Showing posts with label najariya jine ka. Show all posts
Showing posts with label najariya jine ka. Show all posts

नजरिया जीने का: स्वस्थ मस्तिष्क के लिए जरुरी है उसे लगातार सक्रिय रखना-जानें टिप्स


  • सफलता के लिए आवश्यक सोचने, समझने और सीखने की क्षमता को स्वस्थ मस्तिष्क ही प्रदान करता है। जीवन में सफलता के लिए स्वस्थ मस्तिष्क का रहना अत्यंत आवश्यक है क्योंकि यही सफलता का सबसे बड़ा राज है। सच्चाई तो यह है कि यह मस्तिष्क हीं हैं जो हमारे शरीर गाइड करता है और हमारे सोचने, समझने, सीखने, निर्णय लेने और कार्य करने की क्षमता को नियंत्रित करता है। अब अगर हमारा मस्तिष्क हीं अस्वस्थ अर्थात नकारात्मक बातों से भरा होगा तो हम इन सभी कार्यों को प्रभावी ढंग से भला कैसे कर सकते हैं?
अगर कोई इंसान खाली बर्तन हाथ में लिया है तो इसका मतलब हम भले ही लगा लें कि वह भीख मांग रहा है। हालांकि यह भी तो हो सकता है की वह सबकुछ बांटकर अपना वर्तन खाली कर चुका है। 
कहने का आशय सिर्फ इतना है कि हम दूसरों में वही देखते हैं जो हम खुद होते हैं या जो हमारी सोच होती है।
Remember..."We perceive things as we are, not as they are."



मानसिक चुनौतियों का सामना करना:
 मस्तिष्क को स्वस्थ रखने के लिए उसे लगातार सक्रिय रखना चाहिए। इसलिए हमें मानसिक चुनौतियों का सामना करना चाहिए, जैसे कि नए कौशल सीखना, समस्याओं को हल करना, और रचनात्मक कार्य करना।
तनाव से बचना: 
तनाव मस्तिष्क के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है। इसलिए हमें तनाव से बचने के लिए प्रयास करने चाहिए।
जब हम इन सभी बातों का ध्यान रखते हैं, तो हमारा मस्तिष्क स्वस्थ रहता है। इससे हमें अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद मिलती है।

यहां कुछ विशिष्ट तरीके दिए गए हैं जिनसे स्वस्थ मस्तिष्क सफलता के लिए आवश्यक है:
  • सफलता के लिए आवश्यक सोचने, समझने और सीखने की क्षमता को स्वस्थ मस्तिष्क ही प्रदान करता है।
  • सफलता के लिए आवश्यक निर्णय लेने और कार्य करने की क्षमता को भी स्वस्थ मस्तिष्क ही नियंत्रित करता है।
  • सफलता के लिए आवश्यक रचनात्मकता और नवाचार को भी स्वस्थ मस्तिष्क ही प्रेरित करता है।
  • इसलिए, सफलता के लिए स्वस्थ मस्तिष्क का होना आवश्यक है।
स्वस्थ मस्तिष्क के लिए कुछ आवश्यक टिप्स :
नियमित व्यायाम और सक्रिय जीवन शैली: 
व्यायाम मस्तिष्क को रक्त और ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाता है, जो मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। इसके अलावा, व्यायाम मस्तिष्क में नए न्यूरॉन्स और सिनेप्स के विकास को बढ़ावा देता है।
अच्छी नींद: 
नींद मस्तिष्क को आराम और मरम्मत करने का समय देती है। पर्याप्त नींद न लेने से मस्तिष्क की कार्यक्षमता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।
संतुलित आहार लें:
 मस्तिष्क के लिए स्वस्थ आहार में पर्याप्त प्रोटीन, विटामिन, और खनिज शामिल होने चाहिए। प्रोटीन मस्तिष्क के ऊतकों के निर्माण और मरम्मत के लिए आवश्यक है। विटामिन और खनिज मस्तिष्क के कार्य के लिए आवश्यक कई एंजाइमों और हार्मोन के उत्पादन में मदद करते हैं।
धूम्रपान छोड़ें और शराब का सेवन सीमित करें:
 धूम्रपान और शराब का सेवन मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। धूम्रपान मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह को कम करता है, जबकि शराब मस्तिष्क के ऊतकों को नुकसान पहुंचा सकती है।
मानसिक रूप से सक्रिय रहना: 
मानसिक रूप से सक्रिय रहना मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। नई चीजें सीखना, पहेली या क्रॉसवर्ड सॉल्व करना, और सामाजिक गतिविधियों में शामिल होना मस्तिष्क को चुनौती देने और नए न्यूरॉन्स के विकास को बढ़ावा देने में मदद करता है।





नजरिया जीने का: स्मार्ट पेरेंटिंग टिप्स-शिशुओं और छोटे बच्चों, किंडरगार्टनर और अन्य

Najariya Jine Ka Smart Parenting Tips For  Toddler Teenagers

अगर आप पैरेंट हैं और आपके बच्चे स्कूल या नर्सरी का छात्र है तो फिर आपको स्मार्ट पेरेंटिंग टिप्स से परिचित होना काफी जरुरी है. जी हाँ, आज का दौर स्मार्टनेस का दौर है और सच यह भी है कि हमारे बच्चों की स्मार्टनेस और सफलता हीं पेरेंट्स की पेरेंटिंग का सर्टिफिकेट है और आप इससे इंकार नहीं कर सकते। भले हैं हम सभी पेरेंटिंग टिप्स का इस्तेमाल करने के दौरान काफी कॉन्फिडेंट रहते हैं और निश्चित ही इसका वजह भी है। हम सभी पेरेंट्स इस तथ्य से भली भांति वाकिफ हैं की आधुनिक समय में अगर आप र्स्माट पेरेंटिंग करते हैं, तो आपके बच्चों के साथ आपकी बॉन्डिंग भी और स्ट्रांग होगी और इसके लिए जरुरी है कि हम अपने बच्चों के लिए माता पिता के साथ ही उनके लिए दादा-दादी, नान-नानी, चाचा-चाची, बुआ आदि की भूमिका भी निभानी पड़ती है क्योंकि  अब पहले की तरह संयुक्त परिवार के तरह ये सभी उपलब्ध होते हैं है जो  बच्चों को सही और गलत के बारे में जानकारी देंगे. हालांकि सच यह भी है कि तब माता-पिता से कहीं ज्यादा बच्चे ग्रांड पेरेंट्स के साथ अटैच होते थे  अब न्यूक्लियर फैमिली में बच्चे माता-पिता के साथ रहते हैं और एक वहीं माध्यम होते हैं, जो उन्हें घर में सही और गलत के बारे में जानकारी देते हैं। जाहिर है कि इस बदलते परिवेश में स्मार्ट पेरेंटिंग (Smart parenting) की भी जरूरत ज्यादा जरुरी और महत्वपूर्ण हो चुकी है।

अगर आपके बच्चे ग्रो कर रहे हैं तो आपको ये जानकारी जरूर होनी चाहिए कि कैसे स्मार्ट पेरेंटिंग करनी चाहिए। इस आर्टिकल में इन्हीं बिंदुओं पर प्रकाश डाला गया है। स्मार्ट पेरेंटिंग (Smart parenting) के कुछ टिप्स जो आपकी मदद कर सकते हैं, आइये जानते हैं उनके बारे में।

बच्चों को हमेशा उदाहरण के आधार पर समझाएं

बच्चे अपने आस-पास के वयस्कों को देखकर सबसे अच्छा सीखते हैं और इसके लिए यह जरुरी है कि अपनी बातों को समझने के लिए एक्साम्प्ल का हमेशा प्रयोग करें । इसलिए, उस व्यवहार को मॉडल करना सुनिश्चित करें जो आप उनमें देखना चाहते हैं।

स्पष्ट अपेक्षाएँ निर्धारित करें: 

अपने बच्चों को बताएं कि व्यवहार, काम-काज और शिक्षा के मामले में आप उनसे क्या अपेक्षा करते हैं। अपनी अपेक्षाओं के प्रति स्पष्ट, सुसंगत और आयु-उपयुक्त रहें।

सकारात्मक सुदृढीकरण प्रदान करें:

 अपने बच्चों को अच्छा बनें और उनके प्रयासों के लिए उनकी प्रशंसा करें। सज़ा की तुलना में सकारात्मक सुदृढीकरण कहीं अधिक प्रभावी प्रेरक है।

विकल्पों की पेशकश करें: 

जब उचित हो, अपने बच्चों को नियंत्रण और स्वतंत्रता की भावना देने के लिए विकल्पों की पेशकश करें।

अपने बच्चों की बात सुनें: 

अपने बच्चों की बात सुनने और उनकी भावनाओं को समझने के लिए समय निकालें। उन्हें बताएं कि उनकी राय आपके लिए मायने रखती है।

एक साथ गुणवत्तापूर्ण समय बिताएं:

 पारिवारिक गतिविधियों के लिए नियमित समय निर्धारित करना सुनिश्चित करें जिनका हर कोई आनंद लेता है। इसमें गेम खेलने से लेकर बाहर घूमने जाने तक कुछ भी शामिल हो सकता है।

अपना ख्याल रखें: 

अपने शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य का ख्याल रखना महत्वपूर्ण है ताकि आप सबसे अच्छे माता-पिता बन सकें।

विशिष्ट टिप्स : शिशुओं और छोटे बच्चों के लिए:

  • एक सुरक्षित और प्रेमपूर्ण वातावरण बनाएं.
  • अपने बच्चे से अक्सर बात करें और गीत या गाना या राइम को शेयर ।
  • अपने बच्चे को किताबें पढ़ कर कहानी सुनाएँ  .
  • अपने बच्चे के साथ इंटरैक्टिव गेम खेलें।
  • अपने बच्चे को अन्वेषण और सीखने के लिए भरपूर अवसर प्रदान करें।
  • प्रीस्कूलर और किंडरगार्टनर के लिए:
  • अपने बच्चे को उनके सामाजिक और भावनात्मक कौशल विकसित करने में मदद करें।
  • अपने बच्चे को रचनात्मक और स्वतंत्र होने के लिए प्रोत्साहित करें।
  • सीमाएँ और सीमाएँ निर्धारित करें।
  • अपने बच्चे को समस्याओं को हल करना सीखने में मदद करें।
  • अपने बच्चे को स्वस्थ आदतों के बारे में सिखाएं।

स्कूल जाने वाले बच्चों के लिए:

  • अपने बच्चे को अध्ययन की अच्छी आदतें विकसित करने में मदद करें।
  • अपने बच्चे को पाठ्येतर गतिविधियों में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करें।
  • अपने बच्चे से नशीली दवाओं, शराब और सेक्स के बारे में बात करें।
  • अपने बच्चे को स्वस्थ संबंध बनाने में मदद करें।
  • अपने बच्चे को जिम्मेदारी और नागरिकता के बारे में सिखाएं।

किशारों के लिए:

  • अपने किशोर को अधिक स्वतंत्रता दें।
  • अपने किशोर की निजता का सम्मान करें।
  • एक अच्छा श्रोता होना।
  • मार्गदर्शन और सहायता प्रदान करें.
  • अपने किशोर को बताएं कि आप उससे प्यार करते हैं और उसका समर्थन करते हैं।

नजरिया जीने का: आखिर नरेंद्र मोदी की कौन से हैं वह खूबियां जो बनाती हैं लोकप्रिय और प्रभावशाली नेता


हाल के पांच राज्यों जैसे मध्य प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना. छत्तीसगढ़ और मिजोरम के चुनाव परिणामों ने यह साबित कर दिया है कि प्रधान मोदी का मैजिक आज भी  जारी है. इंडिया अलायन्स (Indian National Developmental Inclusive Alliance) ने अपने गठन के साथ जो दिवास्वप्न दिखाए थे अब लगता है कि उसका यथार्थ की धरातल पर उतारने में सबसे बड़ी समस्या विपक्षी नेताओं के लिए नरेंद्र मोदी का चमत्कारी व्यक्तिव है. विपक्षी नेताओं जिसमें सूत्रधार रहने वाले नेताओं के साथ ही खुद को प्रधान मंत्री का सपना देखने वाले नेताओं को भी यह पता है कि मोदी का आकर्षण आज भी ख़त्म नहीं हुआ है. इन राज्यों के चुनाव परिणामों ने एक बार फिर से यह साबित कर दिया है. आइये देखते हैं कि आखिर नरेंद्र मोदी के व्यक्तित्व की क्या है वह खासियत जिसका आकर्षण आज भी बरक़रार है. 

अगर आप नरेंद्र मोदी के व्यक्तित्व का आकलन करेंगे तो पाएंगे कि उनकी कार्यकुशलता और कुशल नेतृत्व उनकी सबसे बड़ी खासियत है। वह एक बहुत ही मेहनती और लक्ष्य-उन्मुख नेता हैं साथ ही मुश्किल परिस्थितियों से कभी वह घबराते नहीं है  वह अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत करने और बाधाओं को पार करने से नहीं डरते। मोदी ने अपने राजनीतिक जीवन में कई चुनौतियों का सामना किया है, लेकिन उन्होंने हर बार उनका सामना किया है और सफलता प्राप्त की है।

मोदी की कार्यकुशलता और निर्णय लेने की क्षमता का अंदाजा इसी से लगाया जार सकता है कि उनके प्रधानमंत्री के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान कभी भी ज्वलंत मुद्दों पर ठोस  निर्णय लेने में विलम्ब नहीं लेते । उन्होंने अपने कार्यकाल में कई महत्वपूर्ण योजनाओं और नीतियों को लागू किया है, जैसे कि स्वच्छ भारत मिशन, डिजिटल इंडिया मिशन, और मेक इन इंडिया। इन योजनाओं और नीतियों ने भारत के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

न केवल प्रधान मंत्री के रूप में बल्कि मोदी की कार्यकुशलता का उदाहरण उनके गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान देखा जा सकता है जहाँ उन्होंने  गुजरात को भारत का सबसे विकसित राज्य बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने गुजरात में आर्थिक विकास, शिक्षा, स्वास्थ्य, और बुनियादी ढांचे के क्षेत्रों में महत्वपूर्ण सुधार किए।

निसंदेह मोदी की कार्यकुशलता ने उन्हें भारत के सबसे लोकप्रिय नेताओं में से एक बना दिया है। वह एक ऐसे नेता हैं जिन पर लोग भरोसा करते हैं कि वह उनके लिए काम करेंगे।

मोदी के व्यक्तित्व की अन्य खासियतों में शामिल हैं:

उनका संवाद कौशल: 

मोदी एक बहुत ही प्रभावशाली वक्ता हैं और अपनी बातों को वह बेहद प्रभावशाली ढंग से श्रोताओं तक पहुंचते हैं । मोदी की क्षमता और हर वर्ग के श्रोताओं पर उनकी पकड़ का अंदाजा आप इसी से लगा सकते है कि वह किसाओं से लेकर महिलाओं तक और परीक्षा पर चर्चा कर विद्यार्थियों की समस्या पर अपने राय बेबाकी से देता है. वह अपने भाषणों के माध्यम से लोगों को प्रेरित और उत्साहित कर सकते हैं।

उनकी नेतृत्व क्षमता:

 मोदी एक दृढ़निश्चयी और कुशल नेता हैं और उनकी इस क्षमता को उनके विरोधी भी दबी जुबान से स्वीकार करते हैं। वह अपने अनुयायियों को एकजुट कर सकते हैं और उन्हें एक लक्ष्य की ओर ले जा सकते हैं।

उनका विजन: 

मोदी एक दूरदर्शी नेता हैं और देश के साथ एक व्यापक विजन पर काम करते हैं  जिसपर देश वासी भरोसा भी करते हैं. उन्होंने भारत के लिए एक मजबूत और समृद्ध भविष्य की कल्पना की है और उनके हर कदम यह साबित करते हैं जो देशवासी द्वारा उनके ऊपर किया गया भरोसा दिखा

नजरिया जीने का Personality Development: हमेशा दिखावा से अधिक पास रखे, पर जानकारी से कम बोलें

William Shakespeare की एक बहुत ही महत्वपूर्ण उक्ति है "Have more than you show, Speak less than you know।" मतलब स्पष्ट है कि जानकारी से कम बोलें और दिखावा से ज्यादा रखें। शेक्सपियर की यह कथन का भावार्थ स्पष्ट सिखाती है कि हमें अपने ज्ञान और क्षमताओं को दिखाने के लिए बातचीत में ज्यादा हिस्सा नहीं लेना चाहिए। आपकी गंभीरता आपकी व्यक्तित्व को और भी व्यापक बनाती है जो श्रोताओं में एक जिज्ञासा को बनाए रखती है। आपका ज्यादा और अनावश्यक बोलना न  केवल आपकी व्यक्तित्व बल्कि सुनने वालों में भी बोझलता का माहौल बनाएगा। इसके बजाय, हमें दूसरों को सुनना चाहिए और उनकी बातों को समझना चाहिए।

अगर आप इस कहावत की गंभीरता पर विचार करेंगे तो पाएंगे कि इसके कई फायदे हैं। सबसे पहले, यह हमें विनम्र और सम्मानजनक बनाता है। जब हम दूसरों को सुनते हैं, तो हम उनके विचारों और भावनाओं को महत्व देते हैं। यह हमें एक बेहतर संवादी बनाता है और दूसरों के साथ हमारे संबंधों को मजबूत करता है।

जानकारी से हमेशा काम बोलने का सबसे बड़ा लाभ यह है कि यह आदत हमें दूसरों से सीखने में मदद करता है। जब हम दूसरों को सुनते हैं, तो हम नए विचारों और सूचनाओं से परिचित होते हैं। यह हमें अपने ज्ञान और समझ को बढ़ाने में मदद करता है।


इसके अतिरिक्त, यह हमें निर्णय लेने में मदद करता है। जब हम दूसरों से सुनते हैं, तो हम विभिन्न दृष्टिकोणों को देखते हैं। यह हमें अधिक सूचित निर्णय लेने में मदद करता है।

नजरिया जीने का: असफलता संकेत है कि हम लक्ष्य से चूक गए, खुद को विफल व्यक्ति तो हम खुद मान लेते हैं

najariya jine ka tips to overcome fear of failure

असफलता का मतलब यह कदापि नहीं होती है कि कोई खास व्यक्ति अपने लक्ष्य से चूक गया है और अब वह बिलकुल एक असफल व्यक्ति ही होकर रह जायेगा। अगर  सफलता की कोशिश के दौरान मिली असफलता का मतलब आपने यह लगा लिया है कि आप एक विफल व्यक्ति हैं तो फिर तो आपको  अपने  सोचने के रवैये में परिवर्तन की जरुरत है। 

सबसे पहले आपको यह समझना होगा कि सफलता की राह में मिली असफलता का डर एक सामान्य भावना है जो हर किसी को कभी न कभी महसूस होती है। सच तो यह है कि यह एक ऐसा डर है जो हमें नए अवसरों से पीछे हटने या अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने की कोशिश करने से रोक सकता है। जरुरत इस बात कि है कि आप असफलता का डर को नियंत्रित करना सीखे क्योंकि बिना इसके जीवन में किसी भी लक्ष्य को पाना असंभव हो जाएगी। असफलता के भय को दूर करने में ये टिप्स सहायक हो सकते हैं-

अपने डर को पहचानें-

सबसे पहले, यह समझना महत्वपूर्ण है कि आप किस चीज से डरते हैं। क्या आप डरते हैं कि आप असफल होंगे? क्या आप डरते हैं कि लोग आपका मजाक उड़ाएंगे? या क्या आप डरते हैं कि आप अपने लक्ष्यों को प्राप्त नहीं करेंगे? एक बार जब आप अपने डर को पहचान लेते हैं, तो आप उनका सामना करने के लिए एक योजना बनाना शुरू कर सकते हैं।

अपने डर को चुनौती दें-

अपने डर को चुनौती देने का एक तरीका है कि आप उन चीजों को करें जिनसे आप डरते हैं। यदि आप डरते हैं कि आप सार्वजनिक रूप से बोलने में असफल होंगे, तो एक सार्वजनिक भाषण दें। यदि आप डरते हैं कि आप एक परीक्षा में असफल होंगे, तो एक कठिन परीक्षा लें। अपने डर का सामना करने से आपको यह समझने में मदद मिलेगी कि वे वास्तव में कितने खतरनाक हैं।



अपने आप पर विश्वास करें-

असफलता का डर अक्सर आत्म-संदेह से जुड़ा होता है। यदि आप अपने आप पर विश्वास नहीं करते हैं, तो आप सफल होने की संभावना कम हैं। अपने आत्म-विश्वास को बढ़ाने के लिए, अपने गुणों और उपलब्धियों पर ध्यान दें। अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए आप जो कड़ी मेहनत कर रहे हैं उस पर ध्यान केंद्रित करें।

अपने आप को तैयार करें-

असफलता का डर अक्सर अनिश्चितता से जुड़ा होता है। यदि आप अपने आप को तैयार करते हैं, तो आप अनिश्चितता को कम करने में मदद कर सकते हैं। अपने लक्ष्यों के लिए एक योजना बनाएं और उस पर काम करें। अपने आप को उन चीजों के लिए तैयार करें जो गलत हो सकते हैं।

अपने आप को माफ करें। 

यदि आप असफल होते हैं, तो अपने आप को माफ करना सीखें। असफलता एक सामान्य हिस्सा है। हर कोई असफल होता है। असफलता से सीखने और आगे बढ़ने के लिए महत्वपूर्ण है।

असफलता का डर को नियंत्रित करना आसान नहीं है, लेकिन यह संभव है। यदि आप इन युक्तियों का पालन करते हैं, तो आप अपने डर को दूर करने और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए एक कदम आगे बढ़ सकते हैं।

लक्ष्य को पहचानें  

अपने लक्ष्यों को छोटे और अधिक प्रबंधनीय लक्ष्यों में विभाजित करें। इससे आपको अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में अधिक आत्मविश्वास महसूस करने में मदद मिलेगी।एक समर्थन प्रणाली बनाएं। ऐसे लोगों के साथ जुड़ें जो आपके सपनों में आपका समर्थन करते हैं।

सकारात्मक सोच 

इसके लिए यह जरुरी है कि आप सकारात्मक सोच का अभ्यास करें और खुद में सबसे पहले यह विश्वाश जगाएं कि आपके अंदर ऊर्जा का अपार भण्डार है । अपने आप को यह बताएं कि आप सफल हो सकते हैं। यदि आप असफलता के भय से गंभीर रूप से पीड़ित हैं, तो एक पेशेवर चिकित्सक से सलाह लेना महत्वपूर्ण है। एक चिकित्सक आपको अपने डर का कारण समझने और उन्हें प्रबंधित करने के लिए रणनीति विकसित करने में मदद कर सकता है।

असफलता के भय से निकलने में सहायक कोट्स 

  • "असफलता सफलता का एक हिस्सा है। कोई कभी भी असफलता के बिना सफल नहीं होता है।" - माइकल जॉर्डन
  • "असफलता का डर सफलता का सबसे बड़ा अवरोध है।" - डेविड हॉकिंग
  • "असफलता एक विकल्प नहीं है। यह एक परिणाम है।" - जॉर्ज एलिस
  • "असफलता एक अवसर है कि हम शुरू से बेहतर शुरुआत करें।" - हेनरी फोर्ड
  • "असफलता का मतलब है कि आपने अपने लक्ष्य से चूक गए। इसका मतलब यह नहीं है कि आप एक विफल व्यक्ति हैं।" - जॉन सी. मैक्सवेल



नजरिया जीने का: हम असफलता से नहीं, उसके भय से घबराते हैं...जानें कैसे पाएं नियंत्रण

नजरिया जीने का: भय की तरह साहस भी संक्रामक होता हैं और हम सभी इस तथ्य से परिचित हैं लेकिन  हमारी सबसे बड़ी विडम्बना यह है कि  हम दिल से इसे स्वीकार नहीं कर पाते. जीवन में अगर सफल होना है तो हमें असफलता के भय पर काबू  पाना ही होगा और अब यह आप पर निर्भर करता है कि आप खुद के अंदर भय या साहस...किसका बीज खुद के अंदर रोपते हैं.... क्योंकि याद रखें....अंकुरण आपके अंदर रोपे  गए बीज में होना है और वृक्ष और फल भी उसमें हीं लगना है.... 
असफलता का डर एक ऐसा भय है जो हमें नए अवसरों से पीछे हटने या अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने की कोशिश करने से रोकता है। आप असफलता का डर को नियंत्रित करना सीखे क्योंकि बिना इसके जीवन में किसी भी लक्ष्य को पाना असंभव हो जाएगी। 

क्या आप जानते हैं कि हमें सफलता को हासिल करने वाले जूनून और मिली असफ़लतां के लिए सबसे बड़ी विफलता क्या है.... दोस्तों वह है असफलता का भय... हाँ दोस्तों... हम असफलता से उतना नहीं घबराते जिंतना हमें उसे मिलने वाले भय से हम विफलता के शिकार हो जाते हैं...

वास्तव में यह हमारी सोच और माइंडसेट है जो हमारी एक्शन और स्टेप्स का निर्धारण करती है... जीवन है दोस्तों तो कठिंनाइयों का मिलना तय है और आप उससे बच नहीं सकते... हाँ जीवन में मिलने वाली उन बाधाओं और कठिनाइयों को कैसे लेते हैं यह आपके पॉजिटिव और नेगेटिव सोच पर निर्भर करता है....

दोस्तों..  एक बार याद रखें... जीवन में कठिनाइयाँ हमे बर्बाद करने नहीं आती है, बल्कि यह हमारी छुपी हुई सामर्थ्य और शक्तियों को बाहर निकलने में हमारी मदद करती है... ये  हमें यह बताती हैं कि हम किस मिटटी के बने हैं.. 

यह एकमात्र सत्य है क़ि अगर आप अपने लक्ष्य में सफल होना चाहते हैं तो  खुद के अंदर के भय को  दूर करने के लिए प्रयास कीजिये.... और इसके लिए सबसे जरुरी है खुद के अंदर साहस रूपी बीज को अंकुरित करें.... 

वास्तव में हमारा साहस हीं एकमात्र सच है जो  हमारे मन से भय को दूर कर सकता है. याद रखें, विफलता के डर को अलग किए बिना, आप अपने सपने को सफल नहीं बना सकते हैं और इसलिए सबसे पहले आपको अपने प्रयासों में विफलता के डर पर नियंत्रण प्राप्त करना होगा/

विंस्टन चर्चिल द्वारा भय और साहस के संदर्भ में दिए गए ऐतिहासिक उद्धरण को याद रखें ... "भय एक प्रतिक्रिया है, साहस एक निर्णय है।"

दोस्तों, जैसा कि आप जानते हैं कि "भय की तरह साहस भी संक्रामक होता हैं.... " तो जाहिर है कि  यह आप पर निर्भर करता है कि  आप खुद के अंदर भय या साहस...किसका बीज खुद के अंदर रोपते हैं.... क्योंकि याद रखें....अंकुरण आपके अंदर रोपे  गए बीज में होना है और वृक्ष और फल भी उसमें हीं लगना है.... 

किसी के रोके न रुक जाना तू,
लकीरें किस्मत की खुद बनाना तू,
कर मंजिल अपनी तू फतह,
कामयाबी के निशान छोड़ दे,
घुट-घुट कर जीना छोड़ दे,
-नरेंद्र वर्मा

सच तो यह है कि भय और साहस में चयन करने का निर्णय आपके मानसिकता से आएगी और इसके लिए यह जरुरी है कि आप आपने सोच और मानसिकता को मजबूत और स्वस्थ रखें....

यह आपकी मानसिकता ही हैं जो आपके अंदर विजय रूपी साहस का संचार पैदा करेगा… और आप के अंदर अंकुरित आपका साहस आपकी मानसिकता का बचाव करेगा और यह आपके प्रयासों में आपकी सफलता के लिए इसे दूर करने के लिए भय की अनुपस्थिति का रास्ता तय करेगा,,,
बाधाएँ आती हैं आएँ
घिरें प्रलय की घोर घटाएँ,
पावों के नीचे अंगारे,
सिर पर बरसें यदि ज्वालाएँ,
निज हाथों में हँसते-हँसते,
आग लगाकर जलना होगा।
क़दम मिलाकर चलना होगा।
-अटल बिहारी वाजपेयी



इसके लिए यह जरुरी है कि सबसे पहले आप अपने अंदर मजबूत मानसिकता को पैदा करें जो आपके अंदर साहस पैदा कर असफलता के भय को समाप्त करेगा साथ ही  विफलता के डर की भावना को गायब करने का रास्ता दिखाएगा…याद रखें... यह आपकी मानसिकता की स्थिति है और इसलिए आपको अपने आप को विकसित करना होगा…तभी आप असफलता के भय से बाहर आ पाएंगे जो सफलता के लिए सबसे जरुरी शर्त है. 

नजरिया जीने का: विपत्तियां यह अहसास दिलाती हैं कि आप किस मिटटी के बने हैं-एटीट्यूड बदलें और ढूंढे आपदा में अवसर

Opportunity in Adversity
नजरिया जीने का: आपदा या विपरीत परिस्थितियाँ हमारे जीवन का अभिन्न हिस्सा है और इसके वगैर आप जीवन की कल्पना कर ही नहीं सकते. सच तो यह है कि ये आपदाएं  हमें यह बोध कराने आती हैं कि हम किस मिटटी के बने हैं क्योंकि दुनिया में कई लोग हैं जो आपदाओं के आगे नतमस्तक हो जाते हैं और कई ऐसे भी हैं जो इन्ही आपदाओं में निखर जाते हैं और अपना भविष्य निखार कर दुनिया में अपनी छाप छोड़ देते हैं. 

आपदा या विपरीत परिस्थितियों में माध्यम से नेचर या प्रकृति भी हमारी परीक्षा लेती है..... जीवन में जिसको जितना आगे जाना होता है उसके  रास्ते में प्रकृति उतना ही शूल और  कांटे बिछा के रखती है....... 
अगर आप उन कांटों के डर से वापस लौट जाएंगे तो आपकी यात्रा वहीँ  जायेगी....लेकिन याद रखें जिसे जीवन में जितना आगे जाना होता है उसे प्रकृति अपनी ओर से उतना ही ऊर्जा प्रदान कर उसे सकारात्मक ऊर्जाओं से पूर्ण कर भेजती है ताकि वे लोग लाइफ में मिलने वाले तमाम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद वह अपने सफलता के कीर्तिमान स्थापित करते हैं.




विपत्तियों से निकलने के लिए सबसे जरुरी 

विपत्तियों से निबटना यह सच है की आसान नहीं होता लेकिन इंसान अगर ठान ले तो यह इतना मुश्किल भी नहीं होती. विपत्तियों का आना तो अपने हाथ में नहीं होती लेकिन आपकी मानसिक स्थिति, आपकी सोच और आपकी सकारात्मक सोच अवश्य ही इससे बाहर निकलने में मदद कर सकती है. विपत्तियों से निकलने के लिए सबसे जरुरी है कि सकारात्मक रहें। मुश्किल परिस्थितियों में भी सकारात्मक रहने की कोशिश करें। इससे आपको अपने लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करने और आगे बढ़ने में मदद मिलेगी। अपने परिवार, दोस्तों और समुदाय से मदद मांगने से न डरें। दूसरों की मदद से आप मुश्किल समय में बेहतर तरीके से निपट पाएंगे। अपने अनुभव से सीखें। विपत्तियों से सीखने से आपको भविष्य में बेहतर तरीके से तैयार रहने में मदद मिलेगी।

आपदा में भी अवसर 

सच्चाई तो यह है कि इस आपदा में भी हमें अवसर की तलाश करनी होती है क्योंकि आपदा या विपरीत परिस्थितियां हमारे लिए एक अवश्यंभावी प्रहार  होती है जो हमारे वश में नहीं हो सकते.
क्या आपदा या बुरा समय हमसे पूछ कर आती है, नहीं ना. आपदा का आना हमारे लिए नियति है लेकिन यह हमारी सूझ- बुझ और इच्छाशक्ति होती है कि  हम  आगे टूट जाते हैं या उस आपदा में भी अवसर तलाश कर उससे निकलने का प्रयास करते हैं. 
"विपत्तियों से निपटने का सबसे अच्छा तरीका है कि हम उनका सामना करें।" - अल्बर्ट आइंस्टीन

अगर आप देखेंगे तो पिछले कुछ सालों से कोविड-19 नामक एक नए आपदा ने पूरी दुनिया को अस्त-व्यस्त करने के साथ ही कई देशों के विकास दर को न जाने कई साल  पीछे कर दिया है. 
कितने जानों को असामायिक काल के ग्रास में जाने को मजबूर होना पड़ा और कई परिवार तो छिन्न-भिन्न हो गए.
यह कहानी काफी लम्बी हो सकती है, न केवल हिंदुस्तान बल्कि दुनिया के सभी देशों में आपदा की स्थिति बन  चुकी थी  तो क्या हमें इस आपदा के भरोसे खुद को छोड़ देनी चाहिए थी... ? 

आप अगर देखेंगे तो इस दौरान  कई लोगों के व्यापार को जहां  बंद तक करना पड़ा, लेकिन कई ऐसे लोग हैं जिन्हे इस आपदा ने भी रोगजार के अवसर प्रदान किये. वर्क फ्रॉम होम, ऑनलाइन पढ़ाई व्ययस्था,  ऑनलाइन ट्यूशन  जैसे कई व्यवसाय थे जो कोरोना के कारण आज फल-फूल  रहे हैं. 
"विपत्तियां जीवन का हिस्सा हैं। उनसे बचना असंभव है। लेकिन हम उनसे कैसे निपटते हैं, यह हमारे ऊपर निर्भर करता है।" - डेल कार्नेगी

 याद रखें दोस्तों वह चाहे कोई भी विपरीत परिस्थिति  या आपदा हो आपको इस से निकलना होगा इसके लिए सबसे जरूरी यह है कि हमारे अंदर यह जिजीविषा पैदा करनी होगी हम इसे झेल  सकते हैं....

इस आपदा को एक अवसर  के रूप में देखकर जो इसका उपयोग कर लेगा लाइफ में आगे जाएगा इसमें कोई संदेह नहीं है....... इसके लिए जरूरी है कि आप अपने एटीट्यूड और अपने माइंडसेट को बदलें क्योंकि यह आपका माइंडसेट  और  एटीट्यूड ही है जो आपको इस आपदा में अवसर तलाश करने में मदद करेगा...

 याद रखें दोस्तों आपको इस आपदा से निकलने के लिए अपने अंदर साहस का संचार खुद करना होगा आपको अपने आसपास निराशावादी या नकारात्मक सोच के लोगों से खुद को दूर रखना होगा और इसके लिए यह जरूरी है कि सबसे पहले अपने अंदर सकारात्मक और पॉजिटिव ऊर्जा को कम नहीं होने दिया जाए.

"विपत्तियां हमें मजबूत बनाती हैं।" - नेल्सन मंडेला

याद रखें आपके जीवन में आपदाएं और विपत्तियां या  विपरीत परिस्थिति सभी परेशानियों के साथ ही आपके लिए एक नया सवेरा के रूप में  कई सारे अवसर भी लेकर आती है... 
लेकिन यह आप पर निर्भर करता है कि आप इस आपदा में अवसर की तलाश कर उसे पाने के लिए होम कर देते हैं या एक निराशावादी की तरह बस इस आपदा के भरोसे खुद को छोड़ देते हैं.








Video: नजरिया जीने का; जीवन में सुख को ढूंढना शुरू करें, न कि कभी भी खोने का ख़याल करें

najariya jine ka happiness is essential for success in life

अल्बर्ट आइंस्टीन  ने कहा था कि-"जीवन के सुख को ढूंढना शुरू करें, न कि कभी भी खोने का ख़याल करें"  और निश्चित ही जीवन में प्रसन्नता पाने के लिए महत्वपूर्ण उक्तियों में से यह सर्वाधिक पूर्ण और योग्य है. प्रसन्नता एक ऐसा भाव है जो हमारे जीवन में सकारात्मकता लाता है। यह हमें ऊर्जावान, सकारात्मक और उत्पादक बनाता है। प्रसन्नता के कई लाभ हैं, जिनमें शामिल हैं:सफलता प्राप्त करने के लिए, हमें इन लाभों को प्राप्त करने की आवश्यकता है। उचित तो यह होगा कि जीवन में प्रसन्नता वाले पलों की एक डायरी बना कर आप हमेशा अपने पास रखें. प्रसन्न रह कर किया जाने वाले काम हमें थकने नहीं देता और जीवन में सफलता के एकमात्र यही सत्य है. 

हम प्रसन्न होते हैं, तो हम चुनौतियों का सामना करने के लिए अधिक तैयार होते हैं और हम अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए अधिक दृढ़ संकल्पित होते हैं। बेहतर स्वास्थ्य, मजबूत संबंध, अधिक रचनात्मकता और अधिक सहनशीलता मानवीय विशेषताएं है जिनसे आप प्रसन्न रहना सीख सकते हैं.  प्रसन्नता एक ऐसी चीज है जो आपके नियंत्रण में है। अपने जीवन में प्रसन्नता लाने के लिए प्रयास करें और आप देखेंगे कि यह आपकी सफलता के लिए एक शक्तिशाली शक्ति हो सकती है। प्रसन्न रहना सीखना एक महत्वपूर्ण कौशल है जो हमें सफल होने में मदद कर सकता है। यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं कि आप कैसे प्रसन्न रहना सीख सकते हैं:

1. अपने जीवन में सकारात्मक चीजों पर ध्यान दें-

अपने जीवन में सकारात्मक चीजों पर ध्यान दें। जब आप सकारात्मक चीजों पर ध्यान देते हैं, तो आपके पास नकारात्मक चीजों पर ध्यान देने की संभावना कम होती है। जब हम सकारात्मक चीजों पर ध्यान देते हैं, तो हमके पास नकारात्मक चीजों पर ध्यान देने की संभावना कम होती है। अपने जीवन में सकारात्मक चीजों को नोटिस करने के लिए समय निकालें, भले ही वे छोटी चीजें हों। उदाहरण के लिए, आप अपने परिवार और दोस्तों की सराहना कर सकते हैं, प्रकृति की सुंदरता का आनंद ले सकते हैं, या अपने लक्ष्यों की प्रगति पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।



"मुस्कान कभी भी भले ही छोटी हो, पर इसका प्रभाव बहुत बड़ा होता है।" - Unknown

2. कृतज्ञता का अभ्यास करें-

कृतज्ञता का अभ्यास करें। रोजाना कुछ चीजों के लिए कृतज्ञ होने की कोशिश करें, भले ही वे छोटी चीजें हों। कृतज्ञता का अभ्यास करना प्रसन्नता के स्तर को बढ़ाने का एक शक्तिशाली तरीका है। रोजाना कुछ चीजों के लिए कृतज्ञ होने की कोशिश करें, भले ही वे छोटी चीजें हों। आप एक कृतज्ञता जर्नल रख सकते हैं, अपने दोस्तों और परिवार के साथ कृतज्ञता की बातचीत कर सकते हैं, या कृतज्ञता के अभ्यास के लिए एक ऐप का उपयोग कर सकते हैं।

3. अपने जीवन में खुशी लाने के लिए चीजें करें-

जिन चीजों में आपको आनंद आता है, उन्हें करने के लिए समय निकालें। अपने शौक का पालन करें, नए अनुभवों का अन्वेषण करें, या अपने दोस्तों और परिवार के साथ समय बिताएं। अपने जीवन में खुशी लाने के लिए आप जो भी कर सकते हैं, वह करें।

4. अपने आप को दूसरों की मदद करने के लिए समर्पित करें-

दूसरों की मदद करने से आपको अच्छा महसूस होता है और यह आपके जीवन में अधिक अर्थ जोड़ता है। अपने स्थानीय समुदाय में स्वयंसेवा करें, एक कारण के लिए दान करें, या किसी जरूरतमंद व्यक्ति की मदद करें। दूसरों की मदद करना एक सरल तरीका है जो आपकी खुशी को बढ़ा सकता है।

5. अपने विचारों और भावनाओं को नियंत्रित करने का प्रयास करें-

जब आप नकारात्मक विचारों या भावनाओं का अनुभव करते हैं, तो उन्हें बदलने का प्रयास करें। अपने विचारों को अधिक सकारात्मक दिशा में निर्देशित करें और अपने भावनाओं को स्वस्थ तरीके से व्यक्त करें। नकारात्मक विचारों और भावनाओं को दबाने से बचें, क्योंकि इससे वे और भी बदतर हो सकते हैं।

6. स्वस्थ जीवन शैली अपनाएं-

स्वस्थ जीवन शैली अपनाएं। स्वस्थ आहार खाएं, नियमित रूप से व्यायाम करें और पर्याप्त नींद लें।स्वस्थ जीवन शैली जीने से आपको शारीरिक और मानसिक रूप से बेहतर महसूस करने में मदद मिल सकती है, जिससे आपको खुशी महसूस करने की संभावना अधिक हो सकती है।

7. अपने आसपास के लोगों के साथ सकारात्मक संबंध बनाए रखें-

अपने विचारों और भावनाओं को नियंत्रित करने का प्रयास करें। जब आप नकारात्मक विचारों या भावनाओं को महसूस करते हैं, तो उन्हें बदलने का प्रयास करें। सकारात्मक लोगों के साथ समय बिताने से आपको खुश रहने में मदद मिल सकती है। ऐसे लोगों के साथ जुड़ें जो आपको उत्साहित करते हैं और आपको अच्छा महसूस कराते हैं। नकारात्मक लोगों से दूर रहें जो आपकी खुशी को कम कर सकते हैं।

महत्वपूर्ण कोट्स-

  • "जीवन के सुख को ढूंढना शुरू करें, न कि कभी भी खोने का ख़याल करें।" - Albert Einstein
  • "मुस्कान दुनिया को सुंदर बना देती है।" - Unknown
  • "आपके चेहरे पर मुस्कान रखने से आप खुद को भी अच्छा महसूस करते हैं और दूसरों को भी अच्छा महसूस करवा सकते हैं।" - Les Brown
  • "जीवन में कभी-कभी आपको अपनी मुस्कान का कारण बनना पड़ता है।" - Thich Nhat Hanh
  • "मुस्कान कभी भी भले ही छोटी हो, पर इसका प्रभाव बहुत बड़ा होता है।" - Unknown
  • "खुश रहने का एक तरीका यह है कि आप अपने सुररेखा पर केंद्रित हों, न कि अपनी समस्याओं पर।" - David DeNotaris
  • "मुस्कान एक भयंकर सामरिक हथियार है, जिससे आप दूसरों को जीत सकते हैं।" - Dale Carnegie
  • "मुस्कान से हम दुनिया को हंसी और प्रेम की ओर बढ़ाने में मदद करते हैं।" - Sri Sri Ravi Shankar
  • "मुस्कान से आपका दिल भी खुश रहता है और दूसरों को भी खुशी मिलती है।" - Unknown
  • "जीवन में हर पल को मुस्कान के साथ जियें, क्योंकि यह हमें और भी खूबसूरत बना देता है।" - Dolly Parton

नजरिया जीने का: मलाला यूसुफजई-जिनकी आवाज को तालिबानी आतंकवादियों की गोली भी खामोश नहीं कर सकी

International Malala Day  Malala Yusufjai Quotes Importance

मलाला यूसुफजई एक पाकिस्तानी शिक्षाविद और मानवाधिकार कार्यकर्त्ता  हैं। उनका जन्म 12 जुलाई, 1997 को पाकिस्तान के स्वात घाटी में हुआ।

मलाला का पिता, जिसका नाम जियाद यूसुफजई है, एक स्कूल का प्रधानाध्यापक थे और उन्होंने हमेशा से अपनी बेटी की शिक्षा पर बहुत ध्यान दिया। मालाला अपने पिता की प्रेरणा से जीवनभर शिक्षा के महत्व को समझने लगीं।

2012 में, जब मलाला केवल 15 वर्षीय थीं, तब उन्हें अपने लेखों के माध्यम से लड़ाई स्तंभ के रूप में जाना जाने लगा। वह पाकिस्तानी तालिबान के शिक्षा पर प्रतिबंध के खिलाफ आवाज उठाने के लिए अपनी आवाज बुलंद करने लगीं। मलाला के द्वारा लिखे गए लेखों में वह लड़कियों के अधिकारों की बहुतायत से चर्चा करतीं थीं और उन्होंने बच्चों की शिक्षा के महत्व पर जोर दिया।

2012 के अक्टूबर में, मलाला को एक बस में जाते हुए तालिबानी लोगों द्वारा गोली मारी गई। इस हमले में उनकी गंभीर घायली हो गई, लेकिन वे बच गईं। मलाला की इस हमले के बाद विश्व भर में उनके समर्थन में आवाज बुलंद हुई और उन्हें नोबेल शांति पुरस्कार से नवाजा गया। यह उन्हें सबसे युवा व्यक्ति बनाता है जिसे नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

मलाला यूसुफजई आज भी मानवाधिकारों की प्रचार-प्रसार करती हैं और बाल-श्रम और बाल-विवाह के खिलाफ लड़ाई में सक्रिय रहती हैं। उन्होंने एक मानवाधिकार संगठन "मलाला फंड" की स्थापना की है, जो गरीबी से पीड़ित बच्चों की शिक्षा को संचालित करने का प्रयास करता है।

यहां कुछ महत्वपूर्ण कोट्स ऑफ़ मलाला यूसुफजई हैं:

"एक किताब, एक कलम, एक बच्चा और एक उसकी शिक्षा में चंद स्लेट, यही है हमारी मुसीबतों की आस्था और साथी।" -मलाला यूसुफजई

("One child, one teacher, one book, and one pen can change the world.")

"हम शिक्षा की ताकत से नहीं डरते हैं, बल्की उसकी आवश्यकता से डरते हैं।" -मलाला यूसुफजई

("We are not afraid of the power of education, but rather the need for it.")

"जब आप शिक्षा को इजाज़त देते हैं, आप उजाले को समर्थन देते हैं।"

-मलाला यूसुफजई

("When you give education the permission to exist, you give support to the light.")

"हमारी लड़ाई शिक्षा की लड़ाई है, और हमें इसमें गिरावट नहीं होने देनी चाहिए।" -मलाला यूसुफजई

("Our fight is a fight for education, and we must not allow setbacks in this.")

"शिक्षा एक बुराई से बचाव कर सकती है। शिक्षा एक बंदूक से ज़्यादा ताकतवर है।" -मलाला यूसुफजई

("Education can save us from evil. Education is mightier than a gun.")

"मैं नहीं चाहती कि मुझे इसलिए याद किया जाए कि मुझ पर हमला हुआ था, बल्कि मुझे इसलिए याद किया जाए कि मैं अपनी आवाज़ बदलने के लिए खड़ी हुई थी।" -मलाला यूसुफजई

("I don't want to be remembered because I was shot, but because I stood up to change my voice.")

"जब आपके शब्द और आपकी आवाज़ मिल जाती है, तब आप दुनिया को बदलने की शक्ति प्राप्त करते हैं।"-मलाला यूसुफजई

("When your words and your voice come together, you gain the power to change the world.")

मलाला यूसुफजई ने अपने समर्पण और साहस के माध्यम से दुनिया भर में शिक्षा के अधिकार के लिए लड़ाई लड़ी है। उनके इन कोट्स ने दुनिया को प्रेरित किया है और आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते हैं।

नजरिया जीने का: पढ़ें और भी...

रिश्ते खास हैं, इन्हे अंकुरित करें प्रेम से, जिंदा रखें संवाद से और दूर रखें गलतफहमियों से

इमोशनल हैं, तो कोई वादा नहीं करें और गुस्से में हों तो इरादा करने से परहेज करें

स्व-अनुशासन के महत्त्व को समझे और जीवन को बनाएं सार्थक 

रखें खुद पर भरोसा,आपकी जीत को कोई ताकत हार में नहीं बदल सकती

जाने क्या कहते हैं ये हस्तियां नागरिक विश्वास और समावेशी विकास के सन्दर्भ में

करवा चौथ: जाने कैसे बनाएं पत्नी के करवाचौथ को रोमांटिक और यादगार

najariya jine ka karwachauth how to make moment memorable

करवा चौथ इस साल 01 नवंबर 20 23  को मनाया जा रहा है। करवा चौथ सुहगिनो का एक प्रमुख त्यौहार है और इसके लिए प्रत्येक सुहागन कई दिनों के पहले से ही इंतजार करती है। न केवल इस त्यौहार को मनाने के लिए बल्कि पत्नियों के लिए इस पर्व का प्रत्येक मोमेंट खास होता है चाहे वह पूजा हो या फिर  सजने सवरने की तैयारी तक, सब कुछ बहुत खास होता है ।  

करवा चौथ एक हिंदू त्योहार है जो विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए मनाती हैं। करवाचौथ वाले दिन एक स्त्री पूरा दिन निर्जला व्रत करके अपने पति की लंबी आयु व उसके बेहतर स्वास्थ्य की कामना करती है। वैसे तो हर स्त्री के लियें ये व्रत महत्वपूर्ण है लेकिन लेकिन अगर शादी के बाद पहला करवा चौथ हो तो फिर बात ही कुछ और है। जब एक नई दुल्हन पूरा शृंगार करके तैयार होती है और पति के लिए सजती संवारती है वो उसके लियें बहुत खास होता है ।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि अपने पत्नी को बताएं कि आप उसे कितना प्यार करते हैं और उसकी कितनी परवाह करते हैं। करवा चौथ एक ऐसा दिन है जब आप अपने प्यार को व्यक्त कर सकते हैं और अपने रिश्ते को मजबूत कर सकते हैं।

करवा चौथ को यादगार बनाने के लिए कुछ सुझाव इस प्रकार हैं:

प्रेम और सम्मान दिखाएं: करवा चौथ एक प्रेम और सम्मान का त्योहार है। अपने पत्नी को बताएं कि आप उसे कितना प्यार करते हैं और उसकी कितनी परवाह करते हैं। उसे एक उपहार दें, उसे एक प्यारा सा संदेश लिखें, या उसके लिए कुछ खास करें।

व्रत को आसान बनाएं: करवा चौथ एक कठिन व्रत हो सकता है, खासकर अगर आप पहली बार मना रही हों। अपने पत्नी को व्रत रखने में मदद करने के लिए कुछ कदम उठाएं। उदाहरण के लिए, आप उसे सुबह नाश्ता बना सकते हैं, उसके लिए पानी का ध्यान रख सकते हैं, या शाम को उसे व्रत तोड़ने में मदद कर सकते हैं।

एक रोमांटिक रात बनाएं: करवा चौथ एक विशेष दिन है, इसलिए इसे एक रोमांटिक रात के साथ समाप्त करें। एक साथ डिनर करें, एक फिल्म देखें, या बस बात करें और एक-दूसरे के साथ समय बिताएं।

यहां कुछ विशिष्ट विचार दिए गए हैं जो आप अपने पत्नी के करवा चौथ को यादगार बनाने के लिए कर सकते हैं:

  • उसके लिए एक खूबसूरत साड़ी या लहंगा खरीदें।
  • उसे एक खूबसूरत सा हार या झुमके दें।
  • उसके लिए एक प्रेम पत्र लिखें।
  • उसके लिए एक रोमांटिक डिनर का प्लान बनाएं।
  • उसके लिए एक कैंडल लाइट डिनर का आयोजन करें।
  • उसके लिए एक सरप्राइज पार्टी का आयोजन करें।


नजरिया-जीने का: सेल्फ डिसिप्लिन के महत्त्व को समझे, विकसित करने के टिप्स, महत्वपूर्ण कोट्स

  Point of View Point of View najariya importance of self discipline in life


Point of View: सेल्फ डिसिप्लिन लाइफ या स्व-अनुशासन एक शक्तिशाली कौशल है जो आपको अपने जीवन में न केवल महत्वपूर्ण लक्ष्य  हासिल करने आपको मदद करता है बल्कि यह आपके जीवनशैली को एक परफेक्ट लाइफस्टाइल में बदल देता है. सेल्फ डिसिप्लिन लाइफ या स्व-अनुशासन ठीक वैसे ही हैं जैसे हम खुद के लिए नियमों को बनाने वाले होते हैं और उसे पालन करने में खुद को मजबूर भी करते हैं. आप कह सकते हैं यह अपने आप में ठीक वैसे ही है जैसे आप नियम निर्माता भी हैं, पालन करने वाले भी हैं और उन्हें मॉनिटरिंग करने वाले भी खुद है. यह आपको सिखाती है कि अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए कैसे अपनी इच्छाओं को नियंत्रित करने और अपने सपनों को पूरा करने में सक्षम बनाता है. यदि आप स्व-अनुशासन विकसित करना चाहते हैं, तो भले हीं  शुरू में आपक्को कुछ परेशानी हो लेकिन यह असंभव भी नहीं है. आप इन टिप्स की मदद से इसे लागु कर सकते हैं.

सेल्फ डिसिप्लिन लाइफ या स्व-अनुशासन हमारे जीवन में इतना महत्वपूर्ण है जिसके माध्यम से हम बिना किसी अतिरिक्त मोटिवेशनल डोज़ लिए हम अपने जीवन की सार्थकता को साबित कर सकते हैं. सेल्फ डिसिप्लिन लाइफ या स्व-अनुशासन का महत्त्व हमारे जीवन में ठीक ऐसा ही है जैसे कि हमारे शरीर के लिए हवा की जरुरत होती है वैसे ही हमें इस अपने जीवन का अभिन्न अंग की तरह बनाकर अपने साथ रखना होगा. 

आत्म-अनुशासन जीवन का अभ्यास आपको वह करने की क्षमता प्रदान करता है जो आपके जीवन की सार्थकता और सम्पूर्णता को प्राप्त करने में सहायता करती है. क्योंकि आप जानते हैं कि आप अपने मन में किसी भी सपने को प्राप्त करना सीख सकते हैं ... इसलिए जीवन में आत्म अनुशासन के लिए जरुरी पांच स्तंभों को हमेशा याद रखें जो आपको जीवन के किसी भी लक्ष्य को प्राप्त करने और जीवन की सम्पूर्णता की और ले जाती है -स्वीकृति, इच्छाशक्ति, कठोर परिश्रम, मेहनती और दृढ़ता।

स्व-अनुशासन को  विकसित करने के टिप्स 

  • अपने लक्ष्यों को निर्धारित करें और उन्हें प्राप्त करने के लिए एक योजना बनाएं.
  • अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए दृढ़ संकल्प और समर्पण रखें.
  • अपने आप को नियमित रूप से प्रेरित करें और प्रोत्साहित करें.
  • अपने आप को छोटी-छोटी उपलब्धियों के लिए पुरस्कृत करें.
  • स्व-अनुशासन एक जीवन भर की यात्रा है, लेकिन यह एक यात्रा है जो आपको अपने जीवन में बहुत कुछ हासिल करने में मदद कर सकती है. इसलिए, आज ही स्व-अनुशासन विकसित करना शुरू करें और अपने सपनों को पूरा करें.


सेल्फ डिसिप्लिन लाइफ या स्व-अनुशासन: महत्वपूर्ण कोट्स 

  • "सफलता का रहस्य स्व-अनुशासन है." - एलेन वार्क
  • "स्व-अनुशासन ही वह शक्ति है जो आपको अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में सक्षम बनाती है." - लाओ त्ज़ू
  • "स्व-अनुशासन ही वह कौशल है जो आपको अपनी इच्छाओं को नियंत्रित करने और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में सक्षम बनाता है." - ब्रूस ली
  • "स्व-अनुशासन ही वह शक्ति है जो आपको अपने जीवन को नियंत्रित करने और अपने सपनों को पूरा करने में सक्षम बनाती है." - नेपोलियन हिल
  • "स्व-अनुशासन ही वह नींव है जिस पर आप अपने जीवन का निर्माण कर सकते हैं." - विलियम जेम्स

आत्म-अनुशासन आपके जीवन के हर प्रयास में बनने वाला अंतिम और सबसे महत्वपूर्ण कारक है..जो न केवल आपके जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण है..बल्कि यह भ्रम की स्थिति में भी आपके जीवन को हमेशा सही रास्ते पर लाता है और यह हमारे जीवन में क्या करना है और क्या नहीं करना है के बीच की रेखा का सीमांकन करता है।



 दैनिक जीवन ... आत्म-अनुशासन वह कारक है जो आपको अपने आवेगों, भावनाओं, प्रतिक्रियाओं और व्यवहारों को नियंत्रित करने के लिए प्रदान करता है। अपने जीवन में आत्म-अनुशासन के महत्व को नियंत्रित करें और समझें... यह आपको अल्पकालिक संतुष्टि के बदले दीर्घकालिक संतुष्टि और लाभ के बारे में सोचने के लिए परिपूर्ण बनाएगा।

नजरिया जीने का: पढ़ें और भी...

रिश्ते खास हैं, इन्हे अंकुरित करें प्रेम से, जिंदा रखें संवाद से और दूर रखें गलतफहमियों से

इमोशनल हैं, तो कोई वादा नहीं करें और गुस्से में हों तो इरादा करने से परहेज करें

स्व-अनुशासन के महत्त्व को समझे और जीवन को बनाएं सार्थक 

रखें खुद पर भरोसा,आपकी जीत को कोई ताकत हार में नहीं बदल सकती



नजरिया जीने का: रिश्ते खास है, इन्हे अंकुरित करें प्रेम से, जिंदा रखें संवाद से और दूर रखें गलतफहमियों से

रिश्ते हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं और यह हमारी आपस के प्यार और सहयोग के बंधन को मजबूत करते हैं. मजबूत और स्वस्थ रिश्तों के बदौलत ही हम अपनी जीवन में रोज मिलने वाले कठिनाइयों पर विजय प्राप्त कर पाते हैं. आज जबकि विज्ञान ने हमें सोशल साइट्स और तकनिकी रूप से काफी अधिक सुविधाओं को हमारे सामने रख दिया है, लेकिन फिर भी सच यह है कि हम रिश्तों को निभाने में चिट्ठी पत्री वाले जमाने से भी दूर होते जा रहे हैं. जबकि आवश्यकता यह है कि हम उन्हें प्रेम, संवाद और गलतफहमियों को दूर करने के माध्यम से पोषित करने पर बल दें. 

याद रखें दोस्तों प्रेम एक रिश्ते की नींव है और यह हमें एक-दूसरे के लिए देखभाल और सम्मान करने के लिए प्रेरित करता है। प्रेम हमें मुश्किल समय में एक साथ रहने और खुशी के समय का जश्न मनाने में मदद करता है।

क्या आप जानते हैं कि संवाद एक रिश्ते को जीवित रखने के लिए प्रमुख जरुरत है। हमें अपने साथी के साथ अपने विचारों, भावनाओं और जरूरतों को खुलकर और ईमानदारी से साझा करने की आवश्यकता है। संवाद हमें गलतफहमियों को दूर करने, विश्वास बनाने और एक-दूसरे को बेहतर ढंग से समझने में मदद करता है।

गलतफहमियां हर रिश्ते में होती हैं। हालांकि, हम उन्हें दूर करने के लिए कदम उठा सकते हैं। हमें एक-दूसरे को सुनने और समझने की कोशिश करने की आवश्यकता है। हमें अपने साथी की भावनाओं के प्रति संवेदनशील होने की भी आवश्यकता है।एक समय था जब परिवार और उसके सदस्य हमारी ताकत हुआ करती थी लेकिन आज की हमारी यह सोच का हीं तो दोष है जहां बड़े परिवार को प्रगति की राह में बाधा समझी जाती है।।।

तकनीकी रूप से हम इतने आगे हैं कि लोगों से वीडियो कॉल पर फेस टू फेस बात करने में सक्षम हैं। हां यह बात और है कि हम दिल से और भी दूर होते जा रहे हैं खासकर अपनों से। 

याद रखें दोस्तों, रिश्ते के अंकुरित होने के लिये जीतना जरूरी प्रेम होती है, उसके जिंदा रहने के लिए संवाद का होते रहना उतना ही जरुरी है।  इसके साथ ही, रिश्तों को महसूस करने लिए आपस में संवेदनाओं और संवेदनशीलता का होना काफी जरूरी है।

रिश्तों को निभाने के लिए गलतफहमियों का नही होना जरूरी तत्व है दोस्तों क्योंकि अक्सर हम इसका शिकार होकर अपने अपनों से दूर होते चले जाते है। अहंकार एक अन्य महत्वपूर्ण कारण है जो रिश्तों के बिखरने और खत्म होने में प्रमुख भूमिका निभाती है।

जाने कैसे आप अपने रिश्तों को प्रेम, संवाद और गलतफहमियों को दूर करने के माध्यम से कैसे पोषित कर सकते हैं:

  • अपने साथी को बताएं कि आप उन्हें कितना प्यार करते हैं। इसे शब्दों में या कार्यों के माध्यम से कहें।
  • अपने साथी के साथ समय बिताएं। एक साथ बात करें, हंसें और रोएं।
  • एक-दूसरे की भावनाओं के प्रति संवेदनशील बनें। जब वे खुश या दुखी हों तो उन्हें सुनें और समझें।
  • अपने साथी के साथ ईमानदार रहें। अपने विचारों, भावनाओं और जरूरतों को खुलकर और स्पष्ट रूप से साझा करें।
  • अपने साथी की गलतियों को माफ करने के लिए तैयार रहें।
  • अपने साथी के साथ समस्याओं को हल करने के लिए काम करें।
  • अपने रिश्तों को पोषित करने के लिए समय और प्रयास करें। यह आपको अपने जीवन में प्यार, समर्थन और दोस्ती की समृद्धता का अनुभव करने में मदद करेगा।

नजरिया जीने का: पढ़ें और भी...

रिश्ते खास हैं, इन्हे अंकुरित करें प्रेम से, जिंदा रखें संवाद से और दूर रखें गलतफहमियों से

इमोशनल हैं, तो कोई वादा नहीं करें और गुस्से में हों तो इरादा करने से परहेज करें

स्व-अनुशासन के महत्त्व को समझे और जीवन को बनाएं सार्थक 

रखें खुद पर भरोसा,आपकी जीत को कोई ताकत हार में नहीं बदल सकती


नजरिया जीने का: अपनी सोच को सीमाओं से नही बांधे, कुछ बड़ा करने से पहले खुद से पूछे यह तीन सवाल?


नजरिया जीने का: आप अपनी सोच को नई उड़ान दें और उन सपनों से खुद को साक्षात्कार होने दें जहां तक आपको आपकी सोच ने पहुंचाया है। विश्वास कीजिए, अगर आप दिवास्वप्न नही देख रहें है तो वह सब आपकी पहुंच के अंदर है।

अपनी सोच को सीमाओं से नहीं बांधना और बड़ा सोचना एक जीवन बदलने वाला अनुभव है जिसका अनुभव करने के लिए यह जरुरी है कि सबसे पहले आप  खुद  पर यकीन  करना सीखें. विश्वास करें,  जब आप अपनी सोच को सीमाओं से नहीं बांधते हैं, तो आप अपनी क्षमताओं को पूरी तरह से विकसित कर में  सफल होते है और यही स्थिति आपको जीवन में अपने लक्ष्यों को हासिल करने के लिए प्रेरित करती है.

 जीवन  में आगे बढ़ने के लिए हमें अपनी सोच  और कल्पना को ऊँची उड़ानों से रोकने की कोशिश नहीं करनी चाहिए। यह  सच है कि जीवन में सिर्फ स्वतंत्रता ही काफी नहीं होती बल्कि हमें आगे बढ़ने के लिए खुद पर एक जिम्मेदार नियंत्रण भी  एक जरुरी फैक्टर है आप तो खुद के अंदर वह हिम्मत और साहस के साथ उन सपनों को यथार्थ के धरातल पर उतारने की कोशिश शुरू कीजिए।
किसी भी कार्य को करने के पहले खुद से तीन सवाल करें-
1. अपने आप से सवाल पूछें.
 अपने आप से यह सवाल पूछें कि आप क्या हासिल करना चाहते हैं. अपने सपनों और लक्ष्यों के बारे में सोचें. एक बार जब आप जान जाएंगे कि आप क्या चाहते हैं, तो आप अपनी सोच को उस दिशा में केंद्रित करना शुरू कर सकते हैं.

लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती…
हिम्मत करने वालों की कभी हार नहीं होती…
-हरिवंश राय बच्चन

2. अपने आप को प्रेरित करें. 
अपने आप को प्रेरित करने के लिए, आप कहानियों, वीडियो, या किसी भी चीज का इस्तेमाल कर सकते हैं जो आपको प्रेरित करती है. आप अपने दोस्तों और परिवार से भी प्रेरणा ले सकते हैं.
3. कार्रवाई करें. 
अपनी सोच को सीमाओं से नहीं बांधने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप कार्रवाई करें. जब आप कुछ करते हैं, तो आप अपने आप को विश्वास दिलाते हैं कि आप कुछ भी हासिल कर सकते हैं.

 भले ही आपके रोजमर्रा के जीवन में हर जगह लिमिट एक जरूरी शर्त है जो आपके लिए जरूरी भी है। अगर आप सड़क पर गाड़ी से गुजर रहे हैं तो स्पीड लिमिट जरूरी है। बैंक का डेबिट कार्ड ही चाहे क्रेडिट कार्ड वहां भी आप लिमिट को नजरंदाज नहीं कर सकते। यहां तक आपके बोली और व्यवहार भी अगर गलती से लिमिट क्रॉस हो जाए तो आफत से कम नहीं है। लेकिन याद रखे, जीवन में हर जगह पर एक लिमिट का हीं आपके लिए जरूरी है लेकिन कभी भी अपनी थिंकिंग या सोच को लिमिट नही दें क्योंकि यह आपके लिए हानिकारक हो सकती है।

अपने सोच को हमेशा स्वतंत्र रखें क्योंकि प्रकृति ने हमें उन सभी गुणों से पूर्ण करके भेजा हैं जो अन्य लोगों में हैं तो फिर उन्हे सीमाओं से बांधने वाले हम कौन होते हैं।

घुट-घुट कर जीना छोड़ दे,
तू रुख हवाओं का मोड़ दे,
हिम्मत की अपनी कलम उठा,
लोगों के भरम को तोड़ दे.
-नरेंद्र वर्मा

आप अपनी सोच को नई उड़ान दें और उन सपनों से खुद को साक्षात्कार होने दें जहां तक आपको आपकी सोच ने पहुंचाया है। विश्वास कीजिए, अगर आप दिवास्वप्न नही देख रहें है तो वह सब आपकी पहुंच के अंदर है।
आप तो खुद के अंदर वह हिम्मत और साहस के साथ उन सपनों को यथार्थ के धरातल पर उतारने की कोशिश शुरू कीजिए।

किसी शायर ने क्या खूब कहा है।।
"हम अपनी कोशिशों से बनाएंगे रास्ता, 
हिम्मत तो है, बला से कोई रास्ता नही."

हम अक्सर देखते हैं कि परिस्थितियों को अगर हम अनावश्यक रूप से बढ़ाकर पेश नहीं करें तो उनका सामना भी किया जा सकता है और वह भी आपके पास तत्काल उपलब्ध संसाधनों से।

लेकिन विडंबना यह है कि हम खुद को नगण्य और कम आंकने की दुर्भावना से इतने ग्रसित हो चुके हैं कि सकारात्मक ऊर्जा हमारे अंदर दस्तक भी नही दे पाती है।

इसके लिए यह जरूरी है कि हम खुद के अंदर पॉजिटिव सोच को जगह दी, नकारात्मक लोगों से दूरी बनाए और सबसे जरूरी हमेशा बड़ा सोचें और बड़ी उपलब्धियों को हासिल करें।





नजरिया जीने का: इन टिप्स से बढ़ाएं अपना साहस-डर का सामना करें, अपने आप को चुनौती दें तथा दूसरों से प्रेरणा लें

Inspiring Thoughts: Why Courage is Important for Our Life…Follow These Quotes and witness Changes in your Life
नजरिया जीने का: साहस एक ऐसा गुण है जो हमें कठिनाइयों का सामना करने और अपनी लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करता है. यह हमें जोखिम लेने और नए अवसरों का पता लगाने के लिए प्रेरित करता है. साहस के बिना, हम अपने जीवन में बहुत कुछ हासिल नहीं कर सकते हैं. यह न केवल हमें कठिनाइयों का सामना करने में मदद करता है बल्कि  जीवन में नए अवसरों को खोजने के लिए तैयार करने का भी कार्य करता है. 

 भले ही आप साहस और हिम्मत के सन्दर्भ में अनगिनत कोट्स पढ़े होंगे लेकिन अगर हम सबसे प्रासंगिक कथन जो हिम्मत को ग्लोरिफाई करती है वह है  कि हिम्मत न कर पाने का कारण यह नहीं होता है की कुछ कर पाना कठिन हैं, बल्कि सच्चाई तो यह है है कि कुछ कर पाना कठिन इसलिए हो जाता है  क्योंकि हम हिम्मत ही नही करते और इसके लिए आवश्यक साहस नहीं जुटा पाते हैं. 

साहस हीं हमारा वह आत्म बल है जो विपरीत परिस्थितियों में भी हमेशा हमारे साथ खड़ा रहता है आपने मुंशी प्रेमचंद की वह कथन तो सुनी होगी-" भय की तरह साहस भी संक्रामक होती है" तो साफ़ है कि अगर आप साहस को अपना जीवन का आधार नहीं बनाएंगे, तो भय आप पर हावी हो जायेगा.  लोगों का हुजूम हो चाहिए आप अपने जीवन के  पथ पर अकेले ही संघर्षरत हो, साहस का होना अत्यंत आवश्यक है. सच तो यह है कि साहस हीं हमारा वह आत्म बल है जो विपरीत परिस्थितियों में भी हमेशा हमारे साथ खड़ा रहता है, यह हमारा साहस हीं हैं जो किसी भी असस्म्भव से लगने वाले काम को भी पूरा करना का हिम्मत प्रदान करती है.

यहाँ कुछ तरीके दिए गए हैं जिनसे आप अपने साहस को बढ़ा सकते हैं:

अपने डर का सामना करें: 
सबसे अच्छा तरीका अपने डर का सामना करना है. जब आप अपने डर का सामना करते हैं, तो आप देखते हैं कि वे उतने खतरनाक नहीं हैं जितने आप सोचते थे.
अपने आप को चुनौती दें: 
अपने आप को चुनौती दें. अपने आप को उन चीजों के लिए चुनौती दें जो आपके लिए मुश्किल हैं. जब आप अपने आप को चुनौती देते हैं, तो आप अपने साहस का निर्माण करते हैं.

दूसरों से प्रेरणा लें: 
 उन लोगों के बारे में सोचें जो आपके लिए साहसी हैं. उन लोगों से प्रेरणा लें और उनके जैसा बनने की कोशिश करें.

साहस एक ऐसा गुण है जो आपको अपने जीवन में बहुत कुछ हासिल करने में मदद कर सकता है. अगर आप सफल होना चाहते हैं, तो आपको साहसवान होना होगा.

इंसान के जीवन में साहस सबसे महत्वपूर्ण घटना है जो आपको अपने जीवन में कुछ सोचने और कुछ आश्चर्य करने की हिम्मत प्रदान करती है..मानव जीवन में जहां सब कुछ अप्रत्याशित है और हमें अपने अस्तित्व की लड़ाई और जीने के लिए बहुत से ऐसे कार्य भी करने होते हैं जो सामान्य रूप से हम उसे नहीं करना चाहते हैं.


दोस्तों.. यह केवल साहस है जो हमारे जीवन में कुछ अप्रत्याशित सपने देखने की शक्ति प्रदान करती है..   अन्यथा हम अपने वर्तमान हालात के आगे मजबूर होकर जीने को विवश हो जाते....

बदल सकते हैं आपदा को अवसर में…जानें कैसे 


 आपका साहस आपको कुछ अप्रत्याशित और असंभव से लगने वाले लक्ष्य को पाने का हिम्मत प्रदान करती है जो आगे चलकर हमारे जीवन में हमारे लक्ष्य को निर्धारित करने का अवसर प्रदान करती है...

Inspiring Thoughts: हम काम की अधिकता से नहीं, उसे बोझ समझने से थकते हैं.. बदलें इस माइंडसेट को

 जीवन में लक्ष्य का होना अत्यंत आवश्यक है और बिना लक्ष्य के हमारा जीवन  करें ... आपके सपने की नींव और आपके प्रयासों का निष्पादन वह कारक है जो आपको प्रदान करता है। अपने भाग्य को प्राप्त करने का तरीका और यह साहस ही है जो आपको रास्ता प्रदान करता है ... सोच से लेकर लक्ष्य हासिल करने तक ...


 कहने की जरूरत नहीं है ... मानव ने  अपने सोच को हमेशा से नकारात्मक और अजीबोगरीब सोच से भरकर उसे कंफ्यूज बनाकर रखा है.... और यही हमारी सोच है जो हमें हमेशा से जीवन के दौड़ में पीछे धकेलने में मुख्य भूमिका निभाती है.... हमने अपने सोच को हमेशा से डर और संदेह से कभी बाहर नहीं आने देते ऐसे में भला हमारा मस्तिष्क सही और साहसी निर्णय कैसे ले सकता है...

Inspiring Thoughts: हम काम की अधिकता से नहीं, उसे बोझ समझने से थकते हैं.. बदलें इस माइंडसेट को

Inspiring Thoughts: साहस को अपनाएँ... सफलता की कहानी खुद लिखें...

 निश्चित रूप से इन संदेहों का जमीनी हकीकत से कोई लेना-देना नहीं है... .हमारे जीवन में और कोई भी इस तथ्य को नजरअंदाज नहीं कर सकता ....तो इसके लिए जरुरी है कि आप निर्णय लेने में अपने साहस का इस्तेमाल करें और कभी भी खुद पर संदेह नहीं करें...

Inspiring Thoughts: डिप्रेशन और फ़्रस्ट्रेशन पर काबू पाने के लिए पाएं नेगेटिव माइंडसेट से छुटकारा

 निश्चित रूप से यह आपके अंदर का साहस है जो इन अनावश्यक डर को दूर करता है और जीवन में ठोस और सही लक्ष्य के निर्धारण में आपकी मदद करती है... दोस्तों बिना किसी लक्ष्य के निर्धारण के आप उसे कैसे प्राप्त करने की कोशिश करेंगे.... जाहिर है कि या आपका साहस ही हैं जो जीवन में किसी भी अप्रत्याशित सपने और लक्ष्य को साकार करने और पाने का हिम्मत प्रदान करती है.