छठ पूजा 2023: छठ घाटों को डिजाइनर गेटों और रंगीन रोशनी से सजाएं, जानें टिप्स

Chhath puja How to Decorate Chhth Ghat Tips

छठ पूजा 2023: नहाय खान और खरना के सफलतापूर्वक उत्सव के बाद,अब संध्या अर्ध्य की बारी है जो घरों के आस-पास में स्थित  निकटतम तालाब या नदी पर आयोजित की जाती है। व्रती और परिवार के अन्य सदस्य संध्या अर्ध्य के लिए छठ घाट पहुँचते हैं जहाँ भगवन सूर्य को अर्ध्य दिया जाता है. 

सूर्य को संध्या अर्घ्य

चूँकि छठ पूजा का मुख्य कार्य भगवान सूर्य की पूजा करना है और यह छठ पूजा के तीसरे दिन होता है जब हम सूर्य देव को शाम का अर्घ्य देते हैं।   आम तौर पर लोग निकटतम नदी या तालाब पर जाते हैं, जहां वे घाटों को सजाते हैं और घर की महिलाएं भगवान सूर्य को प्रार्थना करती हैं।

हालाँकि छठ पूजा की शुरुआत नहाय खाय से होती है जिसे आमतौर पर भव्य उत्सव के पहले चरण के रूप में जाना जाता है। छठ पूजा सूर्य देव को पृथ्वी पर जीवन प्रदान करने के लिए धन्यवाद देने और कुछ इच्छाओं को पूरा करने का अनुरोध करने के लिए समर्पित है। 



छठ पूजा की सबसे बड़ी खासियत यही है कि इसमें न केवल सिर्फ व्रती  और उनके परिवार के लोग बल्कि पड़ोस के लोग भी इसमें सम्मिलित होते हैं.  लोग लोगों के सुचारू आवागमन के लिए लोग सड़कों सहित अपने आसपास के इलाकों को साफ करते हैं। लोग छठ घाटों और क्षेत्र को विभिन्न रंगीन रोशनी के साथ डिजाइनर द्वारों से भी सजाते हैं।

संध्या अर्घ्य और उषा अर्घ्य देने के लिए लोग हमेशा छठ घाटों को रंगीन और प्रभावशाली तरीके से सजाते हैं। यह एकमात्र ऐसा त्यौहार है जिसमें सूर्य देव की पूजा की जाती है और उन्हें अर्घ्य दिया जाता है।

लोग, आमतौर पर परिवार के पुरुष सदस्य अपनी उपलब्धता के अनुसार नदियों/तालाबों के किनारे छठ घाटों को सजाते हैं। क्षेत्र के पास नदियों/तालाबों के अभाव में, आजकल लोग छठ पूजा मनाने के लिए अपने घरों की छत पर छठ घाट बनाते हैं और उसे सजाते हैं।

छठ घाटों को सजाने के लिए लोग केले के पेड़ों का इस्तेमाल करते हैं, जो हर हिंदू अवसर पर बहुत शुभ माना जाता है। हालाँकि, अब समय बदल गया है और आज लोग छठ घाटों को नया रूप देने के लिए रंगीन रोशनी और अन्य चीजों सहित नवीनतम तकनीकों का उपयोग करते हैं।

घाटों को खूबसूरत लुक देने के लिए लोग छठ घाटों पर अलग-अलग रंगों की मदद से रंगोली भी बनाते हैं।

कहने की जरूरत नहीं है कि छठ पूजा की उत्पत्ति मूल रूप से बिहार से हुई है, लेकिन अब छठ पूजा भारत के लगभग सभी हिस्सों में मनाई जाती है। बिहार ही नहीं, झारखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और नेपाल देश को ऐसा सशक्त क्षेत्र कहा जा सकता है, जहां छठ पूजा पूरे उत्साह के साथ मनाई जाती है।

No comments:

Post a Comment