Showing posts with label najariya jine ka. Show all posts
Showing posts with label najariya jine ka. Show all posts

नजरिया जीने का: मोदी का करिश्माई व्यक्तित्व, स्पष्ट दृष्टि और मजबूत लोकप्रियता होगी मुख्य चुनौती विपक्ष के लिए


Najariya jine ka Modi His Personality And Positive Things
विपक्षी गठबंधन भले हीं 2024 में जीत के कितने दावे कर ले, लेकिन सच तो यह है प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के करिश्माई व्यक्तित्व, स्पष्ट दृष्टि और मजबूत लोकप्रियता के आगे उसके मनसूबे सफल होने का कोई आसार नजर नहीं आर रहा. सच्चाई तो यह है कि मोदी के करिश्माई व्यक्तित्व, स्पष्ट दृष्टि और मजबूत लोकप्रियता ने उन्हें भारत के सबसे लोकप्रिय नेताओं में से एक बना दिया है। उनकी नीतियों और उनके नेतृत्व ने भारत को कई क्षेत्रों में प्रगति करने में मदद की है।

एक क्वोट्स है जो इस प्रकार है- "यह सोचना कठिन है कि क्या असंभव है। क्योंकि कल का सपना आज की आशा और कल की वास्तविकता है।" ऐसा लगता है कि यह उद्धरण विशेष रूप से भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को ध्यान में रखकर लिखा गया है जो इस पर बिल्कुल फिट बैठता है। मोदी अपने करिश्माई व्यक्तित्व के लिए जाने जाते हैं, जो न केवल दूरदर्शी और निर्णायक हैं, बल्कि वे भारत के लोगों के बीच लोकप्रिय भी हैं।

भले ही विपक्षी नेताओं ने आगामी 2024 के चुनाव में मोदी को हराने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी है, लेकिन इसमें कोई शक नहीं है कि वह एक करिश्माई और प्रभावी नेता हैं। वह अपने मजबूत संचार कौशल, लोगों से जुड़ने की क्षमता और भारत के लिए अपने दृष्टिकोण के लिए जाने जाते हैं।

नरेंद्र मोदी के व्यक्तित्व के कुछ उज्जवल और मजबूत बिंदुओं पर अगर गौर करें तो आप खुद ही अंदाजा लगा सकते हैं कि आखिर मोदी क्यों देश ही नहीं बल्कि दुनिया में अपने प्रद्तिंद्वंदियों को पीछ छोड़ कर लोकप्रियता में सबसे शीर्ष पर हैं. 

करिश्माई व्यक्तित्व: 

 मोदी एक स्वाभाविक नेता हैं जो लोगों को प्रेरित और प्रेरित करने में सक्षम हैं। वह एक प्रतिभाशाली वक्ता हैं जो भावनात्मक स्तर पर लोगों से जुड़ने में सक्षम हैं।

दूरदर्शी: 

मोदी  के पास भारत के भविष्य के लिए एक स्पष्ट दृष्टिकोण है। वह बड़ा सोचने से डरते नहीं हैं और वह भारत को वैश्विक नेता बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

निर्णायक: 

मोदी एक निर्णायक नेता हैं जो कठोर निर्णय लेने से नहीं डरते। वह जोखिम लेने से नहीं डरते और यथास्थिति को चुनौती देने को तैयार हैं।

कुशलता के साथ पथ पर अग्रसर: 

 मोदी एक कुशल नेता हैं जो काम करवाने में सक्षम हैं। वह कार्य सौंपने से नहीं डरता और वह लोगों को जवाबदेह ठहराने में सक्षम है।

लोकप्रियता: 

 मोदी एक लोकप्रिय नेता हैं जिन्हें भारतीय लोगों के बीच व्यापक समर्थन प्राप्त है। उन्हें एक मजबूत और निर्णायक नेता के रूप में देखा जाता है जो अपने वादों को पूरा करने में सक्षम है।


बेशक, नरेंद्र मोदी के व्यक्तित्व के कुछ नकारात्मक पहलू भी हैं, जैसे विपक्ष उन पर आरोप लगाता रहता है, हालांकि, उनकी सरकार को लोगों द्वारा दिया गया जनादेश और समर्थन दर्शाता है कि वह असली व्यक्ति हैं जो भारत को बदलने की कोशिश कर रहे हैं।

कुल मिलाकर नरेंद्र मोदी एक ऐसी शख्सियत हैं जो अपनी वाकपटुता से विपक्षी नेताओं को मजबूर करने की कला जानते हैं और उनके काम उनकी कार्यकुशलता और लोकप्रियता को साबित करने के लिए काफी हैं।

नजरिया जीने का: बेहतर कल के लिए नहीं छोड़िए आशावाद का दामन

Inspiring Thoughts: बेहतर कल के लिए नहीं छोड़िए आशावाद का दामन

नजरिया जीने का: आशावाद एक शक्तिशाली शक्ति है. यह हमें मुश्किल समय में आगे बढ़ने और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद कर सकता है. जब हम आशावाद रखते हैं, तो हम मुश्किलों को स्वीकार करने और उनसे निपटने के लिए अधिक तैयार होते हैं. हम अधिक रचनात्मक होते हैं और नए समाधान खोजने में सक्षम होते हैं. हम अधिक दृढ़ होते हैं और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए अधिक प्रयास करते हैं.

आशावाद एक चमत्कार नहीं है. यह एक दृष्टिकोण है. यह एक विश्वास है कि चीजें बेहतर होंगी. यह एक विश्वास है कि हम अपने सपनों को प्राप्त कर सकते हैं. जब हम आशावाद रखते हैं, तो हम अपने जीवन को बेहतर बनाते हैं. हम अपने जीवन को अधिक सार्थक बनाते हैं. हम अपने जीवन को अधिक आनंददायक बनाते हैं.

तो, आइए हम बेहतर कल के लिए आशावाद का दामन न छोड़ें. आइए हम अपने सपनों के लिए लड़ें और कभी भी हार न मानें. आइए हम अपने जीवन को बेहतर बनाएं.

मुसीबतों को देख कर क्यों डरता है,
तू लड़ने से क्यों पीछे हटता है।
किसने तुमको रोका है,
तुम्ही ने तुम को रोका है।
भर साहस और दम, बढ़ा कदम,
अब इससे अच्छा कोई न मौका है।
-नरेंद्र वर्मा


जाहिर है, अगर जीवन है तो बाधाओं का आना स्वाभाविक है और इससे हम इनकार नहीं कर सकते।लेकिन क्या इन बाधाओं और परेशानियों से घबराकर हमें अपनी हार स्वीकार लेनी चाहिए।हाफिज नहीं। सच तो यह है कि जिंधिवमें कितनी भी विषम परिस्थितियों से हमें सामना करना पड़े, हमें आशा और उम्मीद कभी नहीबखिनी चाहिए।

विश्वास कीजिए, आशावादी होना मानव का सबसे अनुपम और प्रभावी लक्षण है जो न केवल आपके परिस्थितियों से लड़ने के लिए शक्ति प्रदान करता है बल्कि एक अपेक्षाकृत अच्छे सुबह किबुम्मिद भी जगाती है।

आप इतिहास को पलट कर देख लीजिए, विपरीत और विषम परिस्थितियों से किसका सामना नहीं हुआ है। लेकिन इतिहास के पन्नों में स्थान उन्हें ही मिली है जिन्होंने अपने कर्मठता से उन परिस्थितियों से भी निकलने का रास्ता बनाया है।

किसी कवि ने क्या खूब कहा है।।
" जो कहे नही करता भी हो 
विश्वास उसी का होता है
जो युग को कर्मठता से मोडे
इतिहास उसी का होता है।"

कहने का आशय यह है कि आशावादी बने रहने में वर्तमान की परिस्थितियों से निकलने की एक उम्मीद तो जिंदा रहती है। लेकिन अगर हम निराशावाद का दामन थाम भी लेते हैं तोवक्या इससे हम स्थिति से निकल जायेंगे।।हरगिज नही।

निराशा मन में आते हीं आपकी शरीर के तमाम अंगों पर पड़ने वाले प्रभाव का कभी अध्ययन किया है। आंखों के आगे अंधेरा छाना, मस्तिष्क में अनावश्यक दर्द, अंदरूनी अंगों के कार्य पद्धति पर अनावश्यक दबाव।।।ऐसी स्थिति में जब बाहर की परिस्थितियों का सामना करने केलिए हमें अंदर से स्ट्रॉन्ग रहने की जरूरत है, हम अंदर के फ्रंट पर ही अगर खुद को निराशावादी बनाकर कमजोर हो जायेंगे तो फिर उस स्थिति से कैसे निकल पाएंगे इसका अंदाजा सहज ही लगाई जा सकती है।।

वही अगर उसी प्रकार की विषम परिस्थितियों के सामने खुद को आशावादी रखते हुए उनका सामना करने की कोशिश करो, आप खुद ही बदलाव को महसूस कर सकते हैं.

बाधाएँ आती हैं आएँ
घिरें प्रलय की घोर घटाएँ,
पावों के नीचे अंगारे,
सिर पर बरसें यदि ज्वालाएँ,
निज हाथों में हँसते-हँसते,
आग लगाकर जलना होगा।
क़दम मिलाकर चलना होगा।
-अटल बिहारी वाजपेयी



सच तो यह है कि आशावादी बने रहने पर हमारी मस्तिष्क भी व्यवहारिक और प्रभावी उपाय सुझाती है साथ ही स्थितियों से निकलने के लिए स्ट्रेटजी और उनके कार्यानयन में भी हमारी मदद करती है।



नजरिया जीने का: पॉजिटिव लाइफ के लिए है जरुरी "खुद पर भरोसा क्योंकि, कुछ भी असंभव नहीं "


नजरिया जीने का: पॉजिटिव सोचने के लिए सबसे जरुरी है कि आप अपने मन को मजबूत बनाइये क्योंकि यह आपका मन ही है जो नकारात्मकता और नेगेटिव थॉट्स को आप पर हावी होने का मौका प्रदान करती है. आप हमेशा सिर्फ यह सोचे कि जिसे अन्य लोग असंभव समझते हैं आपके लिए वह संभव हो सकता है और इसके लिए आप खुद को यह समझाएं कि - “हाँ मैं कर सकता हूँ”।

नकारात्मक मानसिकता और कुछ नहीं बल्कि भ्रमित विचारों का एक संग्रह है जो हमें जीवन की वास्तविकता से बहुत दूर ले जाती है. मानव मन अपने आप में एक विविधताओं से भरा हुआ है और उतना ही पेचीदगियों का सम्मिश्रण है जिसके साथ सबसे बड़ी खासियत यह होती है कि हम सही जानते तो हैं लेकिन जब करने का समय आता है तो हम अपने आप को नासमझ के समान बना कर अपना आचरण करते हैं. 

 कहने का आशय यह है कि हम जानते हैं कि नेगेटिव माइंडसेट के साथ जीवन में कुछ भी हासिल नहीं कर सकते है और अपने जीवन को नकारात्मक सोच के साथ बोझ हीं बना सकते हैं. फिर भी, हम सकारात्मक और पॉजिटिव माइंडसेट को अपनाने में किसी दूसरे पर निर्भर होना ज्यादा पसंद करते हैं. 

सकारात्मक दिमाग में हमारे जीवन में आने वाली परीक्षाओं का जवाब देने का अंतिम तरीका प्रदान करने की शक्ति होती है। जीवन कड़वी सुखद सहित अप्रत्याशित घटनाओं की श्रृंखला से भरा है। लेकिन, इस तथ्य के बावजूद, हमें जीने की कला सीखनी होगी।

जीवन में उतार-चढाव का होना लगा रहता है और इससे हम बच नहीं सकते हैं. लेकिन  हम इन घटनाओं को बिना किसी नकारात्मक मानसिकता के स्वीकार करें और उन्हें पॉजिटिव एटीट्यूड से लेकर उनका समाधान ढूंढते हैं, तो कम से कम हमारा यह प्रयास यह हमें बेहतर जीवन की आशा प्रदान कर सकता है।


नजरिया जीने का: ख़ामोशी आपकी कमजोरी नहीं, भविष्य की सफलता वाले धमाका का बुनियाद है ये

Inspiring Thoughts How Silence Speaks

नजरिया जीने का:  आपकी चुप्पी, शांत नेचर और गंभीर व्यक्तित्व जिसे दुनिया ख़ामोशी कहती है वास्तव में यह आपकी सकारात्मक ऊर्जा है जो एक दिन सफलता का धमाका करने वाली शक्ति का काम करेगी.  आपके अंदर अगर उपरोक्त वर्णित खूबियां है तो फिर आप इसे अपनी कमजोरी नहीं समझे क्योंकि आपकी सफलता और लक्ष्य की प्राप्ति के लिए यह सबसे सुन्दर और प्रभावी हथियार है जो एक दिन धमाका करके आपकी प्रयासों को नया आयाम देगी. हाँ,  ये सच है कि  इस भाग-दौड़ के जीवन में शांति और स्थिरता की तलाश मुश्किल है लेकिन क्या यह भी सच नहीं है कि इसी शांति अर्थात मौन और स्थिरता के आभाव में हम अपना आज और कल भी बर्बाद कर रहे हैं. 

व्यस्तता जरुरी है क्योंकि आज की जीवन में भाग दौड़ और आराम का नहीं होना प्रगति और आगे बढ़ते रहते का पैमाना बना दिया गया है. जो आज जितना व्यस्त है, उसका कल उतना हीं सुरक्षित है. लेकिन क्या, खुद से बात करने के लिए अगर हमारे पास 24 घंटे में 10 मिनट भी नहीं है, तो क्या हम इस जीवन की बदौलत ही आज और कल सुरक्षित रख सकेंगे? 

याद रखना दोस्तों... अगर 24 घंटे में 10 मिनट खुद से बात करने के लिए आपके पास नहीं हैं तो तो फिर आप संसार के सबसे सुन्दर व्यक्तित्व से रुबरु होने के मौके को गंवा रहे है.... 

आप एक बार अपने तमाम व्यस्तता से प्रति दिन 10 मिनट निकल कर खुद के लिए सोच कर तो देखिये...ये 10 मिनट की साइलेंस ये शांति और चुप्पी की महत्ता को आप तब समझेंगे जब एक बार स्थिर रह कर खुद से बात करने का वक्त निकलना शुरू करेंगे...

असफलता एक चुनौती है… स्वीकार करो…

क्या कमी रह गयी, देखो और सुधार करो…

जब तक ना सफल हो नींद-चैन को त्यागो तुम…

संघर्षों का मैदान छोड़ मत भागो तुम…

कुछ किये बिना ही जयजयकार नहीं होती…

हिम्मत करने वालों की कभी हार नहीं होती…

-हरिवंश राय बच्चन


उम्र बीत जाती है खुद से बात किये और तब आप खुद से बात करके ही क्या करेंगे जब शरीर पर खुद का नियंत्रण हीं नहीं होगा... तब तो आप खुद से बात करने को मजबूर होंगे...क्योकि तब दुनिया भी आपको आउटडेटेड समझ चुकी होंगी और आप असहाय होकर खुद से बात करने को मजबूर होंगे... 

विश्वास करें,,, जिस व्यस्त जीवन में खोकर आप आज खुद के लिए 10 मिनट नहीं निकल पा रहे हैं, इस जीवन की असलियत भी यही है...आखिर हम काटेंगे तो वही न जिसे आज बो रहे है... 

आप खुद से बात करना शुरू तो कीजिये...यह आपके न केवल आज बल्कि आपके सुन्दर और सुरक्षित भविष्य के लिए भी जरुरी है... आपके परिवार के उन सदस्यों के सुरक्षित भविष्य के लिए भी जरुरी है जिनके सुख सुविधा के इंतजाम के लिए आज आप व्यस्त होने को जीवन की सफलता का पैरामीटर बना चुके हैं... 

नर हो, न निराश करो मन को

 कुछ काम करो, कुछ काम करो

 जग में रहकर कुछ नाम करो

-मैथिलीशरण गुप्त



एक बार आप खुद के अलावा अपने परिवार के उन सदस्यों के साथ..खास तौर पर बुजुर्ग माता पिता के साथ बैठकर उनके संघर्ष वाले दिनों की चर्चा को हीं  सुन लीजिये,. बस इस बारे में सोचें कि आपके जीवन में आपके लिए क्या महत्वपूर्ण है... विश्वास कीजिये, उनके चेहरा पर मिलने वाले संतोष और आनंद आपके व्यस्तता के लाइफ को और भी उत्साह से भर देगा... आप अपने भविष्य के लिए और भी दुगुना लगन और उत्साह के साथ जुट जायेगें... 


नजरिया जीने का: डिप्रेशन और फ़्रस्ट्रेशन पर काबू पाने के लिए पाएं नेगेटिव माइंडसेट से छुटकारा

Inspiring Thoughts How To Control Frustration And Depression

नजरिया जीने का: 
मानसिक अवसाद और मेन्टल तनाव को हम हमेशा से जीवन का सामान्य घटना समझने की भूल करते हैं. अक्सर हम इसे अपने दैनिक जीवन और आधुनिक भागदौड़ वाले जीवन की रेस का परिणति मानने की गलती करते हैं. लेकिन सच्चाई यह नहीं है दोस्तों. मानसिक अवसाद और मेन्टल टेंशन का अगर समय रहते समुचित इलाज नहीं किया गया तो यह जानलेवा भी हो सकता हैं.

सफलता के लिए संघर्ष और मिलने वाले बाधाओं से निबटने के लिए  खुद के अंदर  सकारात्मकता ऊर्जाओं  को बढ़ाना बहुत ही जरुरी है. इस दौरान केवल आपकी पॉजिटिव मानसिकता और स्वय के अंदर सकारात्मक  विचारों का सृजन करें. बाहरी दुनिया से लगभग कर जाने और सोशल डिस्टेंस के दौर में यह जरुरी है कि  आप अपने आपको हमेशा सक्रिय रखें और इस  अवधि के दौरान आने वाली कठिनाइयों का सामना करने के लिए खुद्द को मानसिक  रूप से मजबूत बनाये  रखें. 

सच तो यह है कि यह आपके सकारात्मक विचार और मजबूत मानसिकता है जो सीधे आपके व्यक्तित्व और दृढ़ संकल्प शक्ति को तय करनेमें प्रमुख भूमिका निभाते हैं.  दोस्तों आप हमेशा याद रखें कि प्रकृति ने हम सभी के व्यक्तित्व  को एक आइरन मैन की तरह स्ट्रांग क्वालिटी से नवाजकर धरती पर भेजा है.


अब यह हम पर निर्भर करता है कि  हम  अपने आपको अपने   पॉजिटिव विचारों और स्वस्थ मानसिकता को किस हद तक खुद को स्ट्रांग और शक्तिशाली बनाकर रख पाते हैं. 

यह आश्चर्यजनक है कि उन तथ्यों के बावजूद कि हमारे पास अपने विचारों को निर्देशित करने की शक्ति है, हमने अपने दिमाग में सभी नकारात्मक विचारों को उकेरा है. हम मानव ब्रह्मांड के सबसे बुद्धिमान प्राणी होने का दावा करते हैं, लेकिन आश्चर्यजनक रूप से  सच्चाई यह है कि-We Know the Right but do the Wrong .

हम में से हर कोई इस तथ्य को जानता है कि यह हमारी मानसिकता हीं  जो हमारे कार्यों पर हावी है और हमारे कर्मों के परिणाम में परिलक्षित होती है. 

प्रसिद्ध व्यक्तित्व रतन टाटा का उद्धरण  यहां उल्लेख करना उपयुक्त होगा कि-कोई भी लोहे को नष्ट नहीं कर सकता है,बल्कि यह जंग हीं है जो इसे खा सकता है और बर्बाद कर सकता है.  इसी तरह, एक व्यक्ति को अगर कोई नष्ट कर सकता है तो सिर्फ और सिर्फ उसकी सोच और नकारात्मक मानसिकता हो सकती है.

आपके आसपास के नकारात्मक विचार और कुछ नहीं बल्कि आपकी खुद के अंदर उत्पन्न नकारात्मक मानसिकता की देन  है. आप इस तरह के विचारों के निर्माता आप खुद होते हैं और आपने अपने मन में जिस प्रकार के सोच और मानसिकता को पालते हैं, भविष्य में वही आपकी व्यक्तित्व बन जाती है. 

याद रखें, आप अपनी परिस्थितियों के निर्माता हैं और निश्चित रूप से आपकी सहमति के बिना, नकारात्मक विचार आपकी मानसिकता को भला कैसे बदल सकते हैं ...यदि आप केवल सकारात्मक विचारों और प्रेरक मानसिकता से लैस हैं, तो आपके स्पर्श में आया ऐसा निराशावादी व्यक्ति आशावादी व्यक्ति में बदल जाएगा ...निश्चित रूप से, शुरू में इसे लागू करना मुश्किल होगा, लेकिन याद रखें, यह असंभव नहीं है.

याद रखें, एक बार ऐसा समय आएगा जब लोग आपके सकारात्मक दृष्टिकोण और आपकी मानसिकता को लोग अनुसारण करेंगे और अपनी खुद की नकारात्मक मानसिकता को भूल जाएं साथ ही आप आयरन मैन के साथ स्ट्रांग माइंडसेट के लिए रोल मॉडल बन जाएंगे.

नजरिया जीने का: Sardar Vallabhbhai Patel-जानें लौह महत्वूर्ण Quotes


नजरिया जीने का: सरदार वल्लभभाई पटेल (Sardar Vallabhbhai Patel) जिन्हे लौह पुरुष के नाम से जाना जाता है वह भारत के पहले उप-प्रधानमंत्री थे. सरदार वल्लभभाई पटेल (Sardar Vallabhbhai Patel) पेशे से एक वकील थे और उनका जिनका जन्म 31 अक्टूबर को हुआ था। सरदार पटेल ने अपने कुशलता और अपने सामर्थ्य के बल पर लगभग हर रियासत को भारत में विलय के लिए राजी कर लिया था । पटेल का अहिंसा के वारे में कहना था कि -"जिनके पास शस्त्र चलाने का हुनर हैं लेकिन फिर भी वे उसे अपनी म्यान में रखते हैं असल में वे अहिंसा के पुजारी हैं. कायर अगर अहिंसा की बात करे तो वह व्यर्थ हैं"

सरदार पटेल कहा करते थे कि " भले ही हम हजारों की संपत्ति खो दें, और हमारा जीवन बलिदान हो जाए, हमें मुस्कुराते रहना चाहिए और ईश्वर और सत्य में अपना विश्वास बनाए रखना चाहिए।"

देश प्रेम की भावना से ओतप्रोत रहा है पटेल का जीवन और उनके जीवन का इतिहास और लिए गए ऐतिहासिक निर्णय यह साबित करते हैं।।

भारतीयता और देश को एक सूत्र में पिरोने के अपने सिद्धांतो को प्राथमिकता देते हुए सरदार पटेल कहा करते थे कि "हर भारतीय को अब भूल जाना चाहिए कि वह राजपूत, एक सिख या जाट है। उन्हें याद रखना चाहिए कि वह एक भारतीय है और उसके पास अपने देश में हर अधिकार है लेकिन कुछ कर्तव्यों के साथ।"

सरदार वल्लभभाई पटेल (Sardar Vallabhbhai Patel): प्रमुख कोट्स 
  1. आम प्रयास से हम देश को एक नई महानता तक ले जा सकते हैं, जबकि एकता की कमी हमें नयी आपदाओं में डाल देगी।
  2. जो तलवार चलाना जानते हुए भी अपनी तलवार को म्यान में रखता है उसी को सच्ची अहिंसा कहते है।
  3. अविश्वास भय का प्रमुख कारण होता है।
  4. इस मिट्टी में कुछ खास बात है, जो कई बाधाओं के बावजूद हमेशा महान आत्माओं का निवास बना रहा है।
  5. "शक्ति के अभाव में विश्वास व्यर्थ है. विश्वास और शक्ति, दोनों किसी महान काम को करने के लिए आवश्यक हैं।"
  6. मान-सम्मान किसी के देने से नहीं मिलते, अपनी योग्यतानुसार मिलते हैं।
  7. हर भारतीय को अब भूल जाना चाहिए कि वह राजपूत, एक सिख या जाट है। उन्हें याद रखना चाहिए कि वह एक भारतीय है और उसके पास अपने देश में हर अधिकार है लेकिन कुछ कर्तव्यों के साथ।
  8. कठिन समय में कायर बहाना ढूंढते हैं तो वहीं, बहादुर व्यक्ति रास्ता खोजते है।
  9. अहिंसा को विचार, शब्द और कर्म में देखा जाना चाहिए। हमारी अहिंसा का स्तर हमारी सफलता का मापक होगा।
  10. बोलने में मर्यादा मत छोड़ना, गालियाँ देना तो कायरों का काम है।


नजरिया जीने का: कंफर्ट जोन से ग्रोथ जोन में जाना है लक्ष्य तो बढ़ाए अपना सेल्फ कॉन्फिडेंस

नजरिया जीने का:  जीवन में कम्फर्ट जोन में रहना भला कौन नहीं चाहता है. आखिरकार जीवन अनिश्चितताओं से भरा पड़ा है जहाँ हमें रोज हीं कदम-कदम पर  धन, करियर परिवार, स्वास्थ्य और बहुत कुछ सहित विषम परिस्थितियों का सामना करने के लिए बाध्य होते हैं। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि कम्फर्ट ज़ोन से ग्रोथ ज़ोन की ओर जाने के  लिए हमें खुद के  सेल्फ कॉन्फिडेंस अर्थात आत्म विश्वास की जरुरत होती है जो इस दौरान के ट्रांजीशन फेज से निकलने में हमारी सहायता करता है.  और सेल्फ कॉन्फिडेंस के लिए जो सबसे जरुरी है वह है खुद को और दूसरों को सम्मान देना, अपने क्षमता पर विश्वास करना और स्थिति से निकलने का हिम्मत पैदा करना. 

वास्तव में, कम्फर्ट ज़ोन से ग्रोथ ज़ोन तक की हमारी यात्रा में, यह केवल हमारा कॉन्फिडेंस है जो मायने रखता है और यही वह फैक्टर है  जो आपके जीवन में हर लक्ष्य को प्राप्त करने में आपकी सफलता को तय करता है. इसलिए आपको यह कला सीखनी होगी कि हमारे जीवन में हर लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए आत्मविश्वास कैसे उत्पन्न करें। इस लेख के माध्यम से हम आपको बताएँगे कि कैसे हम खुद के अंदर आत्म-विश्वास पैदा करें क्योंकि आत्मविश्वास का सीधा संबंध हमारी मानसिक स्थिति और मजबूत मानसिक स्थिति के अभाव में हम कोई भी लक्ष्य प्राप्त नहीं कर सकते हैं. 

सराहने और सम्मान करने की कला सीखें 

सबसे पहले सेल्फ कॉन्फिडेंस हासिल करने के लिए, खुद को और दूसरों को भी सराहने और सम्मान करने की कला को जानें... अपने खुद के फैसले और कर्मों की सराहना और सम्मान किए बिना, आप अपने आप में सेल्फ कॉन्फिडेंस की भावना को विकसित नहीं कर सकते।

 चलो अभीष्ट मार्ग में सहर्ष खेलते हुए¸

विपत्ति विप्र जो पड़ें उन्हें ढकेलते हुए।

 घटे न हेल मेल हाँ¸ बढ़े न भिन्नता कभी¸

अतर्क एक पंथ के सतर्क पंथ हों सभी।

 तभी समर्थ भाव है कि तारता हुआ तरे

वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे।।

-मैथिलीशरण गुप्त


आपको अपने स्वयं के निर्णय की आलोचना करने के लिए उदार और विवेकपूर्ण होना होगा...मैं जानता हूं कि स्वयं कानून बनाना बहुत कठिन है और न केवल इसके कार्यान्वयन को सुनिश्चित करना...बल्कि किसी भी गलत कार्य या उल्लंघन के लिए खुद को दंडित करना भी... लेकिन याद रखें... यह आपको विवेकपूर्ण होने के लिए आत्मविश्वास और उदार होने की शक्ति प्रदान करेगा और आप अपनी पूर्णता के प्रति अपने व्यावहारिक दृष्टिकोण को सही ठहरा सकते हैं...

अपनी क्षमता पर विश्वास करें

प्रकृति ने हम सभी को अद्वितीय और अपार क्षमता प्रदान की है और केवल हम ही हैं जिन्होंने इन गुणों की सीमाएं तय की हैं ... मेरा विश्वास करें ... वे लोग जिन्होंने अपनी क्षमता और विचारों की कोई सीमा निर्धारित नहीं की है, उन्होंने अपने परम को प्राप्त किया है। जीवन में लक्ष्य …… और उन्होंने किसी रॉकेट साइंस का उपयोग करके इन चीजों को नहीं किया है …. उन्होंने अपनी क्षमता को पहचाना है और उसी को प्राप्त करने में अपने आत्मविश्वास का उपयोग किया है ….

जड़ता की स्थिति से निकलने का हिम्मत पैदा करें 

जीवन में कम्फर्ट जोन की चाहत और कुछ नहीं बल्कि भौतिकी के जड़त्व के नियम का पालन करना है जिसने हमें उसी स्थिति में रहने के लिए मजबूर किया... जिस स्थिति में हम वर्तमान में हैं... लेकिन हम यहां भीड़ का हिस्सा बनने के लिए नहीं हैं। जीवन और हमें अपने जीवन की नई ऊंचाई देनी है…। हमारे पास प्रकृति द्वारा उपहार में दी गई कुछ विशेष क्षमताएं हैं और इसलिए हमें विकास क्षेत्र की अपनी यात्रा के लिए सीमाएं क्यों निर्धारित करनी चाहिए।

नजरिया जीने का: गलतियों को दुहराने से बचें, दूसरों की गलतियों से सबक लें


नजरिया जीने का: समस्याओं का होना जीवन का एक अभिन्न हिस्सा है और हम इसे रोक नही सकते। हो सकता है कि आप हर कदम फूंक फूंक कर चलने का अभ्यस्त हैं और गलतियों से परहेज करते करना आपकी आदत का हिस्सा है, फिर भी आप इस तथ्य से इंकार नहीं कर सकते की जीवन में कुछ नया करने और सीखने के दौरान गलतियों का होना स्वाभाविक है और यह जीवन का हिस्सा हैं। 

लेकिन दोस्तों हमें इस तथ्य को भी याद रखना होगा कि जीवन में गलतियों को रिपीट या दुहराना आत्मघाती कदम है और इसे हर हाल में रोका जाना चाहिए।

गलतियाँ करने से अगर आप डरेंगे तो फिर जीवन में कुछ नया करने का जोखिम नही ले पाएंगे जो कदापि उचित नही  कही जा सकती। आखिर जीवन में कुछ नया करने और सोचने वाले महान व्यक्तित्व भी जोखिम लेकर ही जीवन को सार्थक किए हैं। जाहिर है आप भी कुछ नया करने और सोचने के लिए बने हैं फिर सिर्फ इसलिए की गलती नही की जानी चाहिए, आप जीवन में कुछ नया और विशिष्ट करने से कैसे रोक सकते हैं?

जीवन में रिस्क या जोखिम लेने से पीछे नहीं हटना चाहिए क्योंकि इस दौरान होने वाली गलतियां  आपके लिए सीखने की प्रक्रिया का एक हिस्सा है, हां इतना हमें ध्यान रखनी होगी की उसे दोहराया न जाए|

महान कूटनीतिक और विद्वान चाणक्य की इस कथन को हमेशा याद रखें " दूसरों द्वारा की जाने वाले गलतियों से सीखने का प्रयास करो क्योंकि अपनी गलतियों sell सीखने में हमारी उम्र छोटी पड़ जायेगी"

वैसे भी अंग्रेजी में एक कहावत है "To Err is human" स्पष्ट है कि गलतियों का नही होना आपकी विद्वता ही सकती है लेकिन कुछ नया करना भी जरूरी है। 

इसलिए जीवन में गलतियों से डरने के नही बल्कि कुछ नया करने पर फोकस करें क्योंकि प्रकृति हम सभी को विशेष गुण और विलक्षण प्रतिभा के साथ उत्पन्न किया  फिर सिर्फ कुछ गलतियों के नहीं करने की जिद के लिए उसे सीमा में बांधने वाले हम कौन होते हैं?

जहाँ तक बात गलतियों की है, आपने उस पुरानी कहावत तो सुनी होती- "गलती भी उसी से होती है, जो कुछ ना कुछ करते है, जो कुछ करेंगे ही नहीं   भला उनसे  किसी  प्रकार की गलती  की अपेक्षा भला कैसे की जा सकती है.... "

नजरिया जीने का: संघर्ष नहीं निष्फल होगा, बेशक आज नही तो कल होगा


नजरिया जीने का: जीवन में सफलता के लिए ढेरों टिप्स ही सकते हैं और इनमें कई तो इतने शॉर्टकट होते हैं जो आपको गुमराह भी कर सकते हैं। लेकिन आपका हार्ड वर्क अर्थात कठिन परिश्रम और धैर्य आपका कभी भी साथ नहीं छोड़ सकता और इसमें हमें किसी प्रकार का संदेह और भ्रम नहीं होनी चाहिए। दोस्तो, इतना तो हम सभी जानते हैं कि अगर हमें सूरज बनना है तो मार्ग में हमें जलना होगा और अगर शाम होते अपने घर पहुंचना है तो तपते रेगिस्तान पर हमें हर हाल में चलना होगा।

आप इतिहास उठाकर देख लीजिए, कठिन परिश्रम और मेहनत की बदौलत कितने सामान्य से इंसान अपने सीमित संसाधनों की बदौलत अपने लक्ष्य को हासिल कर अपना नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज करवाया है।

असफलता एक चुनौती है… स्वीकार करो…
क्या कमी रह गयी, देखो और सुधार करो…
जब तक ना सफल हो नींद-चैन को त्यागो तुम…
संघर्षों का मैदान छोड़ मत भागो तुम…
कुछ किये बिना ही जयजयकार नहीं होती…
हिम्मत करने वालों की कभी हार नहीं होती…
-हरिवंश राय बच्चन


बिल गेट्स की वह कथन तो आपको याद हीं होगा जिसमें वह अपने परिश्रम और पुरुषार्थ के बारे में लिखते हैं कि " अगर आप गरीब घर में पैदा होते हैं तो इसमें आपका कोई दोष नही है लेकिन अगर आप गरीब होकर मर जाते हैं तो इसके लिए आप और सिर्फ आप दोषी हैं"

मतलब साफ है कि सफल होने के लिए आपकी पारिवारिक पृष्ठभूमि और माता पिता के हालात की भूमिका ज्यादा महत्वपूर्ण नही है बल्कि उससे जरूरी है आपका सोच, परिश्रम और धैर्य।

चलो अभीष्ट मार्ग में सहर्ष खेलते हुए¸

विपत्ति विप्र जो पड़ें उन्हें ढकेलते हुए।

 घटे न हेल मेल हाँ¸ बढ़े न भिन्नता कभी¸

अतर्क एक पंथ के सतर्क पंथ हों सभी।

 तभी समर्थ भाव है कि तारता हुआ तरे

वही मनुष्य है कि जो मनुष्य के लिए मरे।।

-मैथिलीशरण गुप्त


नजरिया जीने का: "इच्छा" और "निर्णय" से थोडा कुछ लेकिन एक "निश्चय" से सब कुछ बदल सकता है.. जाने कैसे

Pillar of Success Will Decision Determination
नजरिया जीने का: जीवन में सफलता के लिए इच्छा और निर्णय की अहमियत से इंकार नहीं किया जा सकता क्योंकि किसी भी लक्ष्य को निर्धारित करने के लिए  इच्छा और निर्णय काफी अहम फैक्टर होते हैं । लेकिन क्या आप जानते हैं कि निश्चय वह अल्टीमेट फैक्टर है जो आपके जीवन किसी भी लक्ष्य और मंजिल को पाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। Inspiring Thoughts के इस लेख में आप जानेंगे कि  जीवन में लक्ष्य को पाने के लिए इच्छा शक्ति, निर्णय और निश्चय को कैसे और किस प्रकार से सदुपयोग कर सकते हैं. 

मानव जीवन बहुत हीं सुंदर और अनुपम भेंट है जिसे प्रकृति ने हमें दिया है। इस जीवन को सार्थक बनाना हमारे हाथ में है और इसके लिए जरूरी है कि हम अपने जीवन के लिए निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त कर एक मिसाल कायम करते हुए दूसरों के लिए आदर्श स्थापित करें।लेकिन याद रखें दोस्तों, जीवन को सार्थक बनाने के लिए निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करना जरूरी है और यह तभी संभव होगा जब हम एक अनुशासन युक्त जीवन के साथ तीन सूत्रों को अपने जीवन का हिस्सा बनाए।।। इच्छा, निर्णय और लक्ष्य को पाने का निश्चय

याद रखे जीवन में सफलता के लिए तीनों हीं का होना नितांत आवश्यक है। इनमें से किसी भी एक फैक्टर की अनुपस्थिति से आपके लक्ष्य को सफलता से हासिल करने की आपकी उम्मीदों को ग्रहण लग सकता है। 

जी हां, लक्ष्य को पाने के लिए सबसे पहले इच्छा का होना जरूरी है क्योंकि यह इच्छा ही हैं जो बीज के रूप में अंकुरित होकर आपके सपनों का फलदार वृक्ष का रूप लेती है। ये सच है कि जैसे सिर्फ बीज को धरती में बोना ही काफी नहीं होता बल्कि उसे तैयार समय पर सिंचाई और केयर की जरूरत होती है।।।

उसी प्रकार से सिर्फ इच्छा होना ही काफी नहीं है बल्कि उसे मूर्त रूप देने और अंजाम तक पहुंचाने के लिए उचित और विवेकपूर्ण निर्णय भी उतना ही जरूरी है। निर्णय लेते वक्त हमेशा इसका ध्यान रखें कि पक्षपातपूर्ण और तनाव की स्थिति में गंभीर निर्णय लेने से हमेशा बचें। 

जल्दबाजी में लिया गया निर्णय तभी सही है जब आपका विवेक आपके साथ है, अन्यथा वेट एंड वॉच का पालन करते हुए सही वक्त का इंतजार करना ज्यादा सही होगा। 

सही निश्चय आपके लिए उचित स्ट्रेटजी बनाने में आपको सहायता प्रदान करतीं है और लक्ष्य को पाने के लिए उचित स्ट्रेटजी का होना उतना जरूरी है जितना कि उसे प्राप्त करने के लिए निश्चय और संकल्पशक्ति का होना। 

यह संकल्प शक्ति और आपका निश्चय ही है जो आपके इच्छा और न्यायोचित निर्णय को सफलता पूर्वक उसके अंजाम तक पहुंचाने का अवसर प्रदान करता है। 

कहने का आशय यह है कि किसी भी वस्तु या लक्ष्य को हासिल करने की इच्छा कर लेने के बाद आपका निर्णय थोड़ा कुछ तो बदलता है लेकिन यह आपका निश्चय है जो किसी भी असंभव लगने वाले लक्ष्य को भी सुलभ और आसान बना देता है।

नजरिया जीने का: संकट मोचन भगवान हनुमान के बारे में जानें खास बातें


नजरिया जीने का: संकट मोचन भगवान हनुमान के बारे में जानें खास बातेंयह सच है कि हमें अपने लक्ष्य को पाने की खातिर हर संभव प्रयासों को अपनाने में कोताही नहीं बरतनी चाहिए। निरंतर प्रयास करते करते अगर आपको लगता है कि कुछ ब्रेक की जरूरत है तो इंस्पायर होने के लिए आप किसी भी अन्य महापुरुषों और व्यक्तित्व का अध्ययन कर सकते हैं क्योंकि यह न केवल मोटिवेट करेगा बल्कि आपको नई आज से सराबोर भी करेगा।

लेकिन याद रखें दोस्तों, अपने लक्ष्य को पाने के लिए जिस डिटरमिनेशन या इच्छा शक्ति की जरूरत है, उसे आपको अपने अंदर ही तलाश करनी होगी।

इच्छा शक्ति अगर महबूत है तो फिर आपको इंस्पायर होने की जरूरत काम पड़ेगी, क्योंकि यह आपको थकने नही देगा।

प्रसिद्ध कवि जय शंकर प्रसाद की इन पंक्तियों को अपने जीवन का मूल मंत्र बना लें " महाशक्तियों के बेग में रोड़े अटकाने से उनका बेग काम नहीभोता बल्कि वे दुगुने बेग से आगे बढ़ती हैं"

अपने इच्छाशक्ति को मजबूत बनाकर खुद को एक महाशक्ति के समान कठोर बना लें, फिर आपके और आपके लक्ष्य की बीच कोई बाधा टिक नहीं पाएगी।







नजरिया जीने का: आपकी प्रसन्ता में छिपा है जीवन की सफलता का रहस्य....

Inspiring  Thoughts: Happiness..Ultimate weapon for success in life
नजरिया जीने का:  
भले ही यह आपको कुछ विचित्र और अस्वाभाविक लगे... लेकिन व्यावहारिक रूप से यह जीवन का यथार्थ  है कि हमारी सफलता का रहस्य खुशी की स्थिति में है ... चिंता या दुखी होना जीवन में किसी परिस्थ्ति का एक हिस्सा हो सकता है लेकिन  यदि आप अपने जीवन में सफल होना चाहते हैं, तो प्रसन्न रहने की कला सीखना नितांत आवश्यक है. 

आप खुद इस बात का अनुभव करेंगे कि अगरा आपका चित प्रसन्न है तो आप बेहतर प्रदर्शन कर पाते हैं और आखिर जीवन में सफल होने के लिए आपके बेहतर प्रदर्शन के अतिरिक्त और क्या चाहिए....  

प्रसन्नता : एक यात्रा है... एक गंतव्य  नहीं है... आप अपने दैनिक जीवन में  अपने जीवन के लिए खुशी की स्थिति पर विचार करें  तो पाएंगे कि  प्रसन्न रहने की कला आपके द्वारा घटनाओं को देखने की दृष्टिकोण और मन की स्थिति में निहित है..... 

धैर्य और आत्मविश्वास का नहीं छोड़े दामन.... मिलेगी विपरीत परिस्थितियों में भी सफलता

 आपको अपने हर एक उस परिवेश  में खुश होने का एक कारण खोजने की कोशिश करनी होगी जिसमें हम रहते हैं........ बावजूद इसके कि  आपके आस-पास  आपको दुखी रखने के लिए पर्याप्त कारक मौजूद हैः... ... 

हमारे जीवन का अंतिम गंतव्य तो वह टारगेट है जिसके लिए हम अपने जीवन को एक कारण बनाते हैं....  लेकिन प्रसन्नता  सिर्फ एक यात्रा है और हमारे प्रदर्शन और हमारे जीवन के अंतिम लक्ष्य को प्राप्त करने के प्रयासों को प्रोत्साहित करने का साधन है.

बदल सकते हैं आपदा को अवसर में…जानें कैसे 

जीवन में प्रसन्नता प्रदान करने वाले कारणों को  नोट करें 

आपको खुश रखने और अपने लक्ष्य को हासिल  अभिप्रेरक बनने वाले कारणों को  अपने  डायरी में लिखें....  आपको प्रसन्न रखने वाले आपके जीवन  में तब आपके लिए खास भूमिका निभाएंगे जब आपके दिमाग में निराशावादी और नकारात्मक दृष्टिकोण का विचार आएगा।

गगन पर दो सितारे: एक तुम हो,

धरा पर दो चरण हैं: एक तुम हो,

‘त्रिवेणी’ दो नदी हैं! एक तुम हो,

हिमालय दो शिखर है: एक तुम हो,

 इस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के

-माखनलाल चतुर्वेदी


कहने की जरूरत नहीं है, यदि आप दुखी मनोदशा की स्थिति में आप कोई कार्य कर रहे होते हैं तो  आप देखेंगे कि आपके काम की दर बहुत धीमी है साथ हीं आपसे अक्सर गलतियां भी काफी होती है.  जाहिर है कि  अप्रसन्नता की स्थिति में आप  प्रदर्शन सही नहीं रख पाते हैं साथ ही अंत में  आप  मानसिक तनाव के से भी पीड़ित होते हैं.... 

Inspiring Thoughts: साहस को अपनाएँ... सफलता की कहानी खुद लिखें...

 लेकिन अगर आप प्रसन्नता की स्थिति में कोई मुश्किल कार्य को भी  करने का बीड़ा  उठाते हैं तो काम को एन्जॉय  गलतियों  की सम्भावना भी कम  होती है साथ ही आपका काम निर्धारित समय के भीतर पूरा भी हो जाता है... 

जाहिर है...प्रसन्नता की स्थिति में आप अपने प्रदर्शन को अच्छे से दुहरा पाते हैं. पाते हैं.... 


किसी के रोके न रुक जाना तू,

लकीरें किस्मत की खुद बनाना तू,

कर मंजिल अपनी तू फतह,

कामयाबी के निशान छोड़ दे,

घुट-घुट कर जीना छोड़ दे,

-नरेंद्र वर्मा


सभी के पास खुश होने या दुखी होने का कारण मौजूद है क्योंकि यह आपके मन की स्थिति पर निर्भर करता है....  बस आप कल्पना करें ... आपको किसी भी प्रतीक्षित यात्रा के लिए अपना दिन शुरू करना है तो क्या अप्रसन्नता  और नकारात्मक मन की स्थिति के साथ हमारी उस बहुप्रतीक्षित यात्रा को शुरू करना उचित है ... 

Inspiring Thoughts: डिप्रेशन और फ़्रस्ट्रेशन पर काबू पाने के लिए पाएं नेगेटिव माइंडसेट से छुटकारा

क्या आप इस तरह के आधे-अधूरे प्रयासों में यात्रा के अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं ... . निश्चित रूप से आपकी अंतरात्मा भी आपको अपनी यात्रा के दौरान खुश रहने की सलाह देगी और अपनी यात्रा के बेहतर परिणाम के लिए प्रसन्न रहने के अतिरिक्त और कोई भी बढ़िया  इसमें कोई संदेह नहीं है कि आपको अपने जीवन की बेहतरी के लिए दुखी और नकारात्मक मानसिकता को नजरअंदाज करना होगा।

लॉकडाउन और ऑनलाइन पढ़ाई: बच्चों से अधिक है पेरेंट्स की भूमिका, अपनाएँ ये टिप्स

नजरिया जीने का: सकारात्मक सोचें, सकारात्मक पक्षों को देखें और सकारात्मक दृष्टिकोण रखें

Inspiring Thoughts Positive Attitude and its Importance in Life
नजरिया जीने का:  
जीवन में सफलता के लिए यह जरुरी है कि हम नकारात्मक सोच और ऐसी प्रवृति वाले लोगों से एक खास दुरी बनाकर अपने प्रयासों पर फोकस करें। यह सकारात्मक दृष्टिकोण का अभ्यास हीं है जो आपके जीवन में आशावाद और आशावादी दृष्टिकोण लाता है। सकारात्मक दृष्टिकोण हमें सकारात्मक सोचने में आसान बनाता है और यह हमें चिंताओं और नकारात्मक सोच से बचने की कला भी सिखाता है...


बेशक अगर सकारात्मक और आशा के अनुरूप घटने वाली घटनाओं का हम स्वागत  करते हैं लेकिन थोड़ी से कुछ अप्रिय घटनाएं  हमारे  जीवन में दस्तक  देती  हैं कि हम अपने जीवन और परिस्थितियों को कोसना आरम्भ कर देते हैं.....



 .... लेकिन हमें यह याद रखना होगा कि केवल सकारात्मक दृष्टिकोण ही हमें जीवन के दैनिक जटिल और अप्रिय मामलों से अधिक आसानी से निपटने में मदद करता है।

धैर्य और आत्मविश्वास का नहीं छोड़े दामन.... मिलेगी विपरीत परिस्थितियों में भी सफलता

... यह सकारात्मक दृष्टिकोण का अभ्यास है जो आपके जीवन में आशावाद और आशावादी दृष्टिकोण लाता है। सकारात्मक दृष्टिकोण हमें सकारात्मक सोचने में आसान बनाता है और यह हमें चिंताओं और नकारात्मक सोच से बचने की कला भी सिखाता है...


 अपने जीवन में सफल होने के लिए, यदि कोई आपके जीवन में कुछ रचनात्मक परिवर्तन की उम्मीद कर रहा है, तो सकारात्मक दृष्टिकोण को जीवन के तरीके के रूप में अपनाने की आवश्यकता है।


Inspiring  Thoughts: आपकी प्रसन्ता में छिपा है जीवन की सफलता का रहस्य.... 

Attitude  भले एक छोटी से चीज सही लेकिन सच यह है कि जीवन के इसी बड़े और महत्वपूर्ण फर्क लाने के लिए यह बहुत प्रभावी भूमिका निभाती है....


 सकारात्मक और आशावादी दृष्टिकोण  की मदद से कई लोगों यहाँ तक की कई प्रसिद्ध हस्तियों ने कई बड़ी बीमारियों या संघर्षों के साथ अपनी लड़ाई जीत ली है.... वावजूद इस तथ्य के कि जीतना मुश्किल था….वास्तव में केवल एटीट्यूड ही काफी नहीं है..लेकिन जीवन में हमारी सफलता के लिए सकारात्मक और आशावादी दृष्टिकोण की आवश्यकता है...


 ..... मनोवृत्ति मूल रूप से वह तरीका है जिसमें हम किसी चीज़ के प्रति व्यवहार करते हैं या सोचते हैं या महसूस करते हैं ... आम तौर पर हम अपनी सोच, भावनाओं तथा  अन्य पहलुओं के संदर्भ में अपना दृष्टिकोण प्रदर्शित करते हैं। वास्तव में आपकी सोच गठन के पीछे मूल कारण है किसी चीज के प्रति आपका नजरिया...


यदि आप सकारात्मक सोचने के आदि  हैं और किसी भी घटना का केवल सकारात्मक पक्ष देखते हैं तो आप अपने जीवन के बारे में सकारात्मक दृष्टिकोण रखते हैं ... आप जिस मुद्दे से निपट रहे हैं, उसके बारे में बात करें ...और इसके लिए नेगेटिव विचारों को अपने मन में घर नहीं करने दें...

याद रखें... प्रकृति भी   आपके अंदर उत्पन्न विचारों को हीं सशक्त करने और उसे पूरा करने की लिए बल देती है... और इसलिए हैं हमें बचपन से यह पढ़ाया जाता है कि -" हमें अपने मन में बुरे विचारों को  लाने से बचना चाहिए..... "

आपका Attitude  आपके आस-पास हो रही घटनाओं के बारे में आपकी राय बनाने में आपकी मदद करता है... सोचने के तरीके ने आपके विचारों को तय किया और निश्चित रूप से यह आपके कार्यों में दिखाई देता है। जिस वातावरण में आप रह रहे हैं, वह भी आपके दृष्टिकोण के प्रभाव  प्रदर्शित करता है...

दुनिया में ऐसे लोग भी हैं जिन्होंने अपनी मामूली चोटों और जीवन की कठिनाइयों के कारण जीवन के निराशावादी और नकारात्मक रवैये के कारण दम तोड़ दिया है….

बदल सकते हैं आपदा को अवसर में…जानें कैसे 

अपने जीवन में हर असफलता के लिए अपने आस-पास की परिस्थितियों को दोष न दें… आपके जीवन में कठिन परिस्थितियों से निपटने के लिए अपनी मानसिकता और दृष्टिकोण को बदलने की आवश्यकता है…।

आपके सकारात्मक और आशावादी दृष्टिकोण में आपके जीवन में आपकी हर सफलता/असफलता का कारण प्रदान करने की शक्ति है और इसलिए अपने सोचने के तरीके को नज़रअंदाज़ न करें… निश्चित रूप से यह आपके जीवन में कठिन परिस्थितियों से निपटने का मूल तरीका है…

लॉकडाउन और ऑनलाइन पढ़ाई: बच्चों से अधिक है पेरेंट्स की भूमिका, अपनाएँ ये टिप्स


आपको अपने जीवन में आने वाली हर घटना के साथ सकारात्मक दृष्टिकोण रखना होगा चाहे वह पेशेवर हो या व्यक्तिगत…। यह एक भावनात्मक स्थिति हो सकती है जिस पर आपको ध्यान देने की आवश्यकता है… सभी घटनाओं से निपटने के लिए आपको सकारात्मक और आशावादी रवैया रखना होगा। मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक सहित ....



विश्वास करें….आपमें परिस्थितियों को बदलने के लिए एटीट्यूड की शक्ति है क्योंकि आप अपनी खुद की परिस्थितियों के निर्माता हैं… अपने सकारात्मक और आशावादी दृष्टिकोण के साथ।

नजरिया जीने का: धैर्य और आत्मविश्वास का नहीं छोड़े दामन, मिलेगी विपरीत परिस्थितियों में भी सफलता


नजरिया जीने का: आप विश्वास  कीजिए…..जिस दिन  आप अपने अंदर से नेगेटिव माइंडसेट को निकाल कर उसके जगह आत्म विश्वास को शामिल कर लेंगे,,,,इन विपरीत परिस्थितियों में भी आप निश्चित सफलता प्राप्त कर सकते हैं.

 याद रखें तमाम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद हम अपने लाइफ में सफल हो सकते हैं और इसके लिए सबसे जरुरी फैक्टर हैं  आपके अंदर आत्मविश्वास और धैर्य का होना.
आप विश्वास कीजिए जिनके पास आत्मविश्वास है वह इन विपरीत परिस्थितियों में भी अपने सफलता का मार्ग लेते हैं और इसके लिए सबसे जरूरी है  सकारात्मक और पॉजिटिविटी का होना.
दोस्तों विपरीत परिस्थितियों में सफलता प्राप्त करने के लिए धैर्य  का होना बहुत जरूरी है पर यह याद रखें यह आपको अपने अंदर ही विकसित करनी होगी.  

किसी कवि की ये पंक्तियाँ आप को विपरीत परिस्थितियों में लड़ने में सार्थंक हो सकती है. 
वह पथ क्या पथिक परीक्षा क्या
जिस पथ में बिखरे शूल ना हो
नाविक की धैर्य परीक्षा क्या 
यदि धाराएं प्रतिकूल ना हो. 


आप इतिहास के तमाम महापुरुषों की जीवन वृतांत को देखें तो यह साबित हो जाएगा की रातों-रात सफलता किसी को नहीं मिलती और यह भी उतना ही बड़ा सच है कि जिसने जितनी बड़ी सफलता हासिल किया है उसके मार्ग पर प्रकृति ने उतने ही कांटे और फूल बिछा कर रखे थे ऐसा नहीं है कि वे महापुरुषों और उन बाधाओं को देख अपने कदम वापस खींच लिए. 

तू रुख हवाओं का मोड़ दे,
हिम्मत की अपनी कलम उठा,
लोगों के भरम को तोड़ दे।
-नरेंद्र वर्मा

किसी भी कार्य को करने के बहुत सारे तरीके हो सकते हैं. और आपको भी अपने लिए तरीकों को चुनने की पूरी आजादी है. लेकिन यह याद रहें दोस्तों . अपने चुने गए तरीकों को जस्टिफाई करना भी आपको ही होगा. हाँ इसके लिए आप सफल महापुरुषों के अनुभवो और बताये गए रास्तों को आधार बना सकते हैं. 

विख्यात कवि/ साहित्यकार की उस कथन को याद करों दोस्तों..."महाशक्तियों के वेग में रोड़े अटकाने से उनके वेग कम नहीं होता बल्कि वो दुगुने वेग से आगे बढ़ती है." दोस्तों अब फैसला आपको करना है कि आप खुद का तुलना किसी मामूली शक्ति करते हैं या किसी महाशक्ति. अगर उत्तर महाशक्ति में है तो फिर याद रखें.आप इन बाधाओं को पार करने और निकलने के लिए दुगुने वेग से प्रयास करने वालों में से हैं. 
अक्सर ऐसा होता है कि अपनी राहों में मिलने वाले थोड़ी से चुनौतियों को हम बाधा का नाम देकर उससे परेशान हो जाते हैं कि हम खुद को परिस्थति के आगे विवश और लाचार समझने लगते हैं. पता नहीं हमें ऐसा क्यों लगता है कि परिस्थितियों का हमेशा हमारे पक्ष में हीं होनी चाहिए.

लेकिन क्या यह सच नहीं है दोस्तों कि परिस्थितियों हमेशा हमारे अनुकूल रहे हैं ऐसा नहीं करना चाहिए आखिर यह संसार सिर्फ हमारे लिए हीं तो नहीं बनी है. 

दोस्तों आपको आश्चर्य होगा के हम जिन बाधाओं और परिस्थितियों को अपनी सफलता के मार्ग का सबसे बाड़ा बाधा बताते हैं. सच्चाई तो यह है कि हम अपनी सफलता के मार्ग का बाधा खुद होते हैं. 

हमारी नेगेटिव सोच और खुद का अंदर पैदा किया गया नकारात्मक माइंडसेट प्रमुख बाधा होती है हमारी असफलता के पीछे….लेकिन हम दोष देते हैं उन परिस्थितियों और बाधाओं को. 

नजरिया जीने का: अरविंद केजरीवाल- अलग सोच और राजनीति का अलग अंदाज़

 


नजरिया जीने का: 2024 के लोकसभा चुनाव को देखते हुए एक और जहाँ कांग्रेस सहित सभी विपक्षी पार्टियों में मोदी को पराजित करने के लिए नेतृत्व को लेकर होड़ मची है, वही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने विपक्षी पार्टियों को यह सोचने के लिए मजबूर कर दिया है कि अब उन्हें कोई हलके में लेने की गलती नहीं कर सकता. केजरीवाल ने अपनी सूझबूझ और आप को दिलाई सफलता से यह बता दिया है कि भाजपा को पराजित करने में उनके बिना बना मोर्चा सफलता की गारंटी नहीं हो सकती और यही कारन है कि बिहार के मुख्य मंत्री नितीश कुमार से लेकर सभी विपक्षी पार्टियां केजरीवाल के साथ मोर्चा की सम्भावना को लेकर चल रहे है. 

दिल्ली निकाय चुनाव में आम आदमी पार्टी की ताजा जीत ने एक बार फिर दिखा दिया कि लोगों के दिमाग से अरविंद केजरीवाल का जादू खत्म नहीं हुआ है. प्रचार के दौरान तमाम बाधाओं और आरोपों के बावजूद केजरीवाल ने उन चुनौतियों का सामना किया और एमसीडी चुनाव में जीत सुनिश्चित की। बेशक आप राजनीतिक मुद्दों पर केजरीवाल से असहमत हो सकते हैं, लेकिन विरोधियों से अकेले लड़ने के लिए आपको उनके व्यक्तित्व की सराहना करनी होगी।

अनूठी सोच

केजरीवाल के पास एक विशेष प्रकार की ऊर्जा है जिसने उन्हें अनोखे तरीके से सोचने और विशिष्ट तरीके से उस पर अमल करने की क्षमता प्रदान की है। यहां तक कि उनके प्रतिद्वंद्वी भी उनकी अगली चाल के बारे में उम्मीद नहीं कर सकते थे और उन्होंने अपने कदमों से उन्हें चकित कर दिया।

राजनीति के अनोखे तरीके

उनके विरोधी भी खामोशी से स्वीकार करते थे कि अरविन्द केजरीवाल ने राजनीति के पारंपरिक तौर-तरीकों को दरकिनार करते हुए राजनीति का एक अनोखा तरीका स्थापित किया है.

जवाब देने का अनोखा तरीका

अरविंद केजरीवाल विरोधियों द्वारा लगाए गए आरोपों का सीधा जवाब देने से बचते हैं। वह अपनी पार्टी या नेताओं से संबंधित मुद्दों से बचने के लिए अलग-अलग मुद्दों पर प्रतिद्वंद्वी पर हमला करता था।


नजरिया जीने का: पढ़ें और भी...

रिश्ते खास हैं, इन्हे अंकुरित करें प्रेम से, जिंदा रखें संवाद से और दूर रखें गलतफहमियों से

इमोशनल हैं, तो कोई वादा नहीं करें और गुस्से में हों तो इरादा करने से परहेज करें

स्व-अनुशासन के महत्त्व को समझे और जीवन को बनाएं सार्थक 

रखें खुद पर भरोसा,आपकी जीत को कोई ताकत हार में नहीं बदल सकती

नजरिया : मीडिया के प्राइम टाइम से फ्रंट बनना हो तो ठीक वरना मोदी वर्सेस कौन-आज भी यक्ष प्रश्न


2024 के आम चुनाव में भले ही I.N.D.I.A.  गठबंधन बनाकर विपक्षी दलों ने एन डी ए  पर प्रारंभिक बढ़त बनाने का ग़लतफ़हमी पाल लिया है लेकिन यह उन नेताओं को भी पता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राजनितिक सूझबूझ इतनी कमजोर नहीं है कि वे आसानी से हार मान जायेंगे. अगर मोदी को हराना इतना आसान होता तो फिर विपक्ष को एक मंच पर आने की जरुरत क्यों पड़ती। 
एक बार फिर से 2024 के आम चुनाव को लेकर गहमा गहमी का दौर शुरू हो गया है। पी एम की दौर में नहीं होने का दंभ भरने वाले ढपोरशंखी नेताओं की दबी महत्वकांक्षा फिर से जागने लगी है। वैसे तो सदैव अपने साथ चापलूसों से घिरे रहने वाले इन नेताओं को अपना औकाद अच्छी तरह पता है लेकिन उन्हें आज भी यही लगता है कि पूर्व की  भांति आज भी वे किसी झटके से अब भी वह देवेगौड़ा या गुजराल के तरह प्रधान मंत्री की गद्दी प्राप्त कर लेंगे।

2024 वर्सेज 2014 खेला
ऐसे नेतागण आज भी यही मुगालता पालकर जी रहे हैं कि देश में गठबंधन की सरकार के दिन वापस आयेंगे। हालांकि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और उनके सूझबूझ से विपक्षी नेता गण भी अच्छी तरह परिचित हैं और उन्हें भी यह मालूम है कि जिस सपने को पालकर वह 2024 में प्रधान मंत्री का ख्वाब पल रहे हैं, मोदी ने 2014 में ही उस ख्याल को जमींदोज कर दिया।

मिशन 272
मतलब साफ है कि मोदी ने मिशन 272 को ध्यान में रख कर चुनाव लडा था क्योंकि वह जानते थे कि सांप्रदायिक शक्तियों को बाहर करने के नाम पर सत्तालोभी गठबंधन बनेगा और इसलिए मोदी जी ने खुद के दाम पर बहुमत लाने के स्ट्रेटजी को आगे रखा।

गठबंधन राजनीति पर पूर्णविराम
गठबंधन की राजनीति की मजबूरी यहीं है कि एक निर्दलीय भी झारखंड जैसे राज्य का मुख्यमंत्री बन सकता है और देवेगौड़ा और गुजराल जैसे लोग देश का प्रधानमंत्री बन सकते हैं बावजूद इसके कि न तो वे प्रधानमंत्री पद की दौड़ में होते हैं और नहीं उनकी पार्टी सबसे बड़ी पार्टी होती है। मोदी युग ने गठबंधन बनाकर सत्ता सुख पाने वाले दिन को इतिहास बनाकर रख दिया है और यह बात प्रधानमंत्री पद के लिए मोदी के साथ खड़ा होने वाले नेताओं को अवश्य हीं समझ लेनी चाहिए।

मोदी के सामने विपक्षी नेताओं का बौना कद 
विपक्षी पार्टियों के नेता भले ही चुनावीं रैली या उनके प्रवक्ता टेलीविजन के स्क्रीन पर गला फाड् कर मोदी के बड़े कद को झुठलाते रहें, लेकिन  सच तो यह है कि विपक्षी पार्टियों में कोई भी नेता मोदी को टक्कर देने के लिए काफी नहीं है. 

विकास पुरुष का दंभ भरने वाले विपक्षी नेताओं का कद कभी भी उतना बड़ा नही ही पाया जितने उनके चापलूस नेतागण उन्हें बताते हैं। सच  तो यह है कि मोदी की गिनती आज अंतर्राष्ट्रीय स्तर  के नेताओं में शुमार हो चूका है और वह दुनिया की राजनीती में भी अपनी छाप छोड़ते नजर आते हैं. जाहिर है कि इसमें किसी प्रायोजित मीडिया की भूमिका  नहीं है  जैसा कि उनके आलोचक बताते हैं.