे पक्षी अभ्‍यारण्य के रूप में घोषित किया गया है, जो तमिलनाडु वन विभाग, रामनाथपुरम डिवीजन के अधिकार क्षेत्र में आता है। 

चित्रांगुडी पक्षी अभ्‍यारण्य शीतकालीन प्रवासी पक्षियों के लिए एक आदर्श आवास है। स्‍थल से 30 परिवारों के लगभग 50 पक्षियों के उपस्थित होने की जानकारी मिली है। इनमें से 47 जल पक्षी और 3 स्थलीय पक्षी हैं। 

इस स्‍थल क्षेत्र से स्पॉट-बिल्ड पेलिकन, लिटिल एग्रेट, ग्रे हेरॉन, लार्ज एग्रेट, ओपन बिल स्टॉर्क, पर्पल और पोंड हेरॉन जैसे उल्लेखनीय जलपक्षी देखे गए।

 चित्रांगुडी कृषि क्षेत्रों से घिरा हुआ है, जहां साल भर विभिन्न फसलें उगाई जाती हैं। आर्द्रभूमि कई मछलियों, उभयचरों, मोलस्क, जलीय कीड़ों और उनके लार्वा का भी पालन करती है यह प्रवासी जलपक्षियों के लिए अच्छे भोजन स्रोत बनाते हैं। कृषि उद्देश्यों के लिए आर्द्रभूमि के आसपास और भीतर सिंचाई के लिए भूजल निकाला जाता है।

यशवंत सागर पक्षी स्थल-शीतकालीन प्रवासी पक्षियों के लिए स्वर्ग: Facts In Brief

Yashwant Sagar Bird Areas MP Facts In Brief

यशवंत सागर पक्षी स्थल अपने विशाल उथले ईख क्षेत्रों के कारण, आर्द्रभूमि को बड़ी संख्या में शीतकालीन प्रवासी पक्षियों के लिए स्वर्ग माना जाता है। यशवंत सागर इंदौर क्षेत्र में दो महत्वपूर्ण पक्षी क्षेत्रों (आईबीए) में से एक है और साथ ही मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र में सबसे महत्वपूर्ण पक्षी स्थलों में से एक है। 

वर्तमान में इसका उपयोग मुख्य रूप से इंदौर शहर में पानी की आपूर्ति के लिए किया जाता है और व्यावसायिक स्तर पर मछली पालन के लिए भी इसका उपयोग किया जा रहा है। 

यशवंत सागर जलाशय इंदौर नगर निगम के अधिकार क्षेत्र में आता है। भारत के सबसे स्वच्छ शहरों में से एक का खिताब हासिल करने वाले इंदौर को अक्सर मध्य प्रदेश के आर्थिक विकास के केंद्र के रूप में भी जाना जाता है। 

इस आर्द्रभूमि का जलग्रहण क्षेत्र मुख्य रूप से कृषि है। यशवंत सागर को मध्य भारत में दुर्लभ सारस क्रेन का गढ़ माना जाता है। झील के बैकवाटर में बहुत सारे उथले क्षेत्र हैं, जो कि वैडर्स और अन्य जलपक्षी के लिए अनुकूल हैं। 

जैसे ही जल स्तर घटता है, कई द्वीप जलपक्षी के लिए आश्रय स्थल के रूप में काम करते हैं। अपने विशाल उथले ईख क्षेत्रों के कारण, आर्द्रभूमि को बड़ी संख्या में शीतकालीन प्रवासी पक्षियों के लिए स्वर्ग माना जाता है।

अंशुपा झील ओडिशा: महानदी द्वारा निर्मित ताजे पानी की झील : Facts in Brief

Ansupa Lake Wetland Facts in Brief

Ansupa Lake Wetland: 
अंशुपा झील कटक जिले के बांकी उप-मंडल में स्थित ओडिशा की सबसे बड़ी ताजे पानी की झील है और इसकी प्राकृतिक सुंदरता, जैव विविधता और प्राकृतिक संसाधनों के लिए प्राचीन काल से इसकी प्रसिद्धि है। 

यह आर्द्रभूमि महानदी नदी द्वारा बनाई गई एक ऑक्सबो झील है और 231 हेक्टेयर क्षेत्र में फैली हुई है। आर्द्रभूमि पक्षियों की कम से कम 194 प्रजातियों, मछलियों की 61 प्रजातियों और स्तनधारियों की 26 प्रजातियों के अलावा मैक्रोफाइट्स की 244 प्रजातियों का घर है।

 अंशुपा झील: Facts in Brief 

  1. महानदी नदी द्वारा निर्मित एक ऑक्सबो झील है.
  2. क्षेत्रफल  231 हेक्टेयर है। 
  3. पक्षियों की कम से कम 194 प्रजातियां, 
  4. मछलियों की 61 प्रजातियां, 
  5. स्तनधारियों की 26 प्रजातियां, 
  6. मैक्रोफाइट्स की 244 प्रजातियां, 
  7. तीन संकटग्रस्त पक्षी प्रजातियों का सुरक्षित आवास है-

  • रिनचोप्स एल्बिकोलिस (ईएन)
  • स्टर्ना एक्यूटिकौडा (ईएन) और 
  • स्टर्ना ऑरेंटिया (वीयू) 

8. तीन संकटग्रस्त मछलियों की प्रजातियों का सुरक्षित आवास है-

  •  क्लारियस मगर (क्लेरिडे) 
  • (ईएन), साइप्रिनस कार्पियो (साइप्रिनिडे) (वीयू) और
  • वालगो एटू (वीयू) 

9. प्रवासी पक्षियों के लिए एक प्रमुख शीतकालीन क्षेत्र है 

 यह आर्द्रभूमि कम से कम तीन संकटग्रस्त पक्षी प्रजातियों- रिनचोप्स एल्बिकोलिस (ईएन), स्टर्ना एक्यूटिकौडा (ईएन) और स्टर्ना ऑरेंटिया (वीयू) और तीन संकटग्रस्त मछलियों की प्रजातियों- क्लारियस मगर (क्लेरिडे) (ईएन), साइप्रिनस कार्पियो (साइप्रिनिडे) (वीयू) और वालगो एटू (वीयू) को एक सुरक्षित आवास प्रदान करती है। 

अंशुपा झील आसपास के क्षेत्रों की मीठे पानी की मांग को पूरा करती है और मत्स्य पालन और कृषि के माध्यम से स्थानीय समुदायों की आजीविका में भी मदद करती है। 

आर्द्रभूमि में मनोरंजन और पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं क्योंकि यह प्रवासी पक्षियों के लिए एक प्रमुख शीतकालीन क्षेत्र है और अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए भी जाना जाता है।

हीराकुंड जलाशयओडिशा : 130 से अधिक पक्षी प्रजातियां और भी बहुत कुछ-Facts in Brief


ओडिशा में सबसे बड़ा मिट्टी के बांध हीराकुंड जलाशय ने कई उच्च संरक्षण महत्व सहित पुष्प और जीव प्रजातियों की एक श्रृंखला का समर्थन करने के लिए 1957 में काम करना शुरू कर दिया था।

 जलाशय से ज्ञात 54 प्रजातियों की मछलियों में से एक को लुप्तप्राय, छह को निकट संकटग्रस्त और 21 मछली प्रजातियों को आर्थिक महत्व के रूप में वर्गीकृत किया गया है। 

हीराकुंड जलाशय: Facts in Brief

  1. 130 से अधिक पक्षी प्रजातियां  जिनमें से  20 प्रजातियां उच्च संरक्षण महत्व की हैं 
  2. 300 मेगावाट जलविद्युत उत्पादन
  3. 4,36,000 हेक्टेयर सांस्कृतिक क्षेत्र की सिंचाई 
  4. 480 मीट्रिक टन मछली का उत्‍पादन 
  5.  महानदी डेल्टा में बाढ़ को नियंत्रित करके महत्वपूर्ण जल विज्ञान सेवाएं भी प्रदान करती है।
  6. प्रचुर मात्रा में पर्यटन को बढ़ावा
  7. प्रतिवर्ष 30,000 से अधिक पर्यटक


मत्स्य पालन के अंतर्गत यहां वर्तमान में सालाना लगभग 480 मीट्रिक टन मछली का उत्‍पादन होता है और यह 7000 मछुआरे परिवारों की आजीविका का मुख्य आधार है। इसी तरह, इस स्थल पर 130 से अधिक पक्षी प्रजातियों को दर्ज किया गया है, जिनमें से 20 प्रजातियां उच्च संरक्षण महत्व की हैं। 

जलाशय लगभग 300 मेगावाट जलविद्युत उत्पादन और 4,36,000 हेक्टेयर सांस्कृतिक क्षेत्र की सिंचाई के लिए पानी का एक स्रोत है। यह आर्द्रभूमि भारत के पूर्वी तट के पारिस्थितिक और सामाजिक-आर्थिक केंद्र महानदी डेल्टा में बाढ़ को नियंत्रित करके महत्वपूर्ण जल विज्ञान सेवाएं भी प्रदान करती है। 

हीराकुंड जलाशय प्रचुर मात्रा में पर्यटन को भी बढ़ावा देता है और इसे संबलपुर के आसपास स्थित उच्च पर्यटन मूल्य स्थलों का एक अभिन्न अंग बनाता है, जिसमें प्रतिवर्ष 30,000 से अधिक पर्यटक आते हैं।